किसी भी व्यक्ति को सेहतमंद रहने के लिए फल कितना ज़रूरी है ये लगभग हम सभी जानते हैं। कई बार सेहत को दुरुस्त रखने के लिए डॉक्टर भी अलग-अलग तरह के फलों का सेवन करने के लिए निर्देश देते हैं। फल के अलावा इसका जूस भी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है। सेब, केला, नारंगी, अंगूर, बेर आदि हजारों फल इस लिस्ट में शामिल है। लेकिन, क्या आप ये बता सकते हैं कि किस फल को कब खाना चाहिए या फिर किस फल को अन्य फल के साथ सेवन नहीं करना चाहिए। शायद, आपके पास इसका जवाब नहीं हो लेकिन, आयुर्वेद की डॉक्टर वारालक्ष्मी yanamandra फ्रूट्स खाने के नियमों के बारे में कुछ जानकारी दे रही हैं, तो आइए जानते हैं।

फल खाने का बेहतर समय

ayurvedic guidelines of eating fruits inside

वैसे तो फल खाने का कोई समय निर्धारित नहीं है। जब भी किसी को मन करता है आसानी से खा लेता है लेकिन, डॉक्टर वारालक्ष्मी के अनुसार फल खाने का समय अच्छा समय है खाली पेट। यानि जब आप सुबह में उठे तो फ्रेश होने के बाद कुछ फल का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा उनके अनुसार दोपहर में कुछ खाने बाद भी फलों का सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: बार-बार मीठा खाने की जिद करता है बच्चा, तो कुछ इस तरह दें उसे हेल्दी ट्विस्ट

खट्टे फल और डेयरी प्रोडक्ट्स 

about ayurvedic guidelines of eating fruits inside

ये तो लगभग हम सभी जानते हैं कि किसी भी खट्टे चीज को किसी भी चीज के साथ मिक्स करके खाने से बचाना चाहिए। ठीक वैसे ही आयुर्वेद के अनुसार खट्टे फलों को डेयरी प्रोडक्ट्स के साथ मिक्स करके खाने की आदत को गलत मानता है। ऐसे में अगर आप किसी खट्टे फल को दही के साथ सेवन करने जा रहे हैं, तो आपको इस गलती को करने से बचना चाहिए। 

Recommended Video

फलों को करें मिक्स 

tips to ayurvedic guidelines of eating fruits inside

जी हां, कई लोग ऐसे होते हैं जो अलग-अलग फलों को अलग-अलग समय पर सेवन करते हैं, हालांकि, ये भी सही है। लेकिन, डॉक्टर वारालक्ष्मी के अनुसार अगर दो फलों का टेस्ट एक जैसा है तो आप मिक्स करके सेवन कर सकते हैं। यानि सेवा, केला और मीठे अंगूर को मिक्स करके सेवन कर सकते हैं। लेकिन, किसी खट्टे फलों के साथ मीठे फलों का सेवन करने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: किस भोजन से रात में दूरी बनाने के लिए कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें

पके फल और  कच्चे फल

know ayurvedic guidelines of eating fruits inside

ये तो लगभग हम सभी जानते हैं कि कच्चे फलों के मुकाबले पके हुए फल सेहत के लिए कितना फायदेमंद होते हैं। कच्चे फलों के मुकाबले पके फल जल्दी ही डाइजेस्ट हो जाते हैं इसलिए सबसे अधिक पके फलों का सेवन करने के लिए बोला जाता है। वारालक्ष्मी के पोस्ट के अनुसार भी कोल्ड और कच्चे फलों के मुकाबले पके हुए फल सेहत के लिए अच्छे होते हैं और आसानी से पच भी जाते हैं। (पाचन क्रिया को सही रखने के उपाय) इसके अलावा किसी भी फल को अच्छे से साफ करने के बाद ही सेवन करना चाहिए।     

यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik)