खूबूसूरत त्वचा पाने की चाहत हर महिला की होती है। लेकिन आजकल भागदौड़ भरी लाइफ, प्रदूषण, खान-पान में लापरवाही और तनाव के चलते महिलाएं अपनी त्‍वचा की अच्‍छे से देखभाल नहीं कर पाती हैं। इससे त्वचा संबंधी कई समस्याएं जैसे त्‍वचा का बहुत ज्‍यादा ऑयली या ड्राई होना, कील-मुंहासे, दाग-धब्‍बे, ब्‍लैक हेड्स होने लगती हैं। इन्हीं में से एक और सबसे गंभीर समस्‍या चेहरे पर झाइयां भी हैं। हालांकि ये समस्‍या हानिकारक नहीं हैं, लेकिन इससे त्‍वचा पर बड़े या छोटे काले धब्‍बे दिखाई देने लगते हैं जिससे महिलाओं की खूबसूरती कम होने लगती हैं। और झाइयों से परेशान हर महिला के मन में यही सवाल आता है कि इससे कैसे दूर किया जाएं? इससे बचने के लिए कुछ महिलाए इंटरनेट पर उपायों की खोज करती हैं तो कुछ इसे छुपाने के लिए मेकअप का सहारा लेती हैं। लेकिन मेकअप से इस छुपाना झाइयों का परमानेंट इलाज नहीं है।

इसे जरूर पढ़ें: पिगमेंटेशन से लेकर झुर्रियों तक का काल है ऐलोवेरा, हर तरह की स्किन के लिए भी है फायदेमंद

अगर आप भी झाइयों से परेशान हैं और इसे दूर करने के उपायों की खोज कर रही हैं तो इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपकी खोज पूरी हो जाएगी क्‍योंकि आज एक्‍सपर्ट आपको झाइयों से बचाने वाले एक जबरदस्‍त तरीके के बारे में बताने जा रहे हैं। जो आपको आसानी से आपके घर के आस-पास देखने को मिल जाता है। जी हां हम एलोवेरा की बात कर रहे हैं। लेकिन सबसे पहले हम ये जान लेते है कि झाइयां क्‍या है और ये क्‍यों होती हैं?  

aloe vera for pigmentation card ()

झाइयां क्‍या है? 

त्‍वचा पर पड़ने वाले छोटे-बड़े काले धब्‍बों को झाइयां कहते हैं। इसे कई लोगों पिगमेंटेशन के नाम से भी जानते है। झाइयां मेलानिन के ज्‍यादा मात्रा में निकलने के कारण होता है। जी हां मेलानोसाइट्स नामक सेल के चलते त्वचा का रंग बनता है। मोलानोसाइट्स के कारण मेलानिन पैदा होते हैं, जिससे त्वचा को अपना अलग रंग मिलता है। वहीं, जब मेलानोसाइट्स को नुकसान होता है या वह अनहेल्‍दी हो जाते हैं या ज्‍यादा मात्रा में मेलानिन निकलने लगता है तो त्वचा काली पड़ने लगती है और चेहरे पर झाइयों के रूप में दिखने लगती हैं।

झाइयों के कारण

  • हार्मोनल बदलाव
  • बहुत ज्‍यादा देर धूप में रहना
  • त्‍वचा को नुकसान होना     
  • आनुवंशिक कारण
  • किसी चीज से एलर्जी  

aloe vera for pigmentation card ()

झाइयों के लिए एलोवेरा

भोपाल के आयुर्वेदिक एक्सपर्ट और कई हेल्थ विषयों पर किताबें लिख चुके डॉक्‍टर अबरार मुल्तानी का कहना हैं कि ''एलोवेरा एक अद्भुत आयुर्वेद की औषधि है। यह खाने में भी बहुत फायदेमंद है और इसे त्वचा पर लगाने से भी बहुत फायदा होता है। आज के समय मे ऐसा एक भी क्रीम या बॉडी लोशन शायद ही हो जिसमें एलोवेरा का प्रयोग न किया जाता हो। एलोवेरा में एलोइन होता है, एक प्राकृतिक अपचयन तत्‍व है जो त्वचा के रंग को हल्का करने और एक नॉनटॉक्सिक हाइपरपिग्मेंटेशन ट्रीटमेंट के रूप में प्रभावी रूप से काम करता है। इसके अलावा एलोवेरा जैल में पाया जाने वाला गिबेरेल्लिन नए सेल्‍स को बनाने में सहायक होता है और जो त्‍वचा के निशान को जल्‍दी और स्‍वाभाविक तरीके से बहुत कम कर देता है। इसलिए एलोवेरा स्किन क्लींजर का भी काम करता है। एलोवेरा को गुलाब जल में मिलाकर पिगमेंटेशन पर लगाने से वह कुछ दिनों में हट जाते हैं।''

aloe vera for pigmentation card ()

एलोवेरा के अन्‍य फायदे

  • त्वचा की टैनिंग हटाने के लिए एलोवेरा जैल में नींबू के रस की कुछ बूंदों को मिलाएं, टेनड एरिया पर लगाएं। 15 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धोएं।
  • एलोवेरा में औक्सिन और गिब्‍बेरेल्लिंस जैसे दो कंपाउंड्स होते है जो घाव को भरने, मुंहासों को हटाने और चेहरे के दाग-धब्‍बों को दूर करने में मदद करते है। इससे त्वचा पर बेदाग निखार आता है।

इसे जरूर पढ़ें: एलोवेरा का ऐसे करेंगे इस्तेमाल तो कुछ ही दिनों में चेहरे पर आ जाएगा निखार

  • एलोवेरा के पल्प में एंटीऑक्‍सीडेंट जैसे बीटा कैरोटीन, विटामिन सी और ई त्वचा में ग्लो और नमी बनाये रखने में मदद करते हैं। इसलिए, एलोवेरा का उपयोग करने से त्‍वचा में कसावट बनी रहेगी। यह एजिंग को आपके चेहरे पर दिखने नहीं देगा।
  • एलोवेरा जैल में थोडा सा माजूफल और शहद मिलाकर चेहरे पर लगाने से रिंकल की समस्या ठीक होती है।

तो देर किस बात की अगर आप भी चेहरे की झाइयों से परेशान हैं और चेहरे पर नेचुरल ग्‍लो और रिंकल फ्री त्‍वचा चाहती हैं तो एलोवेरा का इस्‍तेमाल करें।