जीवन में बढ़ता तनाव और आपकी तबाह होती जिंदगी को अब बनाइये खुशनुमा

By Sunil Kumar23 Jan 2018, 16:40 IST

भारत में आज हर दूसरी महिला किसी ना किसी तरीके से तनाव का शिकार है। जिसका सीधा असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ता दिखाई दे रहा है। हाउस वाईफ हो या कामकाजी महिलाएं इनमें से कोई भी महिला ऐसी नहीं है जिनकी जिंदगी में आज तनाव ना हो। रोजाना की भागदौड़ भरी जिंदगी, अपने लिए टाईम ना निकाल पाना इसका सबसे बड़ा कारण है। या यूं कहें कि आज महिलाओं का तनाव का शिकार होना एक आम समस्या बन चुकी है। इसकी कोई खास वजह नहीं है। जिसके कारण तनाव होता हो। तनाव एक ऐसी समस्या है जो हर किसी को हो सकती है।

क्या stress और depression एक हैं?

अपने जीवन में से तनाव को कम करने से पहले सबसे पहले आपको तनाव और डिप्रेशन के बीच के अंतर को समझ लेना चाहिए। अक्सर देखा गया है कई महिलाएं depression का शिकार होतीं हैं। जिसे वो तनाव समझने की भूल कर बैठतीं हैं। इन दोनो का इलाज बिलकुल ही अलग-अलग होता है। तनाव हमारे जीवन का एक हिस्सा है। इसका मतलब है आप जब भी किसी काम को करना चाहतीं हैं और बार-बार आपका उसके बारे में सोचना एक ऐसी चिंता को पैदा करता है जो आपके दिमाग पर हावी हो जाती है।

इसी स्थिति को तनाव कहा जाता है। वहीं बात डिप्रेशन की करें तो ये एक ऐसी अवस्था है जो तनाव से काफी आगे है। जिसमें कोई भी मानसिक रुप से दुखी या फिर किसी गहरे अवसाद में खो जाता है। ऐसी परिस्थिति में ना ही वो अपना दर्द किसी के साथ शेयर कर पाता है ना ही लोगों से ज्यादा मिलना-जुलना करता है।

Time का miss management होना तनाव का प्रमुख कारण

महिलाएं अक्सर सोचतीं हैं कि आखिर उन्हें तनाव क्यूं होता है। उनकी इसी समस्या को लेकर हमने बात की MAX hospital के वरिष्ट मनोचिकित्सक Dr. Sumit Gupta से उन्होने हमें इसके बारे में कई महत्वपूर्ण बातें बताईं। डॉ. सुमित गुप्ता के मुताबिक 'आजकल महिलाओं के जीवन में तनाव का सबसे बड़ा कारण है time का miss management होना। महिलाएं अपने रोजाना के कामों को प्राईयोरिटी के हिसाब से नहीं करतीं हैं।

जिसका सीधा नतीजा उनकी जिंदगी में तनाव के रुप में सामने आता है। अगर महिलाएं अपने रोजमर्रा के कामों को प्राथमिकता के हिसाब से पूरा करें तो उनकी लाईफ से तनाव कम होगा। टाईम के मिस मैनेजमेंट की वजह से ज्यादातर काम हड़बड़ी में पूरे किये जाते हैं। इसके अलावा जो काम पूरे नहीं हो पाते तो उनको पूरा करने का दबाव आपके उपर रहता है। यही तनाव का रुप ले लेता है'।

गैर जरूरी चीजों को रुटीन से बाहर रखें

Stress problem mental health inside

Image Courtesy: whitsundayprofessionalcounselling.com

अगर आप रोजाना के तनाव को कम करना चाहतीं हैं तो सबसे पहले आपको अपने सबसे ज्यादा जरूरी कामों की लिस्ट तैयार करनी होगी। जिसमें से आपको गैर-जरूरी कामों को अपने रुटीन से बाहर करना होगा ताकि सबसे पहले आपके उपर उस गैर-जरूरी काम का दबाव कम हो सके। इसके साथ ही चीजों को पहले से ही तय करके रखें कि आपको क्या करना है? और क्या नहीं?

ऐसे कम करें तनाव

Dr. Sumit Gupta के अनुसार ' आपको रोजाना अपने लिये टाईम निकालना होगा। जिससे आपका तनाव कम हो सके। अक्सर होता है कि आप सिर्फ अपने रोजाना के ऑफिस और घर के कामों को ही प्राथमिकता देतीं हैं। जिसमें आप अपने आप के लिए समय निकालना भूल ही जातीं हैं। और यहीं से शुरु होता है तनाव के पैदा होने और उसका आपकी लाईफ में आने का सिलसिला। आपको हमेशा इस बात का ध्यान रखना है कि जब भी आप ऑफिस में हैं या फिर घर के काम में व्यस्त हैं आपको बीच-बीच में कुछ ऐसे काम करते रहने चाहिए जिससे आपके mind को थोड़ा रिलेक्स मिले।

इसके साथ आपको fun activity में जरूर भाग लेना चाहिए। जैसे लोगों के साथ घूमना, ऑफिस के events में भाग लेना आदि। इस तरह की छोटी-छोटी एक्टिविटी करने से आपका mind fresh रहेगा। आपको रोजाना इस तरह की activity को सबसे पहले प्राथमिकता देनी होगी। जिससे आपकी लाईफ का तनाव कम हो सके।

Watch more: कड़वा करेला घोलेगा आपकी हेल्थ में मिठास

Exercise कम करती है तनाव

Fun activity करने के साथ-साथ आपको इस बात का भी खास ध्यान रखना है कि आप हफ्ते में या रोजाना नियमित exercise करें।  Fitness First के trainer Piysuh Aggarwal के मुताबिक 'regular exercise महिलाओं के एड्रिनेलिन और पिटयूट्री ग्लैंड, हायपोथैलिमस को एक्टिवेट कर देती है जिससे brain की तरफ blood flow बढ जाता है। जिसकी वजह से आपकी anxiety का level नीचे आ जाता है और आपका mood elevate होकर अच्छा हो जाता है'।

खुशियों के पल आपको खुद ही ढूंढने होंगे

Dr. Sumit Gupta का कहना है कि 'आपको अपने जीवन से तनाव को कम करने के लिए कभी भी खुशियों से दूरी नहीं बनानी हैं। आपको ये बात भी अपने दिमाग में रखनी होगी कि खुशियां आपके पास चलकर नहीं आयेंगीं, आपको उनके पास खुद जाना पड़ेगा या उन्हें ढूंढना पड़ेगा। इसके लिए आपको ये पता होना जरूरी है कि आपको क्या करना अच्छा लगता है? और क्या नहीं? आपको जिस काम को करने पर खुशी मिले आपको उसी काम को  करने से शर्माना नहीं चाहिए'।

Credits

Producer: Prabhjot Kaur

Video Editor: Atul Tripathi