पेट की चर्बी कई कारकों से बढ़ती है, जिसमें खराब आहार, एक्‍सरसाइज की कमी और तनाव शामिल हैं। साथ ही आनुवंशिक को शरीर के वजन के कारण के रूप में खारिज नहीं किया जा सकता है, क्योंकि यह डायबिटीज या मोटापे जैसी कुछ स्थितियों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। लेकिन परेशान न हों क्‍योंकि एक हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल ही ऐसा मंत्र है, जो हमें आकार देता है। 

यदि आप अनहेल्‍दी खाने की आदतों, परेशान नींद पैटर्न और एक गतिहीन लाइफ को फॉलो करती हैं, तो आप मोटापे और पेट की चर्बी को आमंत्रित करती हैं। पेट के आस-पास जमा चर्बी को सबसे जिद्दी माना जाता है और इससे छुटकारा पाना सबसे मुश्किल होता है। लेकिन, निराश न हों क्योंकि योग के कुछ विशिष्ट आसनों के माध्यम से पेट की चर्बी को लक्षित किया जा सकता है। योग हृदय गति को बढ़ाता है और कैलोरी को बर्न करने में आपकी मदद करता है।

आज हम आपके लिए कुछ ऐसे योगासन लेकर आए हैं, जिनकी मदद से आप पेट पर जमा जिद्दी चर्बी से छुटकारा पा सकती हैं। इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं। निम्नलिखित में से प्रत्येक आसन को 30 सेकेंड के लिए पकड़ें, और 3 सेट तक दोहराएं। प्रतिदिन 5 मिनट तक प्राणायाम तकनीक का अभ्यास करें।

प्राणायाम

कपालभाती

kapalbhati for belly fat

संस्कृत में, 'कपाल' का अर्थ है खोपड़ी और 'भाती' का अर्थ है 'चमकना/ रोशन करना'। इसलिए कपालभाती प्राणायाम को स्कल शाइनिंग ब्रीदिंग टेक्निक के नाम से भी जाना जाता है।

विधि

  • किसी भी आरामदायक मुद्रा (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन) में बैठें। 
  • पीठ को सीधा करें और आंखें बंद करें।
  • हथेलियों को अपने घुटनों पर ऊपर की ओर प्राप्ति मुद्रा में रखें। 
  • सामान्य रूप से श्वास लें और एक छोटी, लयबद्ध और जोरदार सांस के साथ सांस छोड़ने पर ध्यान दें।
  • अपने पेट का उपयोग डायाफ्राम और फेफड़ों से सभी हवा को जोर से दबाकर बाहर निकालने के लिए करें।
  • जब आप अपने पेट को डीकंप्रेस करते हैं, तो सांस लेना अपने आप हो जाता है।

आसन

वशिष्ठासन

vasishtasana for belly fat

वशिष्ठासन करने से बॉडी को टोन करने में मदद मिलती है। यह आसन आप घर पर कर सकती हैं। रोजाना वशिष्ठासन करने से आप पेट पर जमा जिद्दी के साथ हाथों की चर्बी को आसानी से घटा सकती हैं। यह आसन आपके पैर, हाथ और पेट की मसल्स को स्ट्रांग करता है।

विधि

  • इसकी शुरुआत प्लैंक से करें।
  • बायीं हथेली को ज़मीन पर मजबूती से रखते हुए, अपने दाहिने हाथ को फर्श से हटा दें।
  • पूरे शरीर को दाहिनी ओर मोड़ें और दाहिने पैर को फर्श से उठाकर अपने बाएं पैर के ऊपर रखें।
  • दाहिनी भुजा को ऊपर उठाएं और अपनी उंगलियों को ऊपर की ओर रखें।
  • इस बात का ध्‍यान रखें कि दोनों घुटने, एड़ी और पैर एक दूसरे के संपर्क में हों और दोनों हाथ और कंधे एक सीधी रेखा में हों।
  • अपना सिर घुमाएं और अपने दाहिने हाथ को देखें।
  • आसन में कुछ देर रुकें।
  • बाईं ओर भी ऐसा ही दोहराएं।

नौकासन

naukasana belly fat

इसे रोजाना करने से भी पेट की चर्बी को तेजी से कम किया जा सकता है। नौकासन पेट की मसल्‍स को मजबूत बनाने में मदद करता है और आपकी पीठ के निचले हिस्से को आराम देने का काम करता है। साथ ही नौकासन करने से कब्‍ज जैसी समस्‍याएं दूर होती हैं और डाइजेशन को बेहतर बनाने में भी मदद मिलती है।

विधि

  • पीठ के बल लेट जाएं।
  • संतुलन बनाने के लिए अपने ऊपरी और निचले शरीर को ऊपर उठाएं।
  • पैर की उंगलियां आपकी आंखों के साथ संरेखित होनी चाहिए।
  • घुटनों और पीठ को सीधा रखें।
  • बाजुओं को जमीन के समानांतर रखें और सीधा फैलाएं।
  • पेट की मांसपेशियों को कस लें।
  • पीठ को सीधा करें।
  • सामान्य रूप से श्वास लें और छोड़ें।

Recommended Video

संतुलनासन - प्लैंक पोज

santolanasana for belly fat

रोजाना संतुलनासन करने से पेट की चर्बी से छुटकारा मिलता है। साथ ही यह जांघ, बाहों और कंधों को मजबूत करता है, रीढ़ और पेट की मसल्‍स को मजबूत बनाता है और कोर मसल्‍स का निर्माण करता है। साथ ही यह तंत्रिका तंत्र के संतुलन में सुधार करता है, पूरे शरीर को सक्रिय करता है और सकारात्मकता की भावना पैदा करता है।

विधि

  • इसे करने के लिए पेट के बल ले जाएं। 
  • हथेलियों को अपने कंधों के नीचे रखें और ऊपरी शरीर, पेल्विक और घुटनों को ऊपर उठाएं।
  • फर्श को पकड़ने के लिए अपने पैर की उंगलियों का प्रयोग करें और घुटनों को सीधा रखें।
  • सुनिश्चित करें कि घुटने, पेल्विक और रीढ़ एक सीध में हों।
  • कलाइयों को कंधों के ठीक नीचे रखा जाना चाहिए और आपकी बाहें सीधी रखी जानी चाहिए।
  • अंतिम आसन में थोड़ी देर रुकें।

श्वास पद्धति

अपने शरीर को फर्श से ऊपर उठाते हुए श्वास लें। यदि आप आसन को अधिक देर तक रोके रखते हैं, तो सामान्य रूप से श्वास लें और छोड़ें।

इसे जरूर पढ़ें: फ्लैट टमी चाहती हैं तो अपनी इन 5 आदतों को आज से ही बदल दें

जब हम योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं, तो यह भी सुनिश्चित करें कि अनावश्यक चीनी के उपयोग को कम करने के लिए अपने आहार में संशोधन करें, अधिक घुलनशील फाइबर शामिल करें और कार्ब्स का सेवन सीमित करें। 

अध्ययनों से पता चलता है कि मोटापे (बच्चों में) के बढ़ते जोखिम का 60% चीनी-मीठे पेय पदार्थों के खतरों के कारण होता है। शुगरी ड्रिंक्‍स, हाई फैट फूड्स को हटा दें और इसकी बजाय आप फल लें, जो बेहद हेल्‍दी है और इससे सिस्टम में फाइबर जाता है। प्रोटीन मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है, जिससे कम भूख लगती है। आप उचित आहार, लाइफस्‍टाइल, अच्छी नींद और योग से कुछ ही समय में पेट की चर्बी को कम कर सकती हैं।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। फिटनेस से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।