इस तथ्य के बावजूद कि इसे वाटर चेस्टनट कहा जाता है, लेकिन यह नट्स नहीं हैं। इनकी प्रकृति जलीय होती है और यह कंद सब्जी है जो धान के खेतों, झीलों, तालाबों और दलदल में उगती है। चेस्टनट को ट्री चेस्टनट के रूप में भी जाना जाता है जो शाहबलूत के पेड़ों पर उगते हैं और संयुक्त राज्य अमेरिका, पूरे एशिया और यूरोप के कई हिस्सों में बहुत आम हैं। बादाम, काजू, अखरोट जैसे अधिकांश नट्स को वानस्पतिक रूप से फलों की बजाय बीज के रूप में परिभाषित किया जाता है, लेकिन हेज़लनट्स और चेस्टनट जैसे मुट्ठी भर ट्री नट्स को फल माना जाता है।

दक्षिण-पूर्व एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और कई प्रशांत द्वीपों में भी लंबे समय से वाटर चेस्टनट्स उगाए जाते हैं और इसे कुछ वाकई दिलचस्प तरीकों और रूपों से खाने में इस्‍तेमाल शामिल किया जाता है। इसके अलावा सिंघाड़ा हमें कई तरह के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी प्रदान करता है।  

वाटर चेस्टनट्स को भारत में सिंघाड़े के रूप में जानते हैं, हालांकि हमारे अधिकांश मेनू में इसे बहुत लोकप्रियता नहीं मिली है, चाहे वह घर हो या व्यावसायिक। लेकिन इसे कुछ एशियाई या चाइनीस और थाई रेसिपीज में शामिल किया जाता है। हमें यह हरे रंग के छिलके और एक अन्य किस्म के साथ-साथ राख वाली काली कोटिंग के साथ मिलता है। यह फल अंदर से बहुत ही टेस्‍टी और हेल्‍दी होता है।

water chestnuts benefits inside

सिंघाड़े न केवल ताजा उपलब्ध होते हैं, बल्कि नमकीन घोल में संरक्षित टिन और डिब्बे में भी उपलब्ध होते हैं, जबकि कुछ इसे अचार के रूप में भी इस्‍तेमाल करते हैं और कुछ इसे आटे के रूप में भी लेते हैं जैसा कि हम इसे सिंघाड़े के आटा के रूप में जानते हैं। इसके आटे को भी कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। सिंघाड़ा या वाटर चेस्टनट हमारे भोजन में जूसी माउथफिल और तृप्ति मूल्य के साथ क्रंच और अनूठी बनावट वाला एक बढ़िया विकल्प है। चाट, दही भल्ला, उपमा, आलू की सब्ज़ी और अधिक मसाले के तड़का और तीखापन लाने के लिए इसे हमारे लोकप्रिय भारतीय व्यंजनों में ढालना आसान होता है। आइए इसके कुछ स्वास्थ्य लाभों के बारे में आर्टिकल के माध्‍यम से जानते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:सिंघाड़े की टेस्टी डिशेज़ का लेना है मज़ा, तो जरूर ट्राई करें कविराज खियालानी की ये रेसिपीज

सिंघाड़े के स्वास्थ्य लाभ 

water chestnuts benefits inside

  • सिंघाड़े पोषक तत्वों और एंटी-ऑक्सीडेंट का एक उत्कृष्ट स्रोत है।
  • सिंघाड़े के सेवन से शरीर में फ्री रेडिकल मूवमेंट और ब्‍लड प्रेशर को कम करने में मदद मिलती है।
  • हमारे बालों की ग्रोथ के लिए सिंघाड़े वास्तव में बहुत अच्छे होते हैं।
  • कई यूरिन इंफेक्‍शन्‍स के उपचार में भी सिंघाड़े प्रभावी होते हैं।
  • सिंघाड़े के चूर्ण में नींबू के रस मिलाकर नियमित रूप से लगाने से एक्जिमा में लाभ होता है।
  • हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल और एक अच्‍छी डाइट बनाने की दिशा में सिंघाड़े एक उत्कृष्ट भोजन हैं।
  • सिंघाड़े हमारे शरीर के लिए एक बेहतरीन कूलेंट का काम करते हैं।
  • सिंघाड़े का चूर्ण भी खांसी को दूर करने के लिए बहुत अच्छा होता है।
  • सिंघाड़े पोटेशियम, विटामिन बी-6, मैंगनीज, कॉपर और राइबोफ्लेविन का भी अच्छा स्रोत हैं।
  • सिंघाड़े अपच और मतली को ठीक करने में भी मदद करते हैं।

सिंघाड़े का इस्‍तेमाल खाने में कैसे करें?

water chestnuts benefits inside

  • हालांकि हम में से अधिकांश सिंघाड़े को खाना पसंद करते हैं, लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इसे कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है जैसे इसे स्प्राउट्स, प्याज, टमाटर, पुदीना और धनिया के साथ इमली की चटनी आदि चाट में मिलाना, आपके लिए एक अच्छा बदलाव है। .
  • ब्रोथ, क्लियर सूप, प्यूरी सूप और हमारे द्वारा तैयार किए जाने वाले रेगुलर सूप में भी अतिरिक्त पोषक तत्व शामिल करने के लिए सिंघाड़े का इस्तेमाल किया जा सकता है। यहां तक कि आप मशरूम क्रीम सूप और पालक के सूप के साथ भी इसे मिक्‍स कर सकते हैं।
  • चाइनीज रेसिपीज में भी अक्‍सर सिंघाड़े को शामिल किया जाता है। 
  • थाई व्यंजन में भी इसे कई तरह से शामिल किया जाता है, जिसमें गरमा गरम और मसालेदार थाई वेज/लेमनग्रास थाई करी पेस्ट आदि शमिल हैं। इसे कुछ चुनिंदा सब्जियों के साथ भी मिलाया जाता है। इसे फड़ थाई नूडल्स, थाई स्टाइल स्टिर फ्राई, थाई रेड/ग्रीन/येलो करी में और यहां तक कि स्टीम्ड जैस्मीन राइस में मिलाने से इसमें एक अच्छा क्रंच जुड़ जाता है।
  • भारतीय व्यंजनों में इसका उपयोग कैसे करें या सिंघाड़े  के साथ एक देसी अंदाज का मजा लेने के लिए आप टमाटर धनिया सिंघाड़ा शोरबा, लसूनी पालक सिंघाड़े की सब्ज़ी, मखाना और सिंघाड़ा  कोरमा, सिंघाड़ा  आटा जैसे कई तरीकों से इसका इस्‍तेमाल कर सकती हैं। आप सोया मटर कीमा, सिंघाड़ा और पनीर भरवां मलाई कोफ्ता, सिंघाड़े और मेथी गाजर वाला दम पुलाव, सिंघाड़े की खीर, ब्राउन राइस और सिंघाड़े की फिरनी या सिंघाड़े  का हलवा बनाकर इस्‍तेमाल कर सकती हैं। 
  • फ्यूजन लवर्स के लिए तलाशने के लिए बहुत कुछ है और मुझे यकीन है कि आप मेरे विचारों और नवाचारों को पसंद करेंगे! पालक- पनीर और सिंघाड़े रैवियोली को धूप में सुखाए हुए टमाटर और तुलसी के पेस्टो, चिकन कीमा और मखनी अरेबीटा सॉस के साथ वाटर चेस्टनट लसग्ने के साथ परोसा जाता है। वाटर चेस्टनट मैकरोनी और सॉसेज बेक फ्रेश हर्ब्‍स और पिंक सॉस में चिली फ्लेक्स के डैश के साथ के साथ मिलाया जा सकता है। इसे एक फिलिपिनो शैली में आज़माकर चावल के नूडल्स, सब्जियों और सोया और लहसुन के हल्के डैश से बने पसंदीदा पैनसेट के साथ जोड़ सकती हैं। देसी अंदाज में मूली बूंदी का तड़केवाले रायते के साथ मक्के और सिंघाड़े का पनीर तवा पुलाव परोसा जाता है।

इन फायदों को पाने के लिए आप भी सिंघाड़े को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। आहार व पोषण से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।