हर महिला चाहती हैं कि वह बच्‍चे के जन्‍म के तुरंत बाद ही शेप में आ जाए। लेकिन महिलाओं को डिलीवरी के लगभग 6 हफ्ते से पहले इस तरह की कोशिश नहीं करनी चाहिए। डिलीवरी के बाद प्रेग्‍नेंसी को प्री-प्रेग्‍नेंसी की अवस्था में आने में लगभग 6 हफ्ते का समय लगता है। तब तक यूट्रस लगभग मूल आकार में सिकुड़ जाता है, शरीर से प्रेग्‍नेंसी के हार्मोन क्‍लीर होते हैं और ब्‍लड सर्कुलेशन सामान्य हो जाता है। इसके अलावा अगर किसी महिला की डिलीवरी सीजेरियन हुई है तो घाव को पूरी तरह से ठीक होने में लगभग दो हफ्ते का समय लगता है। इसलिए महिलाओं को डिलीवरी के बाद तुरंत शेप में आने की कोशिश से बचना चाहिए। लेकिन बच्चे की नैप्‍पी बदलते समय नीचे की ओर झुकना, बच्चे को उठाते समय और ब्रेस्‍टफीडिंग कराते समय पीठ में स्‍ट्रेच आता है और लंबे समय तक इससे पीठ दर्द की समस्‍या हो सकती है। इ‍सलिए हल्‍के स्‍ट्रेच और वॉकिंग जरूर करनी चाहिए। यह शरीर को हेल्‍दी रखने और मसल्‍स को टोन करने में मदद करता है। इस आर्टिकल में हम आपके लिए वापस शेप में आने के कुछ फिटनेस टिप्‍स लेकर आए हैं, जिन्‍हें अपनाने के बाद आप कुछ महीनों में ही प्री-प्रेग्‍नेंसी अवस्‍था में आ जाएंगी।

इसे जरूर पढ़ें: डिलीवरी के बाद भी प्रेग्‍नेंट दिखती हैं तो अपनाएं ये simple tips

भरपूर पानी का सेवन

drinking water for weight loss inside

अगर आप डिलीवरी के बाद वापस पुरानी शेप में आना चाहती हैं तो अपनी डाइट में भरपूर पानी को शामिल करें क्‍योंकि डिहाइड्रेशन इसमें महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। अच्‍छा हाइड्रेशन सर्कुलेशन को बनाए रखता है, नसों को बनाने वाले ब्‍लड के थक्‍कों से बचाता है, ब्रेस्‍ट में दूध के प्रोडक्‍शन में सुधार करता है और कब्‍ज के साथ ही पाइल्‍स से भी बचाता है। डिलीवरी के बाद ज्‍यादातर महिलाओं को कब्‍ज के कारण पाइल्‍स की समस्‍या होने लगती है।

कोर एक्‍सरसाइज

प्रेग्‍नेंसी के नौ महीनों के दौरान महिलाओं का पेट भ्रूण की मौजूदगी के कारण काफी बढ़ जाता है उसे डिलीवरी के बाद तुरंत शेप में लाना थोड़ा मुश्किल होता है। पेट की मसल्‍स को टोन और मजबूत करने के लिए एक्‍सरसाइज की जरूरत होती है। कोर मजबूत करने वाली एक्‍सरसाइज जैसे लेग रेज, पेल्विक ब्रिज, क्रंचेस और हील टचिंग, आदि एक्‍सरसाइज रोजाना करें। इसे करने से आप तेजी से अपने बेली फैट को कम करने दोबारा शेप में आ सकती हैं।   

वॉकिंग

walking for weight loss inside

खुद को फिट रखना हो या फिर तेजी से वजन कम करना, वॉकिंग को बेस्‍ट एक्‍सरसाइज माना जाता है। यहां तक कि डिलीवरी के बाद होने वाले पीठ दर्द को कम करने और दोबारा शेप में आने के लिए वॉकिंग सबसे आसान और अच्‍छा तरीका है। इसके अलावा ब्रिस्क वॉक आपको बाद में अधिक इंटेंसिव एक्‍सरसाइज करने के लिए तैयार भी करता है।

Recommended Video

 

स्विमिंग

swimming for weight loss inside

डिलीवरी के बाद स्विमिंग करना भी एक अच्छी एक्‍सरसाइज है। डिलीवरी के लगभग 4 से 6 हफ्तों के बाद जब एक बार ब्‍लीडिंग बंद हो जाती है और घाव पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं तो इसे फिर से शुरू किया जा सकता है। इससे भी आपको तेजी से बेली फैट कम करने में मदद मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें: Housewives को मिलेगी राहत, अब वेट लॉस के लिए नहीं जाना पड़ेगा जिम

  

डिलीवरी के बाद महिलाओं में अक्सर कमर के आसपास के एरिया में दर्द की शिकायत होती है। इसकी वजह पेल्विक फ्लोर मसल्स का कमजोर होना है। पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज या कीगल एक्सरसाइज सभी महिलाओं के लिए एक अच्छा पेल्विक टोन बनाए रखने के लिए बहुत जरूरी है। कीगल एक्सरसाइज करना बेहद आसान है। इसके लिए आपको बस अपने पेल्विक एरिया की मसल्‍स को कॉन्ट्रैक्ट और रिलैक्स करना है। इससे न सिर्फ आपका यूरिनरी ट्रेक्ट मजबूत होगा बल्कि इससे आप यूरिन और बाउल मूवमेंट को कंट्रोल कर पाएंगी।

अगर आपकी डिलीवरी को भी 6 महीने हो चुके हैं तो दोबारा प्रेग्‍नेंसी से पहले वाली बॉडी पाने के लिए इन टिप्‍स को आजमा सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com