• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

International Yoga Day 2022 : विटामिन-डी का लेवल बढ़ाकर पैरों और पीठ को मजबूत करती है ये स्‍पेशल वॉक

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर हम आपको एक ऐसी वॉक के बारे में बता रहे हैं जो आपके विटामिन-डी के लेवल को बढ़ाकर तन और मन को दुरुस्‍त रखने में मदद क...
author-profile
Published -16 Jun 2022, 15:02 ISTUpdated -21 Jun 2022, 08:53 IST
Next
Article
mental benefits of siddha walk

तन और मन को दुरुस्‍त रखने के लिए योग बेहद जरूरी होता है। रोजाना योग करके आप खुद को कई तरह की बीमारियों से बचा सकते हैं। इसलिए रोजाना योग करने की सलाह दी जाती है। योग के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 21 जून को पूरी दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। इस साल भी 21 जून को 8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 पूरी दुनिया में 'मानवता के लिए योग' थीम के साथ मनाया जाएगा। इस मौके पर हम आपको एक ऐसी वॉक के बारे में बता रहे हैं जो आपकी हेल्‍थ के लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकती हैं। इसके बारे में हमें अक्षर जी बता रहे हैं।

सिद्ध वॉक

इसे अन्य समानार्थी नामों जैसे आठ वॉक, इन्फिनिटी वॉक से जाना जाता है। हिमालयन सिद्ध अक्षर जी बताते हैं कि इसके अभ्यास को एक निर्धारित समय की अवधि में दोहराया जाता है, तो व्यक्ति अपने अभ्यासों में पूर्णता प्राप्त करता है और असंख्य योग और आध्यात्मिक लाभ प्राप्त करता है। पूर्ण अभ्यास मानव को उनकी उत्पत्ति का सही मार्ग दिखा सकते हैं। सभी भौतिक परतों से रहित जो हमने इस भौतिक संसार में अपनी आत्मा पर अर्जित किया है।

यह एक प्राचीन योगिक अभ्यास, है जो महाहिमालय के महान संतों से विरासत में मिला है- उनकी गुप्त तकनीक, अंतरतम शक्तियों का दोहन करने और बौद्धिक क्षमता के शिखर को प्राप्त करने के लिए है।

siddha walk

शारीरिक लाभ

सिद्ध वॉक या योगिक वॉक एक प्राचीन प्रथा है जिसे कई बीमारियों को ठीक करने और मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण में सुधारकरने के लिए जाना जाता है। यह अभ्यास किसी भी तरह की बीमारी के लिए समाधान खोजने की हमारी क्षमता को अनलॉक करता है।

इसे जरूर पढ़ें:पेट की चर्बी बढ़ गई है तो 50+ महिलाएं करें ये 5 काम

जिन लोगों के शरीर में विटामिन-डी की कमी है, उन्हें सुबह जल्दी सिद्ध वॉक का अभ्यास करने की सलाह दी जाती है। जब हम इसे लगातार 3 सप्ताह तक करते हैं तो, विटामिन डी के स्तर में सुधार देखेंगे। धूप में चलने से प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए एक आवश्यक तत्व विटामिन-डी की अच्छी मात्रा का अवशोषण सुनिश्चित होता है। सिद्ध वॉक शरीर में विटामिन-डी के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है क्योंकि हम अपनी ऊर्जा का निर्माण करने के लिए सूर्य के साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताते हैं। संचार प्रणाली में सुधार होता है जिससे शरीर के प्रत्येक अंग में ब्‍लड का प्रवाह होता है और उन्हें पोषण मिलता है। ताजे वातावरण में सुबह की सैर हमारे श्वसन तंत्र को स्वस्थ रखती है।

Recommended Video

बेयरफुट वॉक संवेदी तंत्रिका तंत्र बिंदुओं पर दबाव डालने के साथ काम करता है। यह पैर की मांसपेशियों और स्नायुबंधन की ताकत और लचीलेपन में सुधार करता है। घास पर नंगे पांव चलने से आंखों की रोशनी भी बढ़ती है। इसके अतिरिक्त, जैसे-जैसे हम आठवें आकार पर ध्यान केंद्रित करते हैं, हमारे ध्यान और दृष्टि में सुधार होता है। यह विभिन्न जीवनशैली रोग जैसे हार्ट डिजीज, किडनी की समस्या, अनिद्रा, तंत्रिका संबंधी दुर्बलता, कोलाइटिस, बवासीर, साइनसाइटिस, अस्थमा से संबंधित मुद्दों, पित्ताशय की पथरी, थायरॉयड असंतुलन, ब्‍लड प्रेशर, डायबिटीज, माइग्रेन, मिर्गी, डिप्रेशन, डिस्क को ठीक कर सकता है। प्रोलैप्सड, साइटिका स्पॉन्डिलाइटिस सिद्ध वॉक से लाभान्वित होते हैं।

  • सिरदर्द, थकान और अनिद्रा से राहत दिलाने में उपयोगी है। 
  • चिंता, क्रोध और चिड़चिड़ापन को दूर करती है और यह तनाव निवारक के रूप में काम करती है।
  • यह वॉक हमारे शरीर की ताकत, लचीलेपन और एनर्जी लेवल को बढ़ाने में मदद करती है।
  • यह सैर, बंद नाक से राहत दिलाने में मदद करती है और हमारे श्वसन तंत्र को मजबूत करती है।
  • हमारे नर्वस सिस्‍टम को संतुलित करती है। मुद्रा और समन्वय दोनों में सुधार करती है और पैरों, पीठ, बाहों और कंधों को मजबूत करती है।
  • जब हम चलते हैं तब हमारे पूरे शरीर को व्यस्त रखने की आवश्यकता होती है और शरीर के सभी अंगों पर अधिक जागरूकता पैदा करती है।
  • यह सभी आंतरिक अंगों को उत्तेजित करती है और इम्‍यूनिटी को बढ़ाती है।
  • हेल्‍दी ब्रेन का निर्माण करने में मदद मिलती है।
siddha walk benefits
  • पेट के पेल्विक अंगों को टोन करती है।
  • यह मन को शांत करती है।
  • पाचन की प्रक्रिया में सहायता करती है।
  • सिर दर्द से राहत दिलाने में सहायता करती है और गठिया या जोड़ों के दर्द की जकड़न को शांत करती है।
  • रीढ़ की हड्डी को स्ट्रेच करती है और लचीलापन लाती है और पूरे शरीर को ताकत देती है।
  • पूरे शरीर की मसल्‍स को टोन करती है और कोर की मसल्‍स को मजबूत करती है।
  • छाती और फेफड़े खोलती है।
  • पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है।
  • टहलने से सहनशक्ति और ताकत बनाने में मदद मिलती है।
  • ब्‍लड प्रेशर लेवल को संतुलित करने में मदद करती है।
  • सुनने की शक्ति में सुधार होता है।
  • शरीर को विशेष रूप से कंधे, गर्दन, पीठ, काठ, घुटने, एड़ी, ग्रीवा और काठ के क्षेत्रों को संतुलित करती है।
  • प्रकृति से जुड़ने में मदद करती है और आसपास के वातावरण के साथ संबंध विकसित करती है।
  • पैटर्न 8 में चलना व्यक्ति को उच्च शक्तियों का पात्र बनाने के लिए एवं अमृत प्राप्त करने लायक बनाती है।
  • चलने से पैटर्न बदल जाता है।

आध्यात्मिक लाभ

benefits of siddha walk

इस वॉक से दिव्य ऊर्जा प्राप्त होती है जो मानव की पीड़ा को दूर करने के लिए आवश्यक है। यह कर्म के कारण शरीर और मन में किसी भी प्रकार की समस्या को ठीक करती है। यह हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाती है और जीवन में बेहतर समन्वयित प्राप्त होता हैं। यह हमारे ऊर्जा केंद्रों को सक्रिय करने में मदद करती है।

इसे जरूर पढ़ें:रोजाना सिर्फ 15 मिनट वॉक करने से वजन होगा कम, चेहरे पर आएगा जवां निखार

  • जीवन की दिशा सिद्ध वॉक से मिलती है। 
  • इस वॉक को करते समय ऑक्सीजन का सेवन शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है।
  • यह हमारे शरीर के जागरूकता और एकाग्रता के स्तर को विकसित और सुधार करने में मदद करती है। 
  • हमारी ऊर्जा और लय को संतुलित करती है।
  • मासिक धर्म चक्र संतुलित होता है।

आप भी इस योग को करे ये सारे फायदे पा सकती हैं। योग से जुड़ी ऐसी ही जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।