मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को कई समस्‍याओं से दोचार होना पड़ता है। इन समस्‍याओं में यू‍टेरिन फाइब्रॉएड्स की समस्‍या भी शामिल है। इसलिए महिलाओं को इस बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। यूटेरिन फाइब्रॉएड्स, जिसे लियोमायोमास भी कहा जाता है, यह छोटे ट्यूमर हैं जो एक महिला के यूट्रस की सतह पर बढ़ते हैं। ये ट्यूमर कैंसरस नहीं होते हैं लेकिन कभी-कभी ब्लीडिंग, दर्द और अन्य असुविधाजनक लक्षण पैदा कर सकते हैं। वे आमतौर पर रिप्रोडक्टिव उम्र के दौरान महिलाओं में विकसित होते हैं, क्योंकि फाइब्रॉएड्स ओवरी से निकलने वाले हार्मोन एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन पर निर्भर होते हैं, लेकिन कुछ महिलाएं मेनोपॉज के दौरान और बाद में भी उनका अनुभव करती हैं। मेनोपॉज के बाद छोटे फाइब्रॉएड्स सिकुड़ सकते हैं, क्योंकि ओवेरियन एक्टिविटी की समाप्ति के कारण इन हार्मोन्स में गिरावट आ जाती है।

इसे जरूर पढ़ें: मेनोपॉज के दौरान डिप्रेशन: महिलाओं के लिए सही जानकारी है बेहद जरूरी

यूटेरिन फाइब्रॉएड्स जोखिम कारक

कुछ जोखिम कारक फाइब्रॉएड्स के विकास की संभावना को बढ़ा सकते हैं। उनमें शामिल है:

  • हाई ब्लड प्रेशर 
  • विटामिन डी का लो लेवल
  • फाइब्रॉएड्स की फैमिली हिस्ट्री 
  • मोटापा
  • वो महिला जो कभी प्रेग्नेंट नहीं हुई
  • क्रॉनिक स्ट्रेस
uterine fibroids during menopause inside

यूटेरिन फाइब्रॉएड्स के लक्षण

फाइब्रॉएड्स प्रीमेनोपॉज़ल और पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करता है। आमतौर पर प्रीमेनोपॉज़ल महिलाओं में अधिक गंभीर लक्षण होते हैं। कुछ महिलाओं को किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं होता है और डॉक्‍टर सिर्फ एक पेल्विक टेस्ट से फाइब्रॉएड का पता लगा सकता है। हालांकि महिलाओं में अनुभव होने वाले कुछ लक्षण हैं:

  • हैवी ब्लीडिंग 
  • बार-बार स्पॉटिंग
  • बहुत ज्यादा ब्लड का लॉस 
  • मेंस्ट्रुअल जैसी ऐंठन  
  • पेट के निचले हिस्‍से में भरा हुआ महसूस होना 
  • पेट में सूजन
  • लोअर बैक में दर्द
  • असंयमित और बार-बार यूरिन आना
  • इंटरकोर्स के दौरान दर्द
  • बुखार
  • जी मिचलाना
  • सिरदर्द

क्या मेनोपॉज के बाद इन फाइब्रॉएड्स की वजह से महिला को कैंसर हो सकता है?

इसमें सरकोमा नामक कैंसर के होने का 0.27% थोड़ा सा खतरा रहता है।

मेनोपॉज के बाद यूटेरिन फाइब्रॉएड्स को कैसे ट्रीट करना है?

फाइब्रॉएड्स के इलाज के विभिन्न तरीके हैं जो नीचे दिए गए हैं-

हार्मोनल थेरेपीज 

  • बर्थ कंट्रोल पिल्स दर्द और जरूरत से ज्यादा ब्लीडिंग जैसे लक्षणों को ठीक करती हैं
  • यह फाइब्रॉएड्स को सिकोड़ता नहीं है और न ही इसके गायब होने का कारण बनता है।
  • रिसर्च फाइब्रॉएड्स के लिए कॉम्बिनेशन और प्रोजेस्टिन-ओनली बर्थ कंट्रोल पिल्स दोनों के इस्तेमाल का सपोर्ट करता है।
  • प्रोजेस्टिन मेनोपॉज के अन्य लक्षणों को भी कम कर सकता है और हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपीज को अधिक प्रभावी बनाते हैं।
  • दर्द और ब्लीडिंग से राहत के लिए अन्य हार्मोनल ट्रीटमेंट प्रोजेस्टिन इंजेक्शन और इंट्रायूटेरिन डिवाइसेस (आईयूडीस) दिए जाते हैं।  
  • सीमित सफलता के लिए उपयोग किए जाने वाले हॉर्मोन एगोनिस्ट जैसे एरोमाटोज इनहिबिटर, एंटी प्रोजेस्टिन जैसे माइफप्रिस्टोन या यूलीप्रिस्टल और गोनडोट्रोफिन जैसी नई दवाएं दी जाती हैं।

Recommended Video

मायोमेक्टोमी

  • मायोमेक्टोमी एक सर्जरी है जो यूट्रस से फाइब्रॉएड हटाने का काम करती है।
  • अगर फाइब्रॉएड का बड़ा हिस्सा यूटेरिन कैविटी के अंदर हो, तो सर्जरी एक पतली, हल्की ट्यूब की सहायता से की जाती है।
  • कभी-कभी फाइब्रॉएड्स को हटाने के लिए निचले पेट में चीरा लगाना जरूरी होता है, हालांकि यह आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली विधि नहीं है।
  • सर्जरी लेप्रोस्कोपिक रूप से भी की जा सकती है और छोटे फाइब्रॉएड्स के लिए इसकी सिफारिश की जाती है।
uterine fibroids during menopause inside

हिस्टेरेक्टॉमी

बड़े और बार-बार होने वाले फाइब्रॉएड्स से संबंधित गंभीर लक्षणों के लिए हिस्टेरेक्टॉमी सबसे अच्छा विकल्प है। इस तरह की सर्जरी में यूट्रस के सभी या कुछ हिस्सों को हटा दिया जाता है।

  • उन महिलाओं के लिए सिफारिश की जाती है-
  • जो मेनोपॉज के करीब हैं या पोस्टमेनोपॉज़ल हैं।
  • जिनके कई बड़े फाइब्रॉएड्स हों।
  • जिन्होंने कई थेरेपी की कोशिश की है और निश्चित ट्रीटमेंट चाहती हैं।
  • जिनकी भविष्य में प्रेग्नेंसी की कोई योजना नहीं है।

अन्‍य ट्रीटमेंट विकल्‍प

यूटेरिन फाइब्रॉएड्स के कुछ अन्य अन्‍य ट्रीटमेंट विकल्‍प जो न्यूनतम इनवेसिव प्रोसीजर्स में शामिल हैं-

  • माइलोसिस, जहां फाइब्रॉएड्स और उनके ब्लड वेसल्स को ACESSA प्रक्रिया की तरह हीट या इलेक्ट्रिक करंट की मदद से अलग किया जाता है।
  • मैग्नेटिक रेजोनेंस गाइडेड फोर्स अल्ट्रासाउंड सर्जरी (एमआरजीएफयूएस), जो हाई एनर्जी का इस्तेमाल कर हाई फ्रीक्वेंसी साउंड वेव्स से फाइब्रॉएड्स ख़त्म करती है।
  • एंडोमेट्रियल एब्लेशन, जो हीट, इलेक्ट्रिक करंट या हॉट वाटर का इस्तेमाल करके यूटेरिन लाइनिंग को ख़त्म करता है।
  • यूटेरिन की उत्तेजना, जो कि फाइब्रॉएड्स के लिए ब्लड सप्लाई को रोकती है।

निष्‍कर्ष

हालांकि प्रीमेनोपॉज़ल महिलाओं में यूटेरिन फाइब्रॉएड्स ज्यादा सामान्य हैं यह मेनोपॉज के दौरान भी हो सकते हैं और बहुत ज्यादा तकलीफ देते हैं। फाइब्रॉएड के लक्षणों को ठीक करने के तरीकों के बारे में अपने डॉक्टर से चर्चा करें और जानें कि क्या सर्जरी आपके लिए सही विकल्प है। कुछ मामलों में बिना लक्षण वाले फाइब्रॉएड्स को उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। 

डॉक्टर मिलिंद शाह (एमडी, डीजीओ, डीएफपी, एफआईसीओजी, एफआईएओजी, कंसल्टेंट ओबी-गायनी) को एक्‍सपर्ट सलाह के लिए विशेष धन्‍यवाद। 

Reference:

https://www.healthline.com/health/menopause/fibroids-after-menopause

https://www.usafibroidcenters.com/blog/does-menopause-affect-your-risk-of-fibroids/

https://www.everydayhealth.com/news/why-menopause-wont-cure-endometriosis-fibroids-ovarian-cysts/