बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं को बहुत सारी समस्‍याओं से दो-चार होना पड़ता है। उनमें से एक समस्‍या यूरिन लिकेज की भी हैं। जी हां ज्‍यादातर महिलाएं यूरिन लिकेज समस्‍या से परेशान रहती हैं। उनके साथ अक्‍सर ऐसा होता है जब अचानक से उनका यूरिन पर कंट्रोल नहीं रहता है और वह निकल जाता है। कई बार तो दौड़ते या छींकते और खांसते समय भी यूरिन की कुछ बूंदें निकल जाती है। इस समस्‍या के कारण कई बार महिलाओं को शर्मिंदगी का शिकार भी होना पड़ता है। लेकिन आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि आप कुछ नेचुरल उपायों को अपनाकर इस समस्‍या से आसानी से बच सकती हैं। आइए ऐसे ही कुछ नेचुरल तरीकों के बारे में जानें। लेकिन इससे पहले हम यूरिन लिकेज के कारणों के बारे में जान लेते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Urine leakage से क्या होती है आपकी skirt गीली? तो try कीजिये ये exercises

यूरिन लिकेज के कारण

यूरिन लिकेज की समस्‍या के लिए कई कारण जिम्‍मेदार है। जी हां कई बार यह समस्‍या प्रेग्‍नेंसी और शिशु के जन्‍म के बाद अधिक होती है। ऐसा पेल्विक मसल्‍स के कमजोर होने से होता है। जी हां आपने कई बार वेजाइना में ढ़ीलापन महसूस किया होगा। जिससे आपकी इस हिस्से कि स्किन लटक जाती है और आपकी ब्लैडर मसल्‍स कमजोर हो जाती हैं या फिर ज्‍यादा ही ओवरएक्टिव हो जाती हैं। इसके अलावा यहां की नर्व्‍स को नुकसान पहुंचने से भी ऐसा होता है। साथ ही सर्जरी या डिलीवरी, मेनोपॉज, ओवरएक्टिव ब्‍लैडर, यूरिन मार्ग में इंफेक्‍शन और कब्‍ज के कारण पेल्विक एरिया की मसल्‍स कमजोर होने से भी समस्‍या होती है। इस बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए हमने फिटनेस फर्स्‍ट के फिटनेस इंस्‍ट्रक्‍टर Subham Kumar से बात की तब उन्होंने हमें बताया कि 'महिलाओं को कई बार ऐसी स्थिति में कुछ समझ में नहीं आता है और वह तनाव में चली जाती हैं। इसका सबसे बड़ा कारण होता है उनकी पेल्विक मसल्‍स का कमजोर होना।

urinary leakage in women inside

कीगल एक्‍सरसाइज

प्रेग्‍नेंसी या डिलिवरी के एकदम बाद महिलाओं में होने वाली यूरिन पर कंट्रोल ना रहने की समस्‍या से कीगल एक्‍सरसाइज की मदद से काबू पाया जा सकता है। यह पेल्विक मसल्‍स को मजबूत बनाती है जिससे यूरिन कंट्रोल करने में हेल्‍प मिलती है। कीगल एक्सरसाइज की खोज डॉक्टर अर्नाल्ड कीगल द्वारा की गई थी। यह एक्सरसाइज प्रेग्नेंट की यूरिन कंट्रोल ना होने की समस्‍या को कंट्रोल करने और बच्चे के जन्म के बाद रिकवर करने में हेल्प करता है। लेकिन बहुत कम महिलाएं इस बात को जानती हैं कि यह महिलाओं की पेल्विक मसल्स को मजबूत बनाने में भी हेल्प करती हैं। कीगल एक्सरसाइज पेल्विक एरिया में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाकर पेल्विक एरिया की मसल्‍स को मजबूत रखता है। जिससे पेल्विक की संवेदनशीलता में तेजी आती है।

कीगल एक्‍सरसाइज करने के लिए आप सबसे पहले अपने घुटनों को मोड़ कर आराम की स्थिति में बैठ जाए। अब आप ध्‍यान फोकस करके पेल्विक मसल्‍स को टाइट करके संकुचित करें। इसे 30 से 50 बार दोहराये। इस एक्‍सरसाइज को करने के दौरान 5 सेकंड के लिए संकुचन और फिर 5 सेकंड के लिए रिलैक्‍स करें। धीरे-धीरे इस समय को बढ़ा कर 10 सेकंड कर दें। लेकिन ध्‍यान रहें कि कीगल एक्‍सरसाइज को हमेशा ब्‍लैडर को खाली करके ही करें। नहीं तो यह आपकी मसल्‍स को कमजोर कर सकता है।

मैगनीशियम और विटामिन डी

magnesium women health

यूरिन को कंट्रोल करने के लिए आप मैग्‍न‍ीशियम की मदद ले सकती हैं, खासतौर पर अगर आपको रात में पैर में ऐंठन जैसे मैग्‍नीशियम की कमी के लक्षणों का अनुभव होता है। मैग्‍नीशियम हमारी बॉडी की मसल्‍स को रिलैक्‍स करने के लिए बेहद जरूरी होता है। इस तरह यह ब्‍लैडर मसल्‍स की ऐंठन को कम करने और ब्‍लैडर को पूरी तरह खाली करने में मदद करता है। इसलिए महिलाओं को अपनी डाइट में नट्स, सीड्स, केले और दही जैसी मैग्‍नीशियम से भरपूर फूड्स को शामिल करना चाहिए। इसके अलावा विटामिन डी महिलाओं की इस प्रॉब्‍लम को दूर करने में हेल्‍प करता है क्‍योंकि यह मसल्‍स को मजबूत बनाए रखने में हेल्‍प करता है। 

इसे जरूर पढ़ें: पेल्विक मसल्‍स को मजबूत बनाने के लिए हर महिला को करनी चाहिए कीगल exercise

आब्सटेट्रिक्स एंड गायनोकॉलोजी में प्रकाशित 2010 के एक अध्ययन के अनुसार, विटामिन डी का हाई लेवल महिलाओं में यूरिन को कंट्रोल करने सहित पेल्विक एरिया के मसल्‍स के विकास का जोखिम कम होता है। विटामिन डी के लिए रेगुलर 10 मिनट सुबह सूरज की रोशनी में रहें। इसके अलावा विटामिन डी से भरपूर फूड्स जैसे मछली, कस्तूरी, अंडे की जर्दी, दूध और अन्य डेयरी उत्पादों को अपनी डाइट में शामिल करें।

एप्पल साइडर सिरका

apple cider vinegar for women

एप्पल साइडर सिरका आपकी हेल्‍थ के लिए एक टॉनिक के रूप में काम करता है। यह आपकी बॉडी में मौजूद टॉक्सिन को दूर करके ब्‍लैडर इंफेक्‍शन को दूर करने में हेल्‍प करता है। इसके अलावा, यह वजन कम करने में भी आपकी हेल्‍प करता है। बहुत ज्‍यादा वजन यूरिन पर कंट्रोल की समस्‍या को बढ़ा देता है क्‍योंकि हिप्‍स और पेट के आस-पास अधिक फैट ब्‍लैडर पर एक्‍स्‍ट्रा प्रेशर डालता है। समस्‍या होने पर 1 गिलास पानी में 1 से 2 चम्‍मच एप्पल साइडर सिरके को मिलाये। फिर इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर दिन में 2 से 3 बार रेगुलर रूप से लें। लेकिन ध्‍यान रहें कि अगर आपका ओवरएक्टिव ब्‍लैडर है तो एप्पल साइडर सिरके का सेवन न करें। अगर आप अच्‍छी क्‍वालिटी का एप्‍पल साइडर विनेगर घर बैठे सस्‍ते दामों पर मंगवाना चाहती हैं तो आप इसे डिस्‍काउंट रेट पर यहां से खरीद सकती हैं। 

तो देर किस बात की इन 3 टिप्‍स को अपनाकर आप यूरिल लिकेज की समस्‍या से आसानी से बच सकती हैं। खासतौर पर एक्‍सपर्ट की बताई इस एक्‍सरसाइज को रोजाना करना बेहद जरूरी होता है।