बुजुगों की समस्‍या समझी जाने वाली अर्थराइटिस आज जवां लोगों को भी परेशान कर रही हैं खासतौर पर महिलाओं को। और सर्दियों की आहट के साथ ही अर्थराइटिस से परेशान महिलाओं की समस्‍या और भी बढ़ जाती है। जी हां जैसे-जैसे मौसम में ठंडक बढ़ने लगती है, वैसे-वैसे जोड़ों के दर्द की परेशानियां बढ़ने लगती हैं। वास्तव में सर्दियों में फिजीकल एक्टिविटी में कमी के चलते जोड़ों का दर्द और भी बढ़ जाता है। लेकिन अगर अपने खानपान में थोड़ी सी सावधानी बरती जाएं तो इस दर्द से राहत पाई जा सकती हैं। Gympik की इन-हाउस Nutritionist/ Dietician सुजाता शेट्टी कहती हैं कि अर्थराइटिस के लक्षण और दर्द से छुटकारा दिलाने में ग्रीन वेजिटेबल बहुत हेल्‍पफूल होती हैं। खासतौर पर गहरे हरे रंग की पत्‍तेदार सब्जियां अर्थराइटिस के दर्द को कम करती हैं।

क्‍या है अर्थराइटिस

जोड़ वह जगह होती है जहां पर दो हड्डियों का मिलन होता है जैसे कोहनी या घुटना। कुछ तरह के अर्थराइटिस में जोड़ों की बहुत ज्यादा क्षति होती है। अर्थराइटिस जोड़ों के टिश्‍युओं में जलन और क्षति के कारण होता है। जलन के कारण ही टिश्‍यु रेड, दर्दनाक और सूज जाते हैं। यह सारी समस्या यह दर्शाती है कि आपके जोड़ों में कोई समस्‍या है।

अर्थराइटिस के लक्षण

  • शुरुआत में मरीज को बार-बार बुखार आता है, मसल्‍स में पेन रहता है, हमेशा थकान महसूस होती है, भूख कम हो जाती है और वजन कम होने लगता है।
  • शरीर के तमाम जोड़ों में इतना दर्द होता है कि उन्हें हिलाने पर ही चीख निकल जाए, खासकर सुबह के समय।
  • बॉडी गर्म हो जाती है, लाल चकत्ते पड़ जाते हैं और जलन की शिकायत भी होती है।
  • जोड़ों में जहां-जहां दर्द होता है, वहां सूजन आना भी इस बीमारी में आम है।
  • जोड़ों के इर्द-गिर्द सख्त गोलाकार गांठें जैसी उभर आती हैं, जो हाथ पैर हिलाने पर चटकती भी हैं।
  • शरीर के किसी भी अंग को हिलाने पर दर्द, जलन और सूजन की तकलीफ झेलनी पड़ती है।

arthritis pain health inside image

अर्थराइटिस का दर्द दूर करें ब्रोकली और पालक

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्‍ट एंजेलिया के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि ब्रोकली में ऐसे तत्‍व पाए जाते हैं जो अर्थराइटिस से बचाने या बीमारी बढ़ने से रोकने में उपयोगी हो सकते है। ब्रोकली में सल्‍फोराफेन नामक तत्‍व पाया जाता है। सल्फोराफेन जोड़ों की रक्षा में काफी मददगार है। सल्फोराफेन हड्डियों में होने वाले गठिया रोग के लिए जिम्मेदार जोड़ों में उपास्थियों की क्षति को कम कर सकता है। Nutritionist/ Dietician सुजाता शेट्टी ने ब्रोकली को एंटी अर्थराइटिस सब्जी बताया है कि जो वजन घटाने में भी मददगार है।

Read more :  घुटनों के दर्द को ना करें नजरअंदाज, है ये बड़ी बीमारी का संकेत

एंटीऑक्‍सीडेंट से भरपूर

बॉडी में एनर्जी production और अन्‍य मेटाबोलिक processes हानिकारक byproducts उत्‍पन्‍न करती है जिसे फ्री रेडिकल्‍स कहा जाता है जो सेल्‍स को नुकसान पहुंचाते हैं। फ्री रेडिकल्‍स के कारण अर्थराइटिस की समस्‍या होती है और इससे होने वाली सूजन जोड़ो पर हमला करती है। हरी और पत्‍तेदार सब्जियां जैसे ब्रोकली और पालक के अलावा ब्रसेल्स स्प्राउट्स, Swiss chard और bok choy इस समस्‍या से बचने में हमारी मदद करती है। इन सब सब्जियों में मौजूद एंटी-ऑक्‍सीडेंट जैसे विटामिन ए, सी और के सेल्‍स की फ्री रेडिकल्‍स से होने वाले damage से रक्षा करते हैं। इसके अलावा इन फू्ड्स में कैल्शियम भी भरपूर मात्रा में होता है।

arthritis pain health inside image

अर्थराइटिस के प्रभाव को कम करती हैं ये सब्जियां

ब्रोकली, पालक, पत्तागोभी, फूल गोभी, अदरख और चुकंदर इसके प्रभाव को कम करती हैं। इसके अलावा हल्दी और विटामिन सी के फल जैसे संतरा, नींबू, किन्नू और अंगूर फलों का सेवन कर अर्थराइटिस के दर्द से राहत पा सकती हैं।
 
अगर आप भी अर्थराइटिस के दर्द से बचना चाहती हैं तो आज से ही शुरू कर दें ये चीजें खाना

Read more : सिर्फ ये 5 तरह के बीज खाएंगी तो जिंदगी भर रहेंगी हेल्दी