आयुर्वेद में बीमारियां तीन दोषों की वजह से होती हैं जिन्हें पित्त, कफ और वात कहा जाता है। इन तीनों का बैलेंस अगर शरीर में बिगड़ जाए तो लोग बीमार होने लगते हैं। इसमें से वात दोष यानि गैस की समस्या डाइजेशन से जुड़ी होती है और कई बार तो ये वात इतना ज्यादा बढ़ जाता है कि पेट की अकड़न, नसों की कमजोरी, स्ट्रोक आदि का खतरा भी होने लगता है। 

आयुर्वेद कहता है कि वात दोष एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर का वायु दोष काफी ऊर्जावान भी साबित हो सकता है और ये शरीर को बीमार भी बना सकता है। 

आयुर्वेद कहता है कि अगर इंसान को ये दोष सही रखना है तो उसे एक नियमित रूटीन फॉलो करना चाहिए, स्ट्रेस से दूर रहना चाहिए और मन को शांत करने की एक्टिविटीज करनी चाहिए। इसके अलावा, ठंडी चीज़ों से भी दूर रहना चाहिए।

वात दोष में अधिकतर गैस और ब्लोटिंग की समस्याएं होती हैं और ऐसे में इंसान को इन्हें कम करने के लिए क्या करना चाहिए? मिस इंडिया कंटेस्टेंट्स को ट्रेनिंग देने वाली एक्सपर्ट डायटीशियन अंजली मुखर्जी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इस समस्या से निजात पाने के कुछ तरीके शेयर किए हैं। अंजली लगभग 20 सालों से इसी फील्ड में काम कर रही हैं और वो डाइट टिप्स एक्सपर्ट भी हैं। 

ayurveda  doshas

इसे जरूर पढ़ें- जानिए आपके लिए कितनी फायदेमंद है चाय में अदरक

इस तरह के खाने से रहें दूर-

अंजली का कहना है कि कड़वा और तीखा खाना वात दोष को बढ़ाता है और गैस, पेट दर्द, अकड़न, मरोड़ उठना जैसी समस्याएं होती हैं। जिन लोगों को ये सब हो रहा है उन्हें तीखे और चटपटे खाने से दूर रहना चाहिए। वात बढ़ता है तो गैस के साथ-साथ एंग्जाइटी भी बढ़ती है और ये आपके स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल अच्छी नहीं है और यही कारण है कि आपको इस तरह के खाने से दूर रहना चाहिए। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Anjali Mukerjee (@anjalimukerjee)

 

इसे जरूर पढ़ें- अगर शरीर में है विटामिन-B12 की कमी तो करें ये काम 

इस तरह का खाना खाने से कम होगा वात दोष- 

अंजली जी ने ये भी बताया कि वात दोष को कम करने के लिए आपको आयुर्वेद के 6 स्वाद में से 3 स्वाद अपनी डाइट में शामिल करने चाहिए। ये है मीठा, खट्टा और नमकीन। आप गैस और पेट की मरोड़ को कम करने के लिए नमक, चीनी मिलाकर नींबू पानी पी सकते हैं ये तीनों स्वाद एक साथ शामिल करेगा और आपकी इस परेशानी को दूर करेगा।  

  • आपको बैलेंस डाइट लेनी चाहिए। 
  • आयुर्वेद के ये तीन टेस्ट अपने पैलेट में जरूर शामिल करें। 
  • गर्म चीज़ों की जगह ठंडी चीज़ों पर फोकस करें। 
  • अपने दिन भर का रूटीन बना कर रखें। 
  • आप घी को भी अपनी डाइट में जरूर शामिल करें।
  • फर्मेंटेड फूड्स आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।  

Recommended Video

ये तरीके ही आपके वात दोष को कम कर सकते हैं। हर इंसान अपने शरीर में वात, पित्त और कफ तीनों दोषों के कॉम्बिनेशन के साथ पैदा होता है और ये तीनों ही जिंदगी भर हमारे स्वास्थ्य का ख्याल रखते हैं। इनका बढ़ना-घटना सेहत के लिए अच्छा नहीं हो सकता और आयुर्वेद कहता है कि नियम और डाइट का सही पालन इन दोषों को ठीक करने का काम कर सकता है।  

तो अगर आपको गैस, ब्लोटिंग और पेट दर्द आदि की समस्या रहती है तो ये टिप्स जरूर अपनाएं। अगर समस्या बहुत बढ़ी हुई है तो ये जरूरी है कि आप अपने डॉक्टर से इसके बारे में जरूर बात करें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।