जो बच्चे नियमित रूप से योग का अभ्यास करते हैं, वे अपनी सीखने की क्षमता को बदल सकते हैं। यह कोरोना वायरस की महामारी के आलोक में विशेष रूप से उपयोगी है। कंप्यूटर स्क्रीन के सामने महीनों बिताने और आवासी कार्यक्रमों के माध्यम से सीखने के बाद योग बच्चे को सामान्य स्कूली जीवन में वापस लाने में मदद करता है। योग का अभ्यास करने से बच्चे को सीखने और ज्ञान प्रति धारण में बेहतर बनने में मदद मिलती है।

योग मुद्राओं का अभ्यास करने से ध्यान मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में सुधार कर सकते हैं जिससे बच्चों में शैक्षणिक और व्यवहारिक प्रदर्शन में वृद्धि होती है। योग से संतुलित व्यवहार, बेहतर एकाग्रता, याददाश्त में वृद्धि होती है जो शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए उपयोगी है। योग अभ्यास मानसिक मुद्दों जैसे तनाव चिंता एडीएचडी, एडीडी और अन्य विकासात्मक और संज्ञानात्मक मुद्दों को दूर करने के लिए मन में शांति लाता हैं।

निम्नलिखित आसनों के साथ, सूर्य नमस्कार और अन्य विशिष्ट आसन जैसे बकासन, शीर्षासन, सर्वांगासन का अभ्यास बच्चे के समग्र स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने और बच्चों में शारीरिक और मानसिक विकास को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है। इस बारे में योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

अधोमुखीस्वानासन

adomukhi svanasana

  • हथेलियों और घुटनों से इस योग को शुरू करें। 
  • हथेलियों को कंधों के नीचे और घुटनों को कूल्हों के नीचे संरेखित करें। 
  • इस आसन को बनाने के लिए कूल्हों को ऊपर उठाकर घुटनों को सीधा करें। 
  • उल्टे 'वी' आकार बनाने के लिए पैरों को समायोजित करें। 
  • हाथों को कंधे की चौड़ाई से अलग रखें। 
  • एड़ी को फर्श से छूने की कोशिश करें। 
  • कुछ सेकेंड के लिए स्थिति को पकड़ो।

बालासन

balasana for kids

  • चटाई पर घुटनों के बल बैठ जाएं और एड़ियों पर बैठ जाएं। 
  • श्वास लें और श्वास छोड़ते हुए अपने ऊपरी शरीर को झुकाते हुए आगे की ओर झुकें। 
  • माथे को नीचे रखें और पेल्विक को एड़ियों पर टिकाएं।

पादहस्तासन

padahasthasana for kids

  • सांस छोड़ते हुए अपने ऊपरी शरीर को आगे की ओर मोड़ें। 
  • सिर नीचे करें और कंधों और गर्दन को आराम दें। 
  • अगर आप शुरुआत कर रहे हैं तो अपने घुटनों को थोड़ा मोड़ लें। 
  • हथेलियों को पैरों के पास रखें। 
  • इस आसन को कुछ देर रुकें।

पश्चिमोत्तानासन

paschimottanasana for kids

  • जमीन पर बैठ जाएं और दोनों पैरों को आगे की ओर फैलाएं। 
  • सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें और पैर की उंगलियों को पकड़ें।

Recommended Video

भस्त्रिका प्राणायाम

bhastrika pranayama

  • किसी भी आरामदायक आसन (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन) में बैठें। 
  • पीठ को सीधा करें और आंखें बंद करें।
  • हथेलियों को घुटनों पर ऊपर (प्राप्ति मुद्रा में) की ओर रखें। 
  • श्वास लें और फेफड़ों को हवा से भरें।
  • पूरी तरह से सांस छोड़ें।

सांस लेना और छोड़ना 1:1 के अनुपात में किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आप 6 काउंट के लिए सांस लेते हैं, तो आपको सांस छोड़ने के लिए 6 काउंट्स लेने चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: बच्‍चों का ब्रेन होगा सुपर एक्टिव अगर रोजाना करेंगे योग

बच्चे वयस्कों की तुलना में कहीं अधिक आसानी से परिवर्तनों के अनुकूल हो जाते हैं, लेकिन इन परिवर्तनों को सुचारु रूप से करने के लिए उन्हें समय, प्यार और पर्याप्त स्वस्थ स्थान की भी आवश्यकता होती है। योग आपके बच्चे को आराम देने और स्कूल में उसकी वापसी को आसान बनाने का एक शानदार तरीका है।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।