अच्छा, अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि किन फूड्स को हर रोज भोजन में शामिल करने से बचाना चाहिए, तो फिर आपका जवाब क्या हो सकता है? शायद आप इस सवाल का सटीक जवाब न दें सके। लेकिन, डिनर टेबल पर मौजूद कुछ ऐसे फूड्स होते हैं, जिन्हें आयुर्वेद के अनुसार हर रोज शामिल करने से बचाना चाहिए। आयुर्वेद कुछ ऐसे फूड्स के बारे में भी जिक्र है जिसे किसी भी उम्र के लोगों को हर रोज खाने से बचाना चाहिए। आयुर्वेद की डॉक्टर वारालक्ष्मी yanamandra इसके बारे में बताने जा रही हैं कि किन फूड्स को हर रोज सेवन करने से बचना चाहिए, तो आइए जानते हैं।

दही 

curd to avoid eating daily as per ayurveda inside

भारतीय भोजन में हर रोज दही शामिल न हो, ऐसा बहुत कम ही देखा जाता है। सुबह में पराठे के साथ या दिन में दाल-चावल, और सब्जी के साथ दही आदि चीजें शामिल न हो तो काफी लोगों को भोजन करने का मन भी नहीं करता है। सुबह और शाम को दही न भी मिले तो डिनर के समय रोटी या चावल के साथ दही तो हर कोई पसंद करता है। लेकिन, डॉक्टर वारालक्ष्मी के अनुसार हर दिन दही को शामिल करने के बचना चाहिए क्योंकि, इससे बीमार होने का भी डर बना रहता है।

इसे भी पढ़ें: बार-बार मीठा खाने की जिद करता है बच्चा, तो कुछ इस तरह दें उसे हेल्दी ट्विस्ट

मांस और मछली 

foods to avoid eating daily as per ayurveda inside

अगर आयुर्वेद से हटकर भी देखा जाए तो इसका कई जगह जिक्र मिलता है कि हर रोज मांस और मछली को भोजन में शामिल करने से बचाना चाहिए। डॉक्टर वारालक्ष्मी के अनुसार मीट या बीफ के साथ-साथ पोर्क और मछली को हर दिन भोजन में शामिल करने से बचना चाहिए। (पाचन क्रिया को सही रखने के उपाय

सूखी सब्जियां 

dry foods to avoid eating daily as per ayurveda inside

भारतीय समाज में आज से नहीं बल्कि वर्षों से सूखी सब्जियों का इस्तेमाल देखा जाता है। खासकर पूर्व भारत, दक्षिण भारत और उत्तर भारत में सब्जियों को धूप में सूखने के बाद जार में बंद कर देते हैं और कुछ महीने बाद इस्तेमाल करते हैं। लेकिन, डॉक्टर वारालक्ष्मी के अनुसार सूखी सब्जियां को हर दिन भोजन में इस्तेमाल करने से आपको परेशानी हो सकती हैं।  ऐसे में आप हर रोज इसे भोजन में शामिल करने से बचें। 

Recommended Video

अल्कलाइन फूड्स 

alkine to avoid eating daily as per ayurveda inside

सूखी सब्जियों के अलावा अल्कलाइन फूड्स को भी हर रोज भोजन से शामिल करने से बचाना चाहिए। शायद, आप ये सोच रही होंगी कि अल्कलाइन फूड्स का क्या मतलब होता है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मांस, मिठाई, कैफीन आदि कई चीजें इस लिस्ट में शामिल है। इसके स्थान पर आप हरी सब्जियां जैसे- गाजर, पत्ता गोभी, शिमला मिर्च आदि फूड्स को भोजन में शामिल कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: फ्रूट्स खाने के नियमों के बारे में क्या कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें


इन फूड्स को भी शामिल करने से बचें 

दही, अल्कलाइन फूड्स, मांस-मछली और सूखी सब्जियां  के अलावा भी कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हें हर रोज भोजन में न शामिल करने की सलाह डॉक्टर वारालक्ष्मी देती हैं। उनके अनुसार क्रीम, चीज,  डेयरी स्वीट्स, सुखा मीट आदि चीजों को हर रोज भोजन में शामिल करने से बचाना चाहिए। (इन समस्याओं से हैं पीड़ित, ना करें मखाने का सेवन

यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik)