• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

चेहरे की झाइयों को योग से दूर करें, नहीं पड़ेगी महंगी क्रीम की जरूरत

अगर आप भी चेहरे की झाइयों से परेशान हैं तो इसे कम करने के लिए एक्‍सपर्ट के बताए इन योग को अपने रूटीन में जरूर शामिल करें। 
author-profile
Published -06 May 2022, 12:32 ISTUpdated -09 May 2022, 11:36 IST
Next
Article
yoga for skin pigmentation at home

त्वचा की झाइयों के कई कारण और विभिन्न रूप हैं। कुछ आनुवंशिकी और वंशानुगत कारकों के कारण होती हैं जबकि अन्य प्रदूषण, हार्मोनल असंतुलन, जीवन शैली कारकों आदि के कारण हो सकती हैं।

ऊपर बताए गए मुद्दों के कारण रंग और त्वचा की झाइयों में परिवर्तन होते हैं। डल त्वचा, मुंहासे और अन्य जटिल समस्याओं के कारण अलग-अलग हो सकते हैं। यदि हम त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए मदद मांग रहे हैं, तो योग हमारे रंग के लिए नवीनीकरण और स्वास्थ्य का एक अद्भुत स्रोत है।

सिद्ध वाक

आप सिद्ध वॉक से शुरुआत कर सकते हैं। सिद्ध वॉक को इन्फिनिटी वॉक, योगा वॉक और माइंड वॉक जैसे अन्य नामों से भी जाना जाता है। यह एक प्राचीन योगाभ्यास है जो हमारे तन और मन के लिए असंख्य लाभ प्रदान करता है। पहले 8 की आकृति में दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर चलना होगा और फिर अगले चक्कर के लिए दिशा बदलनी होगी। इसे दोनों दिशाओं में 21 मिनट तक करना है।

मुद्रा

सुखासन या पद्मासन जैसे ध्यान आसन में बैठ जाएं और पीठ को सीधा रखें। किसी भी मुद्रा और एक्‍सरसाइज की पहली शर्त आराम है। आंखें बंद करें और ध्यान अपनी सांस पर केंद्रित करें।

वरुण मुद्रा

Varun Mudra for pigmentation

  • कमलासन में बैठें।
  • इस मुद्रा को करने के लिए चटाई या कपड़े पर आरामदायक स्थिति में होना चाहिए।
  • आंखें बंद कर सकते हैं क्योंकि इससे अधिक एकाग्रता सुनिश्चित होती है।
  • अंगूठे और छोटी उंगली के सुझावों को आपस में मिला लें।

फायदे

  • आंखों का सूखापन
  • खट्टी डकार
  • कब्ज़
  • त्वचा का रूखापन  
  • झाइयों के अलावा, इन‌ सब समस्याओं से से निजात मिलती है।

सूर्य मुद्रा

SURYA MUDRA for pigmentaion

  • सुखासन या पद्मासन जैसी ध्यान मुद्रा में बैठ जाएं और पीठ सीधी रखें।
  • अनामिका को मोड़ें और अंगूठे के सिरे को नाखून के ठीक ऊपर क्रीज पर रखें।
  • बाकी उंगलियों को सीधा करें।
  • इसे दोनों हाथों से करें और हथेलियों के पिछले हिस्से को घुटनों पर रखें।
  • आंखें बंद करें और ध्यान सांसों पर लगाएं।

सावधानियां

  • इस मुद्रा का बहुत लंबे समय तक अभ्यास करने से शरीर में अनुचित गर्मी पैदा हो सकती है।

फ़ायदे

  • एकाग्रता विकसित करता है।
  • सकारात्मक स्पंदन उत्पन्न करता है और नकारात्मक विचारों को कम करता है।
  • स्मरण शक्ति में सुधार करता है और बुद्धि भागफल को बढ़ाता है।
  • अनिद्रा, डायबिटीज और तनाव का इलाज करता है और ब्‍लड प्रेशर को संतुलित करता है।

कपाल भाति प्राणायाम

Kapal Bhati for pigmentation

संस्कृत में, 'कपाल' का अर्थ है खोपड़ी और 'भाति' का अर्थ है 'चमकना / रोशन करना'। इसलिए इस कपालभाति प्राणायाम को स्कल शाइनिंग ब्रीदिंग टेक्निक के नाम से भी जाना जाता है।

तरीका

  • किसी भी आरामदायक आसन (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन) में बैठें। 
  • पीठ को सीधा करें और आंखें बंद करें।
  • हथेलियों को घुटनों (प्राप्ति मुद्रा में) पर ऊपर की ओर रखें।
  • सामान्य रूप से श्वास लें और एक छोटी, लयबद्ध और ज़ोरदार सांस के साथ सांस छोड़ने पर ध्यान दें।
  • पेट का उपयोग डायाफ्राम और फेफड़ों से सभी हवा को जोर से दबाकर बाहर निकालने के लिए कर सकते हैं।
  • जब हम अपने पेट को डीकंप्रेस करते हैं तो सांस लेना अपने आप हो जाना चाहिए।

फायदे

  • पाचन तंत्र और पेट की मसल्‍स को मजबूत और उत्तेजित करता है।
  • नासिका मार्ग को मजबूत करता है और छाती में रुकावट को दूर करता है।
  • ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ावा देता है।
  • त्वचा की रंगत में सुधार करता है और चेहरे पर चमक लाता है।

Recommended Video

सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार सूर्य को नमस्कार है। सूर्य ऊर्जा, शक्ति और जीवन शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। सूर्य नमस्कार का यह योगाभ्यास सबसे पहले शक्ति के प्रतीक श्री हनुमान द्वारा भगवान सूर्य को नमस्कार के रूप में किया गया था, जो उनके गुरु हैं। सूर्य नमस्कार में कुल 8 आसन होते हैं, जो प्रत्येक पक्ष के लिए 12 चरणों के क्रम दाएं और बाएं में बुने जाते हैं।

जब हम सूर्य नमस्कार शुरू करते हैं, तो दाहिने तरफ से शुरू करना चाहिए क्योंकि इस तरफ से सूर्य की ऊर्जा प्रतीकात्मक रूप से दर्शायी जाती है। जब हम दोनों पक्षों को कवर करते हैं तो एक चक्र पूरा होता है, और यह 24 गणनाओं से बना होता है।

इसे जरूर पढ़ें:झाइयों को दूर भगाने के लिए ये 2 टिप्‍स अपनाएं, कुछ ही दिनों में दिखता है असर

योग त्वचा के साथ-साथ मसल्‍स के लिए भी चमत्कार कर सकता है। कोर्टिसोल के लेवल को डिटॉक्सीफाई और कम करके, यह पिगमेंटेशन, पिंपल्स और मुंहासों को रोकता है और हमें वह प्यारी चमक देता है। यह त्वचा के लचीलेपन को भी बढ़ाता है और झुर्रियों से छुटकारा पाने में हमारी मदद करता है।

आप भी इन योगासन को करके चेहरे की झाइयों को कम और ग्‍लो को बढ़ा सकती हैं। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock.com

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।