अमूमन लोग अपने वर्कआउट को अधिक इफेक्टिव बनाने के लिए कई तरह के वेट्स का इस्तेमाल करते हैं। इन्हीं में से एक है केटलबेल। केटलबेल के साथ वर्कआउट करना बेहद ही अच्छा माना जाता है, क्योंकि इससे आपको एक ही बार में कई फायदे मिलते हैं। मसलन, इसके इस्तेमाल से आप कई मसल्स का वर्कआउट एक साथ कर पाते हैं और इससे आपकी कैलोरी भी अतिरिक्त खर्च होती है।  साथ ही इसमें पकड़, या बैलेंस भी बेहतर होता है। केटलबेल अन्य वेट कसरत से अलग है कि क्योंकि इसका वजन इसके हैंडल के नीचे रहता है, जिससे आपकी एक्सरसाइज अधिक चैलेंजिंग हो जाती है। अगर आप केटलबेल से एक्सरसाइज करते हैं तो आपकी ग्रिप से लेकर आपके कोर तक सभी पहलुओं को अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होती है।

इस बात में कोई दोराय नहीं है कि केटलबेल से वर्कआउट करना एक बेहतर ऑप्शन है। लेकिन केटलबेल की मदद से एक्सरसाइज का मैक्सिमम लाभ उठाने के लिए और किसी भी तरह की चोट से बचने के लिए आपको कुछ टिप्स का ध्यान रखना चाहिए। जिसके बारे में  फिटनेस एक्सपर्ट जितेन्द्र कौशिक आपको इस लेख में बता रहे हैं-

सही केटलबेल चुनें 

kentablle exercise

केटलबेल से एक्सरसाइज करने की शुरूआत करने से पहले जरूरी है सही केटलबेल का चुनाव करना। सबसे पहले, आपको अपने लिए सही वजन चुनने की जरूरत है। इसके लिए  आप अपने स्थानीय फिटनेस स्टोर पर जाएं ताकि आप प्रत्येक वजन का अंदाजा लगा सकें। आप चाहें तो सही केटलबेल चुनने के लिए किसी फिटनेस एक्सपर्ट की मदद भी ले सकते हैं। गलत केटलबेल का चयन करने से आपको चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा, आपको इसकी शेप पर भी फोकस करना चाहिए। केटलबेल का हैंडल इतना चौड़ा होना चाहिए कि आप इसे दोनों हाथों से बिना ओवरलैप किए पकड़ सकें। (वजन करें कम)

इसे भी पढ़ें:गर्दन और कंधे की अकड़न के लिए रोजाना करें ये 5 योगासन

अपनी ग्रिप पर ध्यान दें

Kettlebell exercise

जब आप केटलबेल की मदद से एक्सरसाइज शुरू कर रही हैं तो यह जरूरी है कि आप पहले उसे सही तरह से पकड़े और उसके बाद ही एक्सरसाइज शुरू करें। अगर आपको लगता है कि केटलबेल मूव करने के दौरान आपकी ग्रिप से गिरने वाली है, तो इसे छोड़ दें। कभी भी केटलबेल को अजीब स्थिति में पकड़ने की कोशिश न करें, इससे आपको गंभीर चोट लग सकती है। बहुत बार बिगनर्स केटलबेल पर अपनी पकड़ खो सकते हैं क्योंकि वे एक्सरसाइज करके बहुत अधिक थक चुके होते हैं। ऐसा करने से बचें और यह भी जानें कि कब रुकना है।

पोजिशन पर भी दें पूरा ध्यान

expert tips

चूंकि केटलबेल वजनदार एक्सरसाइज टूल है, इसलिए उन्हें उठाते या स्विंग करते समय अच्छे फॉर्म का होना जरूरी है। फर्श से केटलबेल उठाते समय सुनिश्चित करें कि आपकी बैक आर्च हो और वह मुड़ी नहीं हो। इसी तरह, आप कंधों को थोड़ा पीछे रखें। कंधों को आगे की ओर घुमाने से चोट लग सकती है। इस स्थिति में आपकी छोटी मांसपेशियों को वह काम करना पड़ता है, जो वास्तव में बड़ी मांसपेशियों को करना चाहिए। इस बात पर आप विशेष रूप से फोकस करें कि केटलबेल एक्सरसाइज के दौरान आपके हिप्स को फोर्स अब्जॉर्ब करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: कार्डियोरेस्पिरेटरी फिटनेस में सुधार कर इम्‍यूनिटी को मजबूत बनाते हैं ये 6 योग

Recommended Video

कलाई की पोजिशन

Kettlebell for exercise

कलाई की पोजिशन भी केटलबेल एक्सरसाइज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। केटलबेल के साथ कसरत करते समय कलाई में एक प्रॉपर एंगल बनाए रखने से चोट लगने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है। कोशिश करें कि आप अपनी कलाइयों को बिना झुकाए सीधा रखें, ताकि केटलबेल मूव्स करते समय अतिरिक्त तनाव महसूस न हो।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।