घर हमारी शख्सीयत का आईना है। हम असल जिंदगी में कैसे हैं, इसका अंदाजा हमारा घर देखकर लग जाता है। इसीलिए कुछ महिलाएं घर की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देती हैं। लेकिन क्या आप जानती हैं कि कई सफाई पसंद महिलाओं की आदतें भी एक जैसी होती हैं। अगर घर की साफ-सफाई आपकी प्रायोरिटी लिस्ट में नहीं रहती तो आप इन आदतों को अपनाकर अपना घर साफ-सुथरा और सिस्टमेटिक रख सकती हैं।

सफाई को देती हैं सबसे ज्यादा अहमियत

सफाई पसंद महिलाएं घर साफ रखने में एंजॉय करती हैं। सफाई के काम को वे किसी तरह से खराब नहीं मानती हैं और न ही सफाई करने में किसी तरह की शर्म महसूस करती हैं। चाहे कोई स्पेशल मौका हो या फिर रूटीन लाइफ, वे नियमित रूप से अपने घर की साफ-सफाई करती हैं, फ्लोर और फर्नीचर की क्लीनिंग करती हैं और रसोई में साफ-सफाई का खास खयाल रखती हैं।

home cleaning inside

हर दिन सफाई का खयाल

सफाई पर ज्यादा अटेंशन देने वाली महिलाएं किचन और घर की क्लीनिंग के लिए अलग से टाइम-टेबल सेट करती हैं। मसलन, सुबह सबसे पहले रसोई की सफाई की प्लानिंग होती है, रैक और अलमारी की सफाई हफ्ते में एक बार होती है, पूरे घर के फर्श की धुलाई या फिर सोमवार, बुधवार और शनिवार को वैक्यूम क्लीनर से घर की सफाई। यह कतई जरूरी नहीं है कि आप घर की साफ-सफाई के लिए दूसरे जरूरी काम छोड़ दें, लेकिन इसे आपको अपनी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा जरूर बनाना चाहिए। यानी जैसे आप बिजी रहने के बावजूद रोज ब्रश करती हैं, नहाती हैं, ठीक वैसे ही घर की सफाई भी रखें। इसका फायदा यह होगा कि आप खुद भी ऑर्गनाइज्ड रहेंगी और आपका घर भी।

 

वक्त की कीमत जानती हैं ऐसी महिलाएं

सफाई पसंद महिलाएं बहुत आराम-तलबी में वक्त नहीं बितातीं। उन्हें समय की कीमत का बखूबी अंदाजा होता है। सफाई पसंद महिलाएं लंबे लंबे टीवी शो देखने या फिर वक्त बर्बाद करने वाले किसी काम में इन्वॉल्व होने से बचती हैं। ऐसी महिलाएं ध्यान भटकाने वाली चीजों से इतर घर के अहम कामों को निपटाते हुए सफाई पर ध्यान देती हैं।

 

घर के दूसरे सदस्यों से भी लेती हैं मदद

सफाई पसंद महिलाएं यह बात अच्छी तरह जानती हैं कि पूरे घर की सफाई उनके अकेले के बूते की बात नहीं है। इसीलिए वे घर के सभी सदस्यों को सफाई से जुड़ी जिम्मेदारी सौंप देती हैं। मसलन, घर के कुछ सदस्यों को डस्टिंग का काम दिया जाता है तो कुछ को जूते-चप्पल अरेंज करने का, खाना खाने के बाद सभी को अपनी प्लेट से जूठी सामग्री हटाकर उसे पानी से धो देने का काम भी बता दिया जाता है। इसी तरह कुछ सदस्यों को झाडू लगाने तो कुछ को बर्तन लगाने का काम दिया जाता है। अगर घर के सभी सदस्य मिलकर काम करते हैं तो घर साफ-सुथरा और व्यवस्थित रखना बहुत आसान हो जाता है

शॉपिंग सोच-समझ कर

सफाई पसंद महिलाएं यूं ही खरीदारी नहीं करतीं, बल्कि वे कोई भी सामान खरीदने से पहले सोचती हैं कि उसका यूजे़ज कैसा होगा और उसकी व्यवस्था कैसे की जाएगी। किसी सामान की तात्कालिक जरूरत न होने पर तो वे उसे फेंकती नहीं, बल्कि व्यवस्थित तरीके से रख देती हैं, ताकि वक्त पड़ने पर उसका इस्तेमाल हो सके। 

इसे जरूर पढ़ें: झाडू-पोछा लगाना प्रेग्‍नेंसी में सही है या नहीं, जानें एक्‍सपर्ट की राय

सफाई का फिलॉसफी से कनेक्शन

सफाई-पसंद महिलाएं साफ-सुथरी रहने की अपनी जीवनशैली को मजबूती देने के लिए इसे अपनी फिलॉसफी का हिस्सा बना लेती हैं। जैसे कि अगर आप हर सामान के लिए जगह सुनिश्चित कर देती हैं, तो घर अपने आप व्यवस्थित हो जाएगा। सफाई पसंद महिलाओं की विशेषताओं से प्रेरणा लेकर आप भी अपने आशियाने को साफ-सुथरा और खूबसूरत बनाने का प्रयास शुरू कर सकती हैं। मन खुश रहेगा और घर रहेगा चमकदार।

इसे जरूर पढ़ें: घर के आंगन में ये 5 पेड़-पौधे लगाएंगी तो बनी रहेंगी खुशियां

सफाई के सामान में भी होती है दिलचस्पी

ऐसी महिलाएं बाजार में आने वाले साफ-सफाई से जुड़े नए सामानों पर खास ध्यान देती हैं जैसे कि डिस्पोजेबल क्लीनिंग वाइप, हैंडल वाले पोंछे, मल्टी क्लीनिंग टूल आदि। अगर कोई इंस्ट्रूमेंट उनके सफाई के काम को आसान बना देता है तो उसे वे जरूर आजमाना चाहती हैं।