एक दिन मैं अपने पड़ोस में रहने वाली अपनी सहेली शीला के घर गई। वह प्रेग्‍नेंट हैं और कुछ ही दिनों में उसकी डिलीवरी होने वाली है। मैंने देखा कि वह अपने घर में झाडू-पोछा लगा रही थी। यह देखकर मेरे से रहा नहीं गया और मैंने उससे पूछ ही लिया, 'अरे तू ये क्‍या कर रही हैं। प्रेग्‍नेंसी के आखिरी दिन हैं और तू बैठकर झाडू पोछा लगा रही हैं।' तब उसने मुझे बताया कि ऐसा करने के लिए उसकी सास ने बोला है ताकि उसकी नॉर्मल हो। लेकिन यह बात मुझे हजम नहीं हुई। और इस बारे में मैंने लेडी डॉक्‍टर से बात की। अगर आप भी इस बात को लेकर दुविधा में हैं कि प्रेग्‍नेंसी में झाडू-पोछा लगाना चाहिए या नहीं तो आपकी यह दुविधा इस आर्टिकल को पढ़कर दूर हो जाएगी।

जी हां मां बनना एक सुखद अहसास है, मगर ये जितना सुखद है उतना ही मां के लिए कष्टकारी भी है। क्‍योंकि इस समय हर महिला को फूंक-फूंक कर कदम रखता पड़ता है ताकी मां और बच्‍चे को किसी भी तरह की परेशाना का सामना ना करना पड़ें। क्‍योंकि छोटी सी गलती मां और बच्‍चे दोनों के लिए खतरा पैदा कर सकती है। ऐसे में अगर बात की जाए कि क्या इस समय प्रेग्‍नेंट महिला का झाड़ू या पोछा लगाना सेफ है? इस बारे मं जानने के लिए हमने डॉक्‍टर अर्चना से बात की। तब उन्‍होंने हमें बताया-  

prgnant mopping the floor in

क्‍या कहती हैं हमारी एक्‍सपर्ट

अर्चना धवन बजाज, कंसल्टेंट ऑब्स्टीट्रीशियन, गायनेकोलॉजिस्ट एंड आईवीएफ एक्सपर्ट, नर्चर आईवीएफ दिल्ली बताती हैं कि 'पहली तिमाही में झाडू पोछा लगाने से बचना चाहिए। लेकिन आखिरी तिमाही में झाडू पोछा लगाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इससे पेल्विक मसल्‍स की अच्‍छे से एक्‍सरसाइज हो जाती है और वह थोड़ा रिलैक्‍स और फ्लेक्सिबल हो जाती है, जिससे डिलीवरी में आसानी होती है। लेकिन कुछ बातों का ध्‍यान रखना बेहद जरूरी है। सबसे पहले सिर्फ उन महिलाओं को झाडू पोछा लगाना चाहिए जो इसकी यूज टू हो। यानि वह प्रेग्‍नेंसी से पहले भी यह काम करती हो। इसके अलावा जुड़वा बच्‍चे, ब्‍लीडिंग की समस्‍या या वेजाइना के मुंह के छोटा होने या भ्रूण के नीचे होने पर बैठकर झाडू-पोछा लगाने से बचना चाहिए। इसके अलावा एक और बात का ध्‍यान रखना बहुत जरूरी है कि जिस समय आप यह काम कर रही हो तो आपके साथ कोई ना कोई बड़ा मौजूद जरूर होना चाहिए। ताकि कोई भी परेशानी होने जैसे बैलेंस बिगड़ने पर वह आपकी हेल्‍प कर सकें।'

Read more: कहीं दर्द की दवा गर्भवती और उसके बच्‍चे के लिए ना बन जाए 'दर्द'

प्रेग्‍नेंसी में झाडू लगाना

प्रेग्‍नेंसी में झाड़ू लगाना सेफ माना है, क्योंकि इस समय आप जितना एक्टिव रहेंगी उतना ही आपके लिए अच्छा माना जाता है। क्योंकि, झाड़ू लगाने से आपके बॉडी की एक्सरसाइज होती है जो आपकी मसल्‍स को फ्लेक्सिबल बनाता है। लेकिन, कुछ परिस्थितियों में डॉक्टर आपको किसी भी तरह की कोई एक्टिविटी करने से मना करते हैं। जब आपमें कोई गर्भावस्था से सम्बंधित जटिलताएं हो। तब ऐसे में कोई भी काम या एक्टिविटी करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें। लेकिन इसके अलावा जो बातें हैं जिनका ध्यान प्रेग्‍नेंट महिला को जरूर रखना चाहिए।

prgnant mopping the floor in

कुछ बातों को रखें ख्‍याल

  • अगर आप गर्भावस्था में झाड़ू या पोछा लगा भी रही हों तब इस बात का जरूर ध्यान रखें कि पोछा लगाने के लिए किसी भी केमिकल युक्त पदार्थों का प्रयोग ना करें बल्कि आप पानी में नींबू, नीम, या नमक डालकर पोछा लगा सकती हैं। क्योंकि, ये चीजें आपके शिशु को नुकसान नहीं पहुंचा सकती हैं।
  • किसी भी तेज खूशबू वाली चीजों से सफाई करने से बचें। हो सकता है कि इसकी स्‍मेल से आपका उल्‍टी की समस्‍या होने लगे।
  • इस समय आप जरूरत से ज्यादा और तेज एक्सरसाइज ना करें। यह आपके और आपके होने वाले बच्‍चे के लिए खतरा पैदा कर सकती है। लेकिन, झाड़ू या पोछा लगाना किसी भी सूरत में गलत नहीं है। लेकिन, अगर आपको धूल से एलर्जी है तब झाड़ू लगाने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Read more: ये हैं वो 5 कारण जिस वजह से प्रेग्नेंसी टाइम में जरूर पीना चाहिए आम पन्ना

  • एक्टिव रहना सही है, लेकिन जब आप जरूरत से ज्यादा अपने बॉडी को थकाती हैं तो इससे आपकी परेशानी बढ़ सकती है। खासकर, इस दौरान अगर आपमें ब्‍लीडिंग, ऐंठन, थकान, मतली, चक्कर आना, शरीर के तापमान में अचानक परिवर्तन जैसी कोई समस्या होने लगे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • इन दिनों ऊंचाई पर रखी चीजों की सफाई करने या फिर किसी भारी सामान को उठाने की कोशिश बिल्‍कुल ना करें। क्योंकि, इससे गर्भपात का खतरा हो सकता है।
  • इसके अलावा, सबसे महत्वपूर्ण बात, प्रेग्‍नेंसी में महिलाओं को उन चीजों को साफ करने से बचना चाहिए जिससे इंफेक्‍शन होने का खतरा रहता है।

मेरी तरह अब आपको भी समझ में आ गया होगा कि प्रेग्‍नेंसी में झाडू पोछा लगाना चाहिए या नहीं।

  • Pooja Sinha
  • Her Zindagi Editorial