योगासन और ध्यान का अभ्यास स्वाभाविक रूप से इम्‍यून सिस्‍टम के निर्माण में मदद करता है। योग तकनीक शरीर में तनाव हार्मोन को कम करने में सहायता करती है, यही वह है जो इम्‍यून‍ सिस्‍टम को बढ़ाती है और इसे कमजोर होने से रोकती है। इसके अलावा, योग फेफड़ों और श्वसन तंत्र की स्थिति को ठीक करता है, आपके कार्डियोस्पिरेटरी फिटनेस और लसीका तंत्र को शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है और अंगों के इष्टतम कामकाज को सुनिश्चित करता है।

योग अब विश्वव्यापी है और यह साबित करने के लिए बहुत सारे शोध हैं कि दिन में 20 मिनट भी अभ्यास करने से एंडोर्फिन बढ़ सकता है। ये शरीर के भीतर अच्छे केमिकल महसूस करते हैं, जो कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में सहायता करते हैं जो तनाव का कारण बनते हैं। यह बदले में मन की सकारात्मक स्थिति की ओर ले जाता है जो समग्र स्वास्थ्य में सुधार करता है। 

योग और ध्यान अभ्यास प्रतिरक्षा में सुधार के लिए जाने जाते हैं। यहां कुछ आसन दिए गए हैं, जो हमारी इम्‍यून सिस्‍टम को बेहतर बना सकते हैं। योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

धनुरासन

Dhanurasana immunity

  • इसकी शुरुआत पेट के बल लेटकर करें।
  • हथेलियों से टखनों को पकड़ने के लिए घुटनों को मोड़ें।
  • सांस भरते हुए पैरों और बाजुओं को जितना हो सके ऊपर उठाएं।
  • पेट पर संतुलन बनाएं।
  • ऊपर देखें और कुछ देर के लिए इस आसन में बने रहें।

चक्रासन

Chakrasana immunity

  • पैरों को घुटनों पर मोड़ें और सुनिश्चित करें कि पैर फर्श पर मजबूती से टिके हुए हैं।
  • हथेलियों को कानों के पास रखें। 
  • उंगलियों को आगे की ओर रखते हुए श्वास लें और पूरे शरीर को ऊपर उठाएं।
  • सिर को धीरे से पीछे गिरने दें और गर्दन को आराम से रखने की कोशिश करें।
  • शरीर के वजन को पैरों और हथेलियों के बीच समान रूप से वितरित करें।

पश्चिमोत्तानासन

Paschimottanasana immunity

  • पैरों को आगे की ओर फैलाते हुए दंडासन से शुरुआत करें।
  • आप चाहे तो घुटनों को थोड़ा मोड़कर रख सकते हैं।
  • बांहों को ऊपर उठाएं और रीढ़ को सीधा रखें।
  • कूल्हे से आगे की ओर झुकते हुए सांस छोड़ें।
  • पैर की उंगलियों को पकड़ें।
  • आसन में कुछ देर के लिए रुकें।

पादहस्तासन

padahasthasana  for immunity

  • इस आसन को समस्ती में शुरू करें।
  • सांस छोड़ें और ऊपरी शरीर को आगे की ओर मोड़ें।
  • सिर गिराएं और कंधों और गर्दन को आराम दें।
  • धड़ को पैरों के करीब लाने की कोशिश करें।
  • हथेलियों को पैरों के दोनों ओर रखें।
  • पूरे अभ्यास के दौरान पैरों और घुटनों को सीधा रखने की कोशिश करें।
  • इस आसन को कुछ देर तक रोककर रखें।

उष्ट्रासन

Ustrasana immunity

  • योगा मैट पर घुटने टेकें और हाथों को कूल्हों पर रखें।
  • साथ ही, पीठ को झुकाएं और हथेलियों को पैरों पर तब तक खिसकाएं जब तक कि बाहें सीधी न हो जाएं।
  • गर्दन को तनाव या फ्लेक्स न करें बल्कि इसे तटस्थ स्थिति में रखें।
  • इस आसन में कुछ सांसें रुकें।
  • सांस छोड़ें और धीरे-धीरे वापस प्रारंभिक मुद्रा में आ जाएं। 
  • हाथों को वापस ले लें और जैसे ही आप सीधा करते हैं, उन्हें वापस अपने कूल्हों पर ले आएं।

Recommended Video

शालाबासन

Shalabasana for immunity

  • पेट के बल लेट जाएं और हथेलियां जांघों के नीचे रखें।
  • श्वास अंदर लें और फिर पैरों को एक साथ ऊपर उठाएं।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने सीधे रहें और पैर एक साथ हों।
  • ठुड्डी या माथा को ज़मीन पर रखें।
  • 10 सेकेंड के लिए आसन में रहें, धीरे-धीरे पैरों को नीचे लाएं और फिर सांस छोड़ें।

यह सांस लेने की तकनीक चिकित्सीय है। चक्रासन, धनुरासन और उष्ट्रासन जैसे आसनों का अभ्यास करने से छाती का विस्तार होता है और फेफड़ों को अधिक ऑक्सीजन मिलती है। यह शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाने के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। यह मुद्रा को कोरोना वायरस जैसे श्वसन रोगों से बचाव के लिए लाभकारी बनाता है। 

योग शरीर में तनाव को भी कम करता है जो हमारी इम्‍यूनिटी को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं? ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।