हमें हमेशा एक्टिव रहने और रेगुलर एक्‍सरसाइज करने के लिए कहा जाता है। लेकिन चाहे आप किसी प्रतियोगिता के लिए ट्रेनिंग ले रही हों या एक्‍स्‍ट्रा मोटिवेटेट  महसूस कर रही हों या इससे भी ज्‍यादा, यह हमेशा बेहतर नहीं होता है। आराम के दिन एक्‍सरसाइज की तरह ही महत्वपूर्ण होते हैं। वास्तव में, एक सफल फिटनेस रूटीन आराम के दिनों के बिना पूरा नहीं होता है।

नियमित ब्रेक लेने से आपके शरीर को ठीक होने और मरम्मत करने की अनुमति मिलती है। यह आपके फिटनेस लेवल या खेल की परवाह किए बिना प्रगति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। अन्यथा, आराम के दिनों को छोड़ने से ओवरट्रेनिंग या बर्नआउट हो सकता है। आराम के दिन के फायदों के बारे में हमें नम्रता पुरोहित के इंस्‍टाग्राम को देखने के बाद पता चला है।   

नम्रता ने आराम के फायदे बताते हुए कैप्‍शन में लिखा, ''कुछ ऐसा जो मुझे लगता है कि पर्याप्त बात नहीं है.. आराम क्यों?? यह बहुत महत्वपूर्ण है और वास्तव में यह तब होता है जब आपकी मसल्‍स बनती हैं और अंतर दिखने लगता है। यह आपके शरीर और दिमाग के लिए महत्वपूर्ण है।'' आइए नियमित आराम के दिनों के फायदों पर एक नजर डालते हैं।

expert tips for rest day

मसल्‍स में दर्द से राहत

आराम के दिनों में, शरीर मसल्‍स से अतिरिक्त लैक्टेट निकालने का मौका होता है। यह मसल्‍स में दर्द को कम करने में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें:दिनभर की थकान से खुद को ऐसे करें रिलैक्स

रिकवरी के लिए देता है समय

आम धारणा के विपरीत, आराम के दिन का मतलब सोफे पर आलसी होकर सोना नहीं है। यह इस समय के दौरान है कि एक्‍सरसाइज के लाभकारी प्रभाव होते हैं। विशेष रूप से, मसल्‍स की वृद्धि के लिए आराम आवश्यक है।

एक्‍सरसाइज आपके मसल्‍स के टिशू में सूक्ष्म आंसू पैदा करती है। लेकिन आराम के दौरान, फाइब्रोब्लास्ट्स नामक कोशिकाएं इसकी मरम्मत करती हैं। यह टिशू को ठीक करने और बढ़ने में मदद करता है, जिसके परिणामस्वरूप मसल्‍स मजबूत होती हैं।

Recommended Video

 

शरीर के ऊर्जा भंडार को फिर से भरना

ग्लाइकोजन मसल्‍स में संग्रहित ऊर्जा का एक रूप है। एक्‍सरसाइज ग्लाइकोजन के लेवल को कम करता है, जिससे मसल्‍स में थकान होती है। आराम के दिन मसल्‍स को अपने ग्लाइकोजन भंडार को फिर से भरने की अनुमति देते हैं, जिससे मसल्‍स की थकान कम हो जाती है और अगली वर्कआउट के लिए मसल्‍स को तैयार किया जाता है।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Namrata Purohit (@namratapurohit)

चोट के जोखिम को करता है कम

एक्‍सरसाइज के दौरानसुरक्षित रहने के लिए नियमित आराम आवश्यक है। जब आपका शरीर अधिक वर्कआउट करता है, तो आपके फॉर्म से बाहर होने, वजन कम करने या गलत कदम उठाने की अधिक संभावना होगी।

ओवरट्रेनिंग आपकी मसल्‍स को दोहराए जाने वाले स्‍ट्रेस और स्‍ट्रेन के लिए भी उजागर करती है। इससे अत्यधिक उपयोग की चोटों का खतरा बढ़ जाता है, जिससे आपको नियोजित से अधिक आराम के दिन लेने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

इसे जरूर पढ़ें:काम से लौटकर बुरी तरह थक जाती हैं आप, इस तरह करें खुद को रिचार्ज

दिमाग को आराम देने में मददगार

ज्‍यादा एक्‍सरसाइज करने से मन के साथ-साथ शरीर भी थक सकता है। वर्कआउट रूटीन के दौरान थकान के कारण खराब निर्णय हो सकते हैं, जिससे चोट लगने का खतरा बढ़ जाता है। आराम के दिन किसी भी एक्‍सरसाइज रूटीन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं।

आपको नियमित आराम के दिनों की प्‍लानिंग बनानी चाहिए और लेना चाहिए और यह भी पहचानना चाहिए कि अतिरिक्त आराम के दिनों की आवश्यकता कब होती है।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।