• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

आपके साथ बच्‍चे भी रहेंगे पूरी जिंदगी स्‍वस्‍थ, मिलकर करें ये 4 योग

अगर आप भी बच्‍चों के साथ रोजाना योग करेंगी तो आप भी हेल्‍दी रहेंगी और बच्‍चे भी सेहतमंद रहेंगे।  
author-profile
Published -21 Jun 2022, 12:32 ISTUpdated -21 Jun 2022, 13:08 IST
Next
Article
yoga with child hindi

हमारा व्यक्तित्व, बचपन के पालन-पोषण का एक बड़ा प्रतिबिंब है। घर, स्कूली शिक्षा, शिक्षकों और दोस्तों का प्रभाव हमारे विचार और व्यवहार को आकार देता है। प्रभावशाली उम्र में होने के कारण, यह सुनिश्चित करना माता-पिता की जिम्मेदारी है कि बच्चे को न केवल शारीरिक, बल्कि मानसिक और आध्यात्मिक रूप से भी पोषण मिले। 

बच्चे स्वभाव से आध्यात्मिक होते हैं। सामाजिक मानदंडों की कंडीशनिंग और हमारा पालन-पोषण कभी-कभी उनके जीवंत विकास को रोकते हैं। योग हमारे बच्चे के बीच संबंध के बीज बोने का एक बेहतरीन तरीका है। वास्तव में योग अभ्यास का मूल तत्व एक संघ बनाना है। संस्कृत में 'युज' का अनुवाद 'एकजुट होना' या 'संघ होता है। एक दूसरे के बीच योग के ज्ञान को शेयर करने के लिए योगा मैट को रोल आउट करें। 

बच्चों के साथ आसन, प्राणायाम, सांसों की मध्यस्थता या जप की सरल तकनीकें की जा सकती हैं। सूर्य नमस्कार के मन, शरीर और आत्मा के लिए आश्चर्यजनक लाभ हैं। कम उम्र से इसे करने की आदत डालें। इसके अलावा, कुछ अन्‍य योग भी आपके लिए मददगार हो सकते हैं। इंटरनेशनल योग डे के मौके पर इन योगासन के बारे में हमें योग मास्टर, स्पिरिचुअल गुरु और लाइफस्टाइल कोच, ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।     

सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार सूर्य भगवान के प्रति कृतज्ञता का हमारा प्रसाद है। प्रवाह में 8 शक्तिशाली योग मुद्राओं का वैज्ञानिक क्रम होता है। जब ये दोहराव में किए जाते हैं, तो 12 गिनती आधा चक्र बनाती हैं और 24 गिनती दाएं और बाएं साइड के लिए एक चक्र पूरा करती हैं। 

सूर्य नमस्कारसंपूर्ण शरीर के लिए एक प्रभावी वर्कआउट है। सुबह खाली पेट सबसे अच्छा अभ्यास होता है, हम दिन में किसी भी समय सूर्य नमस्कार कर सकते हैं।  इसके अलावा यह मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक लाभ भी प्रदान करता है।

सूर्य नमस्कार करने के लिए स्‍टेप्‍स

  • स्थिति 1: प्रणाम आसन
  • स्थिति 2: हस्त उत्थानासन
  • स्थिति 3: पादहस्तासन 
  • स्थिति 4: अश्व संचालनासन 
  • स्थिति 5: संतुलनासन
  • स्थिति 6: अष्टांग नमस्कार आसन 
  • स्थिति 7: भुजंगासन 
  • स्थिति 8: अधो मुख संवासन 
  • स्थिति 9: अश्व संचालनासन 
  • स्थिति 10: पादहस्तासन
  • स्थिति 11: हस्त उत्थानासन
  • स्थिति 12: प्रणाम आसन

अधोमुख श्वानासन

Adomukhisvanasana

  • बच्‍चों के साथ आप आसानी से इस योग को कर सकते हैं। 
  • हथेलियों को कंधों के नीचे और घुटनों को कूल्हों के नीचे रखते हुए शुरू करें।
  • घुटनों और कूल्हों को ऊपर उठाएं, दोनों पैरों को पीछे की ओर ले जाएं। 
  • घुटनों और कोहनियों को सीधा करें और एक उल्टा 'V' आकार बनाएं।
  • हाथों को कंधों की चौड़ाई से अलग रखें। 
  • उंगलियां आगे की ओर होनी चाहिए।
  • हथेलियों पर प्रेशर डालें और कंधे के ब्लेड खोलें।
  • एड़ियों को फर्श पर धकेलें। 
  • कुछ सेकंड के लिए इस स्थिति में रहें। 
  • आंखें पैर की उंगलियों पर केंद्रित रखें।

फ़ायदे

  • यह पूरे शरीर को फैलाता है और ताकत देता है।
  • पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।
  • शरीर की कायाकल्प करता है।
  • सिरदर्द, थकान और अनिद्रा से राहत दिलाने में उपयोगी है। 
  • शरीर की मसल्‍स को टोन करता है।
  • पैरों, कंधों और बाहों को ताकत देता है।
  • चिंता और अवसाद को कम करता है।
  • इस मुद्रा से शरीर को 360 डिग्री स्‍ट्रेच मिलता है।

पश्चिमोत्तानासन

Paschimottanasana.

  • दंडासन से शुरू करें।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने थोड़े मुड़े हुए हैं जबकि पैर आगे की ओर खिंचे हुए हैं।
  • बांहों को ऊपर की ओर फैलाएं और रीढ़ को सीधा रखें।
  • सांस छोड़ें और सांस छोड़ते हुए, कूल्हे पर आगे की ओर झुकें। 
  • ऊपरी शरीर को निचले शरीर पर रखें।
  • बांहों को नीचे करें और पैर की उंगलियों को पकड़ें।
  • घुटनों को नाक से छूने की कोशिश करें।
  • 10 सेकंड के लिए इस आसन में बने रहें।

फ़ायदे

  • यह एक तनाव निवारक के रूप में कार्य करता है।
  • पेट में फैट के जमाव को कम करता है।
  • चिंता, क्रोध और चिड़चिड़ापन को दूर करता है।
  • मन को शांत करता है।
  • रीढ़ की हड्डी को फैलाता है और लचीलापन लाता है।
  • कब्ज और पाचन विकार के लिए अच्छा है।
  • रीढ़ की हड्डी को खींचकर बच्‍चों की लंबाई बढ़ाने के लिए उपयोगी है।
  • पेट के अंगों को टोन करता है।

Recommended Video

संतुलनासन

Santolanasana

  • इसे करने के लिए आप और बच्‍चा पेट के बल लेटें।
  • हथेलियों को कंधों के नीचे रखें और ऊपरी शरीर, पेल्विक और घुटनों को ऊपर उठाएं।
  • फर्श को पंजों से पकड़ें और घुटनों को सीधा रखें।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने, पेल्विक और रीढ़ एक सीध में हैं।
  • कलाई, कंधों के ठीक नीचे होनी चाहिए और बाजुएं सीधी होनी चाहिए।
  • अंतिम आसन में थोड़ी देर रुकें।

फ़ायदे

  • जांघ, बाहों और कंधों को मजबूत करता है।
  • रीढ़ और पेट की मसल्‍स को मजबूत बनाता है।
  • मुख्य मसल्‍स का निर्माण करता है।
  • नर्वस सिस्‍टम के संतुलन में सुधारकरता है।
  • मणिपुर चक्र को उत्तेजित करता है।
  • पूरे शरीर को ऊर्जा देता है और सकारात्मकता की भावना पैदा करता है।
  • आंतरिक संतुलन और सद्भाव की भावना विकसित करता है। 

आप भी बच्‍चों के साथ इन योगासन को करें और लंबे समय तक हेल्‍दी रहें। योग से जुड़ी ऐसी ही जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 
Image Credit: Shutterstock

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।