योग मुद्राएं हाथों की विशिष्ट मुद्राएं हैं, जो शरीर और मन में ऊर्जा के प्रवाह को सुविधाजनक बनाने के लिए बनाई गई हैं ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा स्वास्थ्य लाभ प्राप्‍त किए जा सकें।

'मुद्रा' एक संस्कृत शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ है 'हाथ का इशारा'। कई हिंदू और बौद्ध अनुष्ठान और विभिन्न नृत्य रूप गहरे अर्थ को व्यक्त करने के लिए मुद्राओं का उपयोग करते हैं।

आपने योग आसन और श्वास क्रिया, प्राणायाम के बारे में सुना होगा, लेकिन क्या आप जानती हैं कि योग मुद्राएं या हाथ के इशारे भी वैदिक उपचार अभ्यास का हिस्सा हैं?

जी हां योग एक प्राचीन प्रथा है जो सदियों से जीवन को बदल रही है। हम सभी योग को 'आसन' नामक चुनौतीपूर्ण शारीरिक मुद्रा के विज्ञान के रूप में जानते हैं और शारीरिक और मानसिक शरीर को फिट रखने के लिए 'प्राणायाम' नामक श्वास तकनीक का प्रदर्शन करते हैं।

लेकिन रुकिए, इसमें और भी बहुत कुछ है। मुद्राएं भी योग की उपचार शक्ति का हिस्सा हैं।

मुद्रा हमारे शरीर, मन और आत्मा को सहारा देने का एक शानदार तरीका है। यहां हम 3 प्रमुख मुद्राओं के बारे में बात कर रहे हैं, जो महिला स्वास्थ्य का समर्थन करती हैं। इन मुद्राओं के बारे में हमें आयुर्वेदिक डॉक्‍टर जीतू रामचंद्रन जी बता रही हैं। उन्‍होंने इन मुद्राओं की जानकारी अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से फैन्‍स के साथ शेयर की है।

ये सभी ध्यान आसन या आरामदायक स्थिति में की जाने वाली मुद्राएं हैं। इन्हें प्रारंभिक चरणों के दौरान 15 मिनट के अंतराल पर किया जा सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: सिर्फ 5 मिनट उंगलियों को इस तरह रखना, सेहत के लिए है जादुई

काली मुद्रा

kali mudra

संस्कृत में, काली का अर्थ है "वह जो काली है" या "वह जो मृत्यु है" और मुद्रा का अर्थ है "इशारा।" काली के लिए मूल शब्द काला है जिसका अर्थ है "काला" या "समय।" काली ऊर्जा शक्ति का प्रतिनिधित्व है जो नारी शक्ति भी है। यह अभ्यास एक संयुक्ता है जिसका अर्थ है "डबल" हस्त मुद्रा, जहां इस अभ्यास को करने के लिए दोनों हाथों की आवश्यकता होती है।

  • तर्जनी मध्यमा, अनामिका और छोटी उंगलियों को आपस में जोड़कर ऊपर की ओर इशारा करते हुए इस मुद्रा को करें।
  • ध्यान देने योग्य बात है कि बायां अंगूठा दाहिनी ओर क्रॉस किया जाना चाहिए।

काली मुद्रा के फायदे

  • यह मुद्रा पाचन में सहायक होती हैै। 
  • पसीने को प्रोत्साहित करती है जो शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है।
  • शरीर में प्राण का अर्थ "जीवन शक्ति ऊर्जा" बनाने में मदद करता है।
  • नकारात्मकता, चिंता, अवसाद के साथ-साथ अनिद्रा को भी दूर करती है।
  • काली मां मेडिटेशन या काली मां मंत्र के साथ, यह हमारे भीतर की स्त्री ऊर्जा को मजबूत करती है।

योनि मुद्रा

yoni mudra

यह अप्रतिबंधित स्त्री ऊर्जा को खोलने के लिए सबसे विशिष्ट और शक्तिशाली मुद्रा है। यह मुद्रा महिला प्रजनन अंग या गर्भ का प्रतिनिधित्व करती है। यह देवी शक्ति की तरह शक्ति और शक्ति का आह्वान करती है।

योनि मुद्रा के फायदे

  • तंत्रिका तंत्र को शांत करता है।
  • पीरियड्स के दर्द से राहत मिलता है। 
  • पीएमएस में सहायक होती है।
  • यह गर्भाशय के लिए लाभकारी और अनुशंसित योग है और प्रजनन संबंधी मुद्दों को हल करता है।
  • जब हम इसे सोने से पहले कर रहे होते हैं, तो यह दिमाग को शांत करने में मदद करता है।

Recommended Video

अपान मुद्रा

Apana mudra

यदि आप पीरियड्स की अनियमितताओं से जूझ रही हैं, तो यह मुद्रा अपनी जर्नी में जोड़ने के लिए एक और उपचार उपकरण है। 

अपान एक ऐसी मुद्रा है जो आपकी आंखों, मुंह, कान और नाक से अपशिष्ट को हटाकर बॉडी को डिटॉक्सीफाइ करने में मदद करती है। इस मुद्रा को करने और ठीक से सांस लेने से आप अपने शरीर से 90% विषाक्त पदार्थों को खत्म कर सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: वजन घटाना हो या झुर्रियों को दूर भागना, 10 बीमारियों का एक इलाज है ये 8 मुद्राएं

अपान मुद्रा के फायदे

  • इस मुद्रा का उद्देश्य अपान वायु को संतुलित करना है। 
  • पेट के निचले हिस्से, पेल्विक के अंगों और उसके कार्यों को नियंत्रित करना है। 
  • यह डाइजेशन के साथ मेटाबॉलिज्म के लिए भी बेस्ट मानी जाती है।
  • शरीर की स्ट्रेंथ को मजबूत करने का भी काम करती है।
  • अपान वायु में नीचे की ओर गति होती है; इसकी गड़बड़ी कब्ज, दस्त, बवासीर, पीरियड्स की अनियमितता आदि जैसी स्थितियों का कारण बनती है।

इन मुद्राओं को करके आप खुद को फिट रख सकती हैं। फिटनेस से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock.com