हमारे शरीर का डाइजेस्टिव सिस्टम काफी कॉम्प्लेक्स होता है और अगर आपकी आंतें ठीक नहीं हैं तो आपके डाइजेस्टिव प्रोसेस में काफी कुछ बदल सकता है। पेट और खानपान से जुड़ी ज्यादातर बीमारियां हमेशा डाइजेस्टिव सिस्टम की गड़बड़ी से होती हैं। आयुर्वेद में आंतों की सेहत को लेकर काफी कुछ कहा जाता है और आयुर्वेद की मानें तो अगर आंतें सही हैं तो आपकी सेहत भी सही रहेगी और बीमारियां दूर भागेंगी।

आंतों को सिर्फ खाना पचाने का जरिया ना समझें बल्कि ये शरीर से टॉक्सिन निकालने का भी काम करती हैं और ये डाइजेस्टिव सिस्टम को ट्रैक पर रखती हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टर दीक्षा भावसार ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर आंतों के स्वास्थ्य से जुड़ी बहुत सारी टिप्स शेयर की हैं।

किन कारणों से खराब होती है आंतों की सेहत?

आंतों की सेहत के खराब होने के कई कारण हो सकते हैं जो सीधे तौर पर हमारे डाइजेस्टिव सिस्टम पर असर करते हैं।

  • स्ट्रेस
  • एंग्जायटी
  • गलत समय पर खाना-पीना
  • बहुत लंबे समय के लिए उपवास रखना
  • अपनी प्राकृतिक इच्छाओं को पूरा ना करना
  • नींद सही तरह से ना लेना
  • जंक फूड और प्रोसेस्ड फूड को ज्यादा खाना
  • बिल्कुल एक्सरसाइज ना करना
  • कम पानी पीना
  • खराब लाइफस्टाइल जीना
  • खाना ठीक से ना चबाना
  • जरूरत से ज्यादा स्मोकिंग और अल्कोहल का सेवन
  • जरूरत से ज्यादा नॉनवेज खाना
gut health management

इसे जरूर पढ़ें- पाचन तंत्र ठीक से नहीं कर रहा है काम, इन 5 संकेतों से जानें

ये तो थे वो कारण जिनकी वजह से आपकी आंतों में समस्या हो सकती है, लेकिन इसकी जगह आप कुछ चीज़ों का ध्यान रखने से अपने शरीर को थोड़ा बेहतर बना सकते हैं। इसके लिए आपको अपनी लाइफस्टाइल की आदतें बदलनी होंगी, स्लीपिंग पैटर्न्स बदलने होंगे, एक्सरसाइज शेड्यूल बदलना होगा, अपना स्ट्रेस मैनेज करना होगा।

खाना-खाने के पैटर्न को बदलिए-

आपको खाना खाते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना होगा और नियम बनाने होंगे। 

  • खाना सिर्फ तभी खाएं जब भूख लगे
  • शांत और आरामदायक जगह में खाना खाएं
  • सही मात्रा में खाएं
  • गर्म खाना खाएं
  • सही क्वालिटी का खाना खाएं
  • विरुद्ध आहार से बचें
  • बहुत तेज न खाएं
  • गलत समय पर खाना खाने से बचें 
 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Dr Dixa Bhavsar (@drdixa_healingsouls)

 

अपनी डेली डाइट लेते समय ये बातें याद रखें- 

अगर आप अपना मील प्लान कर रहे हैं तो अपनी दैनिक डाइट में कुछ खास तरह की बातों का ध्यान रखें। 

  • अपने आहार में सभी 6 स्वाद शामिल करें।
  • सोने से 3 घंटे पहले खाना बंद कर दें।
  • सुबह और शाम के खाने के बीच हर्बल टी का इस्तेमाल करें।
  • लंच टाइम में ही सबसे हैवी खाना खाएं। 
  • अपने डेली रूटीन में ये ब्रीदिंग एक्सरसाइज और डेली रूटीन शामिल करें- 
  • आपको रोज़ाना कुछ मूवमेंट एक्सरसाइज और कुछ ब्रीदिंग रूटीन जरूर फॉलो करने चाहिए।

 एक्सरसाइज- 

  • योगा जरूर करें।
  • साइकलिंग की मदद लें।
  • हर रोज़ वॉक जरूर करें।
  • स्ट्रेंथ ट्रेनिंग मदद कर सकती है।
  • पिलाटेज मदद कर सकते हैं।
  • स्विमिंग आपकी मदद कर सकती है। 

ब्रीदिंग वर्क- 

  • मेडिटेशन करें।
  • प्राणायाम जैसे अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भ्रामरी करें। 
gut health for diet

इसे जरूर पढ़ें- अगर आप भी हैं PCOS से परेशान तो बिल्कुल ना करें ये काम 

गैजेट्स को रखें दूर- 

जब हम सोने जाते हैं तो हमेशा फोन को अपने पास रखते हैं और ये ना सिर्फ आंखों के लिए खराब है बल्कि इससे हमारी स्लीप साइकल भी खराब होती है। आप मेडिटेशन करें, किताब पढ़े, प्राणायाम करें, परिवार से बात करें, लेकिन सोने से 1 घंटे पहले गैजेट्स से दूर रहें। 

Recommended Video

नींद का ख्याल जरूर रखें- 

अगर आपको लगता है कि बिना नींद लिए आप अपनी हेल्थ को सुधार सकते हैं तो ये गलत है। नींद लेने से आपकी आंतों की सेहत भी ठीक होती है। आप कोशिश करें कि 10 बजे तक बिस्तर पर चले जाएं और आधी रात के बाद कभी न सोएं। 

सही नींद लेने से लिवर डिटॉक्स होता है और हार्मोन का बैलेंस भी बना रहता है। ये स्ट्रेस को कम करने के लिए जरूरी है और एंग्जाइटी की समस्या भी कम होती है। 

ये सारे टिप्स आपकी आंतों के स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकते हैं। ये सभी जेनेरिक टिप्स हैं जो अधिकतर लोगों की मदद कर सकते हैं, लेकिन अगर आपको कोई बीमारी है या फिर आपको किसी तरह की कोई समस्या महसूस हो रही है तो आप किसी भी तरह के लाइफस्टाइल या डाइट से जुड़े बदलाव से पहले डॉक्टर से बात जरूर करें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।