आपका फिटनेस लक्ष्य जो भी हो, आप इसे आयुर्वेदि‍क तरीके से प्राप्त कर सकती हैं। सुनने में अच्छा लग रहा है? निश्चित रूप से, यह हो सकता है। महामारी से उपजी शहरी जीवनशैली संबंधी बीमारियों ने हमें एक फिटनेस रूटीन के हेल्‍थ बेनिफिट्स के बारे में जागरूक किया है और हममें से कई लोगों को अपने डेली रूटीन में एक पोषक तत्‍वों से भरपूर फूड्स और एक्‍सरसाइज को शामिल करने के लिए प्रेरित किया है। इसके अलावा अगर इसके साथ आयुर्वेद के फायदों को जोड़ दिया जाए तो एक सफल फिटनेस गोल को प्राप्‍त करना निश्चित है। आयुर्वेद की प्राचीन स्वास्थ्य प्रणाली जीवन, दीर्घायु और आपके समग्र कल्याण पर केंद्रित है। इनसे आप शारीरिक, मानसिक या आध्यात्मिक रूप से फिट रह सकती हैं। आयुर्वेद के विभिन्न आहार, मालिश और औषधीय जड़ी-बूटियों को शामिल करके आप खुद को फिट रख सकती हैं। निरंतर स्वास्थ्य और ताक़त सुनिश्चित करने के लिए अपने डेली फिटनेस रूटीन में आयुर्वेद को शामिल करना बुद्धिमानी होगी। आयुर्वेद आपकी कैसे मदद करता है आइए इस बारे में डॉ दीपेश महेंद्र वाघमारे, मिलेनियम हर्बल केयर के चिकित्सा सलाहकार कार्यकारी से जानते हैं।

ayurvedic tips inside

स्टैमिना का निर्माण

अगर आप अपने वर्कआउट रूटीन में बहुत ज्यादा एक्सरसाइज कर रही हैं तो इससे आपका स्टैमिना कम हो सकता है। मनोवैज्ञानिक तनाव और शारीरिक गतिविधि को पारस्परिक रूप से संबंधित माना जाता है, इसलिए किसी को यहां यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि स्टैमिना की कमी भी एक तनावग्रस्त दिमाग का परिणाम है। अश्वगंधा, ब्राह्मी और शतावरी जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां अधिवृक्क शक्ति को बढ़ाने और मांसपेशियों को ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने के माध्यम से कोर ऊर्जा स्तरों के निर्माण में मदद करेंगी, यह आपको मानसिक रूप से भी आराम देती हैं। अपने दैनिक आहार में धनिया के बीज, दालचीनी, जीरा और नट्स जैसे बादाम के साथ मसाले मिलाएं, सभी सही और पर्याप्त अनुपात में मिश्रित होते हैं जो शरीर में एनर्जी वापस ला सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: आयुर्वेद ये 20 मूल मंत्र हेल्‍दी और जवां रहने के लिए है बेहद जरूरी, आप भी अपनाएं

Recommended Video

मेटाबॉलिज्म को बढाए 

अगर आपके पास एक सेलुलर मेटाबॉलिज्म है, तो आपके फिटनेस रूटीन के सबसे तेज़ परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं। गुडूची जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां आपके आंत-स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करती हैं, यह हमारी आंतों में अच्छी आंत माइक्रोबायोम को बढ़ाती है, शरीर में फैट के भंडार को विनियमित करने में मदद करती है और सामान्य सीमा के भीतर ब्‍लड शुगर के स्तर को बनाए रखती है। दालचीनी जैसे मसाले आपके शरीर में फैट सेल्‍स के निर्माण को रोकने में मदद कर सकते हैं, जबकि हल्दी या हल्दी में मौजूद करक्यूमिन फैट सेल्‍स को प्रभावी ढंग से जलाने और शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है।

ayurvedic tips inside

एनर्जी से भरपूूूर रखता है 

क्या आप दिन भर के काम के बाद सुस्त महसूस करती हैं? क्या आपको सुबह उठने और जिम की क्लास या अपने योगा सत्रों को पूरा करने के लिए उत्साह की कमी है? तब कॉफी या स्टेरॉयड आपका जवाब नहीं है। आपके शरीर को अपने सुस्ती को रोकने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की ऊर्जा की आवश्यकता होती है। अश्वगंधा, ब्राह्मी और तुलसी जैसी जड़ी-बूटियां आपके शरीर को शारीरिक और मानसिक तनाव में लचीलापन बढ़ाकर आपकी ऊर्जा को बढ़ा सकती हैं और आपको पूरे दिन अच्छा महसूस करने में मदद करती हैं। ऊर्जावान बने रहने के लिए इन जड़ी बूटियों के गर्म काढ़े से अपने दिन की शुरुआत करें।

इसे जरूर पढ़ें: आयुर्वेद के ये 11 नियम आपको 100 साल तक रखेंगे जवां और हेल्‍दी

शरीर में सुधार

आधुनिक फिटनेस एक्‍सपर्ट भी तेज एक्‍सरसाइज करने के बीच 24 घंटे के आराम की सलाह देते हैं, ताकि शरीर पूरी तरह से ठीक हो सके। इसके लिए तिल के बीज के तेल के साथ मालिश करने से जोड़ों, मांसपेशियों और संयोजी ऊतकों में दर्द से राहत पाई जा सकती हैं। साथ ही हल्दी और अदरक जैसी जड़ी-बूटियां सूजन को कम करने में मदद करती हैं, जबकि अश्वगंधा और बाला मांसपेशियों को मजबूत बनाने और पोषण करने में जादुई हैं। प्रोटीन से भरपूर फलियों को शामिल करने से आपकी मांसपेशियों और आयुर्वेद के लिए मूंग और उड़द की दाल बनाने में मदद मिलती है।

ayurvedic tips inside

अच्छी नींद का वरदान 

अच्छी नींद हमेशा मन शरीर कायाकल्प के लिए महत्वपूर्ण है। सोते समय आपका शरीर खुद को ठीक करने और मरम्मत करने में सक्षम होता है। इसलिए अच्छी नींद लेनी चाहिए ताकि आप अगले दिन एनर्जी से भरपूर दिखाई दें। ब्राह्मी, शंखपुष्पी, सर्पगंधा, वचा और अश्वगंधा ऐसी आवश्यक जड़ी-बूटियां हैं, जो आपके नर्वस सिस्टम को आराम देती हैं, मानसिक थकान से राहत दिलाती हैं और आपके दिमाग पर शांत प्रभाव डालती हैं। 

इन आयुर्वेदिक टिप्‍स को अपने फिटनेस रूटीन में शामिल करके आप भी खुद को फिट और एक्टिव रख सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com