• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

पीरियड फ्लो से लेकर वेट लॉस तक, ये 1 मुद्रा आपको देगी विशेष लाभ

अगर आप भी हेल्‍थ से जुड़ी 10 समस्‍याओं को 1 साथ दूर करना चाहती हैं तो रोजाना कुछ देर लिंग मुद्रा को जरूर करें। 
author-profile
Published -26 May 2022, 14:51 ISTUpdated -27 May 2022, 15:43 IST
Next
Article
linga mudra hindi

महिलाएं घर और बाहर की जिम्‍मेदारियों में इतना उलझी रहती हैं कि खुद की ओर ध्‍यान ही नहीं दे पाती हैं। इससे उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए लगभग हर रोज हम महिलाओं के लिए योग और मुद्रा से जुड़ा कोई न कोई आर्टिकल जरूर लेकर आते हैं। आज हम आपको एक ऐसी मुद्रा के बारे में बता रहे हैं जो महिलाओं की हेल्‍थ को दुरुस्‍त रखने में मदद कर सकती हैं। 

योग में प्राणायाम और मेडिटेशन के अलावा, हस्त मुद्रा की भी एक अलग पहचान होती है। जिसमें हाथ को विशेष तरीके से रखने से शरीर की प्राण ऊर्जा का उपयोग करके मनचाहा लाभ प्राप्त होता है। साथ ही शारीरिक और मानसिक विकारों को भी दूर किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, यदि आपको ठंड लग रही है या पुरानी नाक, खांसी, या सर्दी से परेशान है तो आप योग हाथ मुद्रा- लिंग करके ठंड को दूर और ऊर्जावान महसूस कर सकती हैं। यह प्रतीकात्मक हाथ इशारा, जो पहले चक्र से जुड़ा है, अग्नि तत्व बनाने में मदद करता है।

लिंग मुद्रा हाथ के इशारे के लिए एक संस्कृत शब्द है जो शिव, सर्वोच्च भगवान का प्रतिनिधित्व करता है और यह पुरुष लिंग के साथ जुड़ा हुआ है। यह मुद्रा पुरुषत्व का प्रतीक है, इसलिए इसे लिंग मुद्रा कहा जाता है। यह मुद्रा शरीर के अंदर अग्नि तत्व पर ध्यान केंद्रित करके काम करती है। इस आर्टिकल में योग मास्टर, स्पिरिचुअल गुरु और लाइफस्टाइल कोच, ग्रैंड मास्टर अक्षर जी हमें विस्‍तार से बता रहे हैं कि लिंग मुद्रा क्यों महत्वपूर्ण है, इसके लाभ और इसे कैसे करें और साथ ही कुछ दुष्प्रभाव भी।

लिंग मुद्रा

linga mudra for women hindi

ग्रैंड मास्टर अक्षर जी का कहना है, 'लिंग मुद्रा पुरुष लिंग के साथ जुड़ा हुआ है जो ध्यान आसन के साथ मिलकर प्रदर्शन करता है। यह एक योगिक मुद्रा है जिसे प्रथम रूप माना जाता है। इस मुद्रा में हथेलियों को आपस में बांधते हैं लेकिन बाएं अंगूठे को ऊपर की ओर रखते हुए सीधा रखते हैं। लिंग मुद्रा कभी भी और कहीं भी कर सकते है। 

इसे जरूर पढ़ें: महिलाओं की हेल्‍थ के लिए बेस्‍ट हैं ये 3 मुद्राएं, रोजाना करें

लिंग मुद्रा के साथ वज्रासन

  • इसे करने के लिए घुटनों के बल नीचे बैठ जाएं। 
  • पेल्विक को पैर की उंगलियों के साथ एड़ी पर रखें।
  • हथेलियों को घुटनों पर ऊपर की ओर रखें।
  • पीठ को सीधा करें और आगे की ओर देखें।

लिंग मुद्रा की विधि

  • इस मुद्रा के अभ्यास के लिए सबसे पहले वज्रासन में बैठ जाएं।
  • आंखें बंद करें और कुछ गहरी सांसें लें।
  • अब दोनों हाथों को शरीर के सामने लाएं, उन्हें पकड़ें और उंगुलियों को आपस में जोड़ लें।
  • लेकिन बाएं अंगूठे को सीधा रखते हुए ऊपर की ओर इशारा करते हुए दाएं हाथ के अंगूठे और तर्जनी से घेर लें।
  • मन से सभी विचारों को हटाकर केंद्रित करना है।
  • इसके अलावा, इसे दोनों हाथों से एक साथ करना चाहिए।
  • स्वयं से सांस की गति को कम या ज्यादा न करें।
  • इस मुद्रा को रोजाना लगातार 35 मिनट तक या दिन में तीन बार 10 से 12 मिनट तक करें।

लिंग मुद्रा के फायदे

लिंग मुद्रा का मुख्य फायदा शरीर के भीतर गर्मी उत्पन्न करने की क्षमता है। यह गर्मी उत्पादन शरीर को कई संक्रमणों, सामान्य सर्दी, बलगम उत्पादन, फेफड़ों के सामान्य विकारों, ब्रोंकाइटिस सर्दी और बुखार के नियमन से लड़ने में मदद करती है। कोर हीट मेटाबॉलिज्म और श्वसन क्रिया को बेहतर बनाने में हमारी मदद करती है और इम्‍यूनिटी और संक्रमण से लड़ने की क्षमता में फायदा होता है। लिंग मुद्रा के कुछ प्रमुख लाभ- 

linga mudra for periods problem  

  • यह मुद्रा सर्दी-जुकाम से राहत देती है।
  • बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण से लड़ती है।
  • बलगम के उत्पादन को कम करती है और संचित बलगम को इकट्ठा करती है।
  • ब्रोंकाइटिस संक्रमण और विकारों से लड़ती है।
  • डाइजेशन में सुधार करती है और लिंग मुद्रा से आप अपने शरीर की अनावश्यक कैलोरी को हटाकर मोटापा कम कर सकती हैं।
  • सुस्ती और आलस्य को दूर करती है।
  • आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति को बढ़ाती है।
  • इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करती है।
  • यौन शक्ति और स्वास्थ्य में वृद्धि करती है। 
  • महिलाओं में पीरियड्स से संबंधित समस्याओं को ठीक करती है। साथ ही इस मुद्रा को सूर्य मुद्रा के साथ करने से पीरियड्स के फ्लो को नियंत्रित किया जा सकता है।
 

लिंग मुद्रा करने के लिए शारीरिक मुद्राएं

लिंग मुद्रा को बैठने और खड़े होने की विभिन्न स्थितियों में किया जा सकता है। आप आराम से एक कुर्सी पर बैठ सकती हैं, एक सीधी रीढ़ की हड्डी के साथ और इस मुद्रा को आजमा सकती हैं। यह अभ्यास करने का सबसे आकस्मिक तरीका है। हालांकि, एक योग तरीके से आप सुखासन, पद्मासन या किसी अन्य क्रॉस-लेग्ड मुद्रा में बैठकर मुद्रा करें। क्रॉस लेग्ड सिटिंग पोज़ आपकी इम्यूनिटी, मेटाबॉलिज्म और एकाग्रता को बढ़ा सकती हैं। आप वज्रासन में भी बैठ सकती हैं जो पाचन लाभ को बढ़ाएगा।

हालांकि, अगर कोई चाहे तो खड़ी या चलने की स्थिति में भी लिंग मुद्रा कर सकती हैं। ऐसा करते समय अपने पैरों को हिप-चौड़ाई से अलग करके सीधी खड़ी हो जाएं। अपनी रीढ़ को सीधा रखें, अपनी रीढ़ की लंबाई बनाए रखें, अपने कंधों को नीचे दबाएं और अपने सिर को अपने हिप्‍स की रेखा में पीछे धकेलें।

linga mudra for women

सावधानी 

हालांकि, सभी मुद्राएं बिना किसी साइड इफेक्‍ट्स के हमारे लिए फायदेमंद होती हैं। लेकिन उंगली पर प्रेशर नहीं डालना चाहिए। प्रेशर का मतलब है, आपका मन बेचैन है और स्थिर नहीं है। नतीजतन, कुछ भी नहीं। इस मुद्रा को स्वतंत्र रूप से करें। जिन महिलाओं को पित्त की समस्या है उन्हें इस मुद्रा को नहीं करना चाहिए। गर्मी के मौसम में इस आसन को ज्यादा देर तक नहीं करना चाहिए। एसिडिटी, बुखार और पेट के अल्सर की स्थिति में यह मुद्रा नहीं करनी चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: महिलाओं की 5 समस्‍याओं का 1 इलाज है योनि मुद्रा, रोजाना कुछ देर करें

आप भी इस मुद्रा को करके हेल्‍थ से जुड़े कई फायदे पा सकती हैं। योग और मुद्रा से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock & Freepik 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।