नियमित रूप से फिटनेस के लिए योग एक बेहतरीन साधन है। यह संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए ज्ञान का एक समग्र और वैज्ञानिक खजाना है। शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए योग एक उपयोगी अभ्यास है, जो रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है एवं बल प्रदान करता है, कोर ताकत में सुधार करता है, कंधों और छाती को खोलता है।

योग को जीवन का अभिन्न अंग बनाकर हमारा अभ्यास प्रतिदिन विकसित होता है। यह शरीर के प्रति अधिक जागरूकता प्रदान करता है। प्रतिदिन अभ्यास को गूढ़ बनाने के लिए नए तरीके खोज सकते हैं। योगा स्ट्रेच कंप्यूटर पर कई घंटे बिताने के बाद शारीरिक मुद्रा को सही करने में मदद करता है।

आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन के बारे में बता रहे हैं जो आपको लंबे समय तक खूबसूरत दिखने और फिट रहने में मदद कर सकते हैं। इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

सावित्री आसन

Savitriasan

  • इसे करने के लिए घुटने टेकें और बांहों को ऊपर उठाएं।
  • फिर आगे की ओर देखें।
  • हाथ, रीढ़, कूल्हे और जांघ एक सीधी रेखा में होने चाहिए।
  • सामान्य रूप से पकड़ें और सांस लें।

वशिष्ठासन

Vasishtasana

  • संतुलन आसन (प्लैंक) से शुरुआत करें।
  • बाईं हथेली को जमीन पर मजबूती से रखते हुए, दाहिने हाथ को फर्श से हटा दें।
  • दाहिनी ओर मुड़ें और दाहिने पैर को फर्श से उठाकर बाएं पैर के ऊपर रखें।
  • दाहिना हाथ ऊपर उठाएं।
  • दोनों घुटनों, एड़ियों और पैरों को एक दूसरे के संपर्क में रखें।
  • सुनिश्चित करें कि दोनों हाथ और कंधे एक सीधी रेखा में हों।
  • सिर घुमाएं और दाहिने हाथ को देखें।
  • आसन में कुछ देर रुकें।
  • बाईं ओर भी ऐसा ही दोहराएं।

पादंगुष्ठासन

Padangushtasana

  • बैठने की स्थिति से, दोनों पैरों को ऊपर उठाएं। 
  • पैर की उंगलियों को पकड़ें, श्वास लें और बांहों को सीधा करते हुए देखें।
  • सांस छोड़ें और आगे की ओर मोड़ें।
  • पूरे अभ्यास के दौरान पैरों और घुटनों को सीधा रखने की कोशिश करें। 
  • यदि नए हैं, तो इसे पूरा करने के लिए घुटनों को थोड़ा मोड़ना पड़ सकता है।
  • अभ्यास के साथ धीरे-धीरे घुटनों को सीधा करें।

Recommended Video

पार्श्व कोणासन - साइड एंगल पोज

Parsva Konasana

  • पैरों को फैलाएं और दाहिने पैर को दाहिनी ओर मोड़ें।
  • दाहिने घुटने को मोड़ें, बायां पैर सीधा रखें।
  • बांहों को बग़ल में फैलाते हुए उठाएं।
  • दाहिनी हथेली लाएं और इसे दाहिने पैर के सामने रखें।
  • बाएं हाथ को आकाश की ओर बढ़ाएं।
  • बाईं हथेली को ऊपर की ओर देखें।
  • दूसरी तरफ दोहराएं। 

योगासनों के सबसे महत्वपूर्ण लाभों में से एक खराब मुद्रा में सुधार करना है। खराब मुद्रा कई शारीरिक समस्याओं में योगदान करती है। हल्की बेचैनी से लेकर पुराने दर्द तक, यह रीढ़ पर एक टन तनाव डालता है जिससे सिरदर्द और सांस लेने में कठिनाई होती है। 

इसे जरूर पढ़ें:महिलाएं रोजाना करें ये 5 योग, वजन होगा कम और दिखेंगी लंबे समय तक सुंदर

योगासन पूरे शरीर को स्ट्रेच करते हैं, जिससे रीढ़ की हड्डी में किसी भी तरह का तनाव दूर होता है, ब्‍लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और ब्रेन का शरीर के बाकी हिस्सों से सर्कुलेशन होता है। योग का अभ्यास करने से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में अभूत रूप से सुधार होता है, जिससे हम अंदर और बाहर से सुंदर दिखते हैं।

इन योगासन को करके आप भी लंबे समय तक खुद को फिट और खूबसूरत दिख सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।