जब महिलाएं एक खास उम्र में पहुंचती हैं, तब उनके पीरियड्स बंद हो जाते हैं। यह एक महिला के जीवन में रिप्रोडक्टिव स्‍टेज के अंत का प्रतीक है। मेनोपॉज के दौरान एक महिला के शरीर में बहुत सारे हार्मोनल परिवर्तन होते हैं। यह बहुत सारे लक्षणों को जन्म देता है जैसे कि रात को पसीना आना, हॉट फ्लैशेज, वेजाइना में ड्राईनेस, अनिद्रा, मूड में बदलाव, सेक्‍शुअल इच्‍छा में बदलाव आदि। कुछ महिलाएं मामूली लक्षणों का अनुभव करती हैं और कुछ महिलाएं समान लक्षणों को भी ज्‍यादा गंभीर रूप से महसूस करती हैं। लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि कुछ विटामिन्‍स मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं और महिलाओं के जीवन को बेहतर बना सकते हैं।

calcium minerals during menopause inside

शरीर में होने वाले हार्मोनल उतार-चढ़ाव मुख्य रूप से एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के लेवल में बाधा डालते हैं। इन हार्मोन्‍स में असंतुलन ऑस्टियोपोरोसिस, मूत्र असंयम और दिल के रोगों जैसी समस्याओं का कारण बनता है। कुछ विटामिन्‍स कम एस्ट्रोजन के स्तर से उत्पन्न होने वाले समस्‍याओं को कम करने में मदद करते हैं। उन विटामिन्‍स में से कुछ हैं:

इसे जरूर पढ़ें:मेनोपॉज के दौरान होने वाली यूटेरिन फाइब्रॉएड्स की समस्‍या के बारे में लें सही जानकारी

कैल्शियम

हड्डियों को नुकसान से बचाने के लिए कैल्शियम एक आवश्यक विटामिन है। मेनोपॉज के दौरानजैसे ही हार्मोन का स्तर गिरता है, हड्डी की सेहत बिगड़ने लगती है। इसलिए डॉक्टर द्वारा निर्धारित आहार और सप्‍लीमेंट के माध्यम से कैल्शियम का लगातार सेवन सुनिश्चित करना जरूरी करना चाहिए।

विटामिन ए

विटामिन ए में यौगिकों का एक समूह शामिल होता है जिसे रेटिनोइड्स कहा जाता है। विटामिन ए, जब सबसे पहले बनता है तो रेटिनॉल के रूप में जाना जाता है और लिवर में जमा होता है। रेटिनॉल का उत्पादन तब होता है जब कोई पशु उत्‍पादों, बीटा-कैरोटीन से भरपूर फलों और सब्जियों और विटामिन ए से भरपूर सप्‍लीमेंट का सेवन करता है। विटामिन ए स्वस्थ हड्डियों के लिए एक उत्कृष्ट सप्‍लीमेंट है; हालांकि, बहुत ज्‍यादा मात्रा में इसका सेवन महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान फ्रैक्चर के जोखिम को ज्‍यादा बढ़ाने वाला माना जाता है।

विटामिन बी -12

यह पानी में घुलनशील विटामिन आमतौर पर कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता है और रेड ब्‍लड सेल्‍स, डीएनए उत्पादन, न्यूरोलॉजिकल फ़ंक्शन और हड्डी के स्वास्थ्य को बनाने के लिए आवश्यक है। शरीर में विटामिन-B12 की कमी डिप्रेशन, कनफ्यूजन, डिमेंशिया, थकान, कब्‍ज, और भूख न लगने जैसे समस्‍याओं को उत्‍पन्‍न कर सकती हैंं। खासतौर पर जो महिलाएं मेनोपॉज से गुजर रही होती हैं उन्‍हें डॉक्‍टर आमतौर पर विटामिन- B12 सप्‍लीमेंट्स लेने की सलाह देते हैं।

Recommended Video

विटामिन बी -6

यह विटामिन सेरोटोनिन पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो दिमाग के संकेतों को संचारित करने में मदद करता है। सेरोटोनिन का स्तर में उतार-चढ़ाव मेनोपॉज के दौरान महिलाओं में डिप्रेशन और ऊर्जा के नुकसान के लिए जिम्‍मेदार होता है।

calcium minerals during menopause inside

विटामिन डी

विटामिन डी का प्राथमिक स्रोत धूप है। विटामिन डी की कमी से हड्डियों के फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है, जिसके परिणामस्वरूप हड्डियों में नरमी आती है और दर्द होता है। हालांकि सूरज की रोशनी और आहार के माध्यम से इसे पर्याप्त मात्रा में लिया जाना संभव है, आमतौर डॉक्‍टर सप्‍लीमेंट लेने की सलाह भी देते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:मेनोपॉज के दौरान डिप्रेशन: महिलाओं के लिए सही जानकारी है बेहद जरूरी

विटामिन ई

यह विटामिन शरीर में सेल डैमेज को रोकने में मदद करता है। यह सूजन और तनाव को कम करने में मदद करता है और वजन बढ़ने, दिल के रोगों और डिप्रेशन के जोखिमों को कम करता है। मेनोपॉज के मामले में, दैनिक 15mg विटामिन लेने की सलाह दी जाती है।

calcium minerals during menopause inside

हालांकि इनमें से अधिकांश विटामिन्‍स मेनोपॉज के दौरान शरीर के समुचित रूप से कार्य करने के लिए आवश्‍यक होते हैं, मगर इन विटामिन्‍स की अधिक मात्रा कुछ विशेष समस्‍याओं का कारण बन सकती है। इसलिए आपको एक ट्रेन्‍ड मेडिकल प्रोफेशनल से परामर्श करना चाहिए और उनकी सलाह का पालन करते हुए अपने शरीर की आवश्‍यकतानुसार उचित विटामिन्‍स का सही मात्रा में सेवन करना चाहिए। 

एक्‍सपर्ट सलाह के लिए डॉक्‍टर शीला एचएस (एमडी (ओबीगायनी)) को विशेष धन्यवाद।

Reference:

https://www.healthline.com/health/menopause/vitamins-for-menopause#takeaway

https://www.webmd.com/menopause/ss/slideshow-menopause

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5445672/