पाचन तंत्र शरीर का जटिल और चौड़ा भाग है। यह मुंह से लेकर मलाशय तक होता है। पाचन तंत्र का मुख्य कार्य कचरे से छुटकारा पाना और शरीर को महत्वपूर्ण पोषक तत्वों और मिनरल्‍स को अवशोषित करने में मदद करना है।

आंत हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है और इम्‍यून सिस्‍टम, मूड, मेंटल हेल्‍थ, ऑटोइम्‍यून डिजीज, एंड्रोक्राइन डिजीज, स्किन कंडीशन्‍स और अन्य चीजों के बीच कैंसर से जुड़ी हुई है। डॉक्टर, आंत की देखभाल के महत्व पर जोर देते हैं, क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य का प्रवेश द्वार है। अधिकांश बीमारियां आंत में उभरती हैं, जो पाचन तंत्र का एक प्रमुख घटक है। इसके कामकाज में अनियमितता हमारे पाचन तंत्र के ठीक से काम न करने का सबसे आम कारण है।

इसमें शामिल विभिन्न अंगों और हमारे पाचन तंत्र द्वारा निभाई गई कई भूमिकाओं को देखते हुए, इसके स्वास्थ्य को बनाए रखना महत्वपूर्ण है। लेकिन कुछ संकेत ऐसे हैं जो अहेल्‍दी आंत का सुझाव देते हैं और जिन्हें अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। इसकी जानकारी हमें पोषण विशेषज्ञ और प्रमाणित आयुर्वेदिक चिकित्सक सोनम के इंस्‍टाग्राम से मिली है। इस आर्टिकल में 5 संकेत दिए गए हैं कि आपका पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर रहा है - और इसे कैसे ठीक करें?

गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज

हार्ट बर्न की समस्‍या कई (अधिकांश) वयस्कों को परेशान करती है। इसके लक्षणों में- 

  • सीने में बेचैनी
  • निगलने में कठिनाई
  • ड्राई खांसी
  • मुंह का खट्टा स्वाद
  • गले में खराश शामिल हैं।

आईबीएस

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम, पाचन तंत्र की क्रोनिक सूजन है। आईबीएस दो प्रकार से बना है; क्रोन की बीमारी और अल्सरेटिव कोलाइटिस। क्रोन के लक्षणों में पेट दर्द, दस्त, बुखार, और वजन घटाने शामिल हैं। अल्सरेटिव कोलाइटिस के लक्षणों में क्रोन के लक्षण शामिल हैं, लेकिन इसमें खूनी मल, कुपोषण और मलाशय में दर्द भी शामिल हो सकते हैं।

पुरानी कब्ज

signs digestive system is not working properly

कब्ज जैसी परेशानी पाचन तंत्र के खराब होने का लक्षण है। ये भोजन को पचाने और हमारे शरीर से अपशिष्ट को खत्म करने में कठिनाइयों को पूरा करते हैं। जब आपका पाचन तंत्र स्वस्थ होगा, तो इनमें से कोई भी आपके दैनिक कामकाज को बाधित नहीं करेगा।

इसे जरूर पढ़ें:डाइजेशन को मजबूत बनाती हैं ये जड़ी-बूटियां

फूड इनटोलरेंस

यदि आपका शरीर कुछ फूड्स खाने के बाद अजीब तरह से कार्य करने लगता है, तो आपका पेट आपके पेट में जो कुछ भी डालता है, उसके प्रति आपका पेट इनटोलरेंस हो सकता है। सीलिएक रोग एक प्रकार का फूड इनटोलरेंस है जो ग्लूटेन खाने पर पाचन समस्याओं का कारण बनता है। इसके लक्षणों में शामिल हैं- 

  • पेट में मरोड़
  • सूजन
  • दस्त
  • सिरदर्द
  • पेट में जलन
  • चिड़चिड़ापन
  • गैस
  • उल्टी
 

Recommended Video

अन्य गंभीर संकेत

Common digestive disorders

  • मल में खून
  • बार-बार उल्टी होना (कभी-कभी रोजाना)
  • लगातार पसीना आना
  • पेट में गंभीर ऐंठन
  • अचानक वजन कम होना

आप आयुर्वेद में अपने शरीर के प्रकार के अनुसार जीवनशैली में बदलाव के साथ पाचन समस्याओं को दूर करने में सक्षम हो सकते हैं। पाचन तंत्र के कुछ रोग दीर्घकालिक हो सकते हैं, लेकिन कुछ दवाएं और प्राकृतिक जड़ी-बूटियां कई लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com