यूं तो हर फल किसी ना किसी रूप में सेहत को लाभ ही पहुंचाता है, लेकिन अगर केले की बात की जाए तो यह एक ऐसा फल है जो शिशुओं से लेकर बूढ़ों तक के लिए लाभकारी माना गया है। इसमें फाइबर, पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन और विटामिन बी जैसे कई जरूरी तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत को कई तरह से लाभ पहुंचाते है। इसलिए हर किसी व्यक्ति को इसे खाने की सलाह दी जाती है। वैसे अधिकतर लोग इसे खाना भी पसंद करते हैं, लेकिन फिर भी इससे दूरी बनाकर रखते हैं। दरअसल, उनके मन में केला खाने को लेकर कई मिथ्स होते हैं और वह उन मिथ्स को सच मानकर उसे खाने से कतराते हैं। उदाहरण के तौर पर, ऐसा माना जाता है कि डायबिटीज पेशेंट को केला नहीं खाना चाहिए या फिर केला खाने से आपका वजन बढ़ता है और इसलिए वजन को नियंत्रित रखने के लिए इससे दूरी बनाकर रखनी चाहिए। हालांकि, इस बात में कितनी सच्चाई है, इसके बारे में कोई नहीं जानता। तो चलिए आज इस लेख में हम आपसे केले से जुड़े कुछ पॉपुलर मिथ्स और उनकी वास्तविक सच्चाई शेयर कर रहे हैं-

मिथ 1- मधुमेह रोगियों को नहीं खाने चाहिए केले inside sugar

सच्चाई- इस बात में कोई भी कर सकता है। भले ही आप डायबिटीज से पीड़ित ही क्यों ना हो। यह फल मधुमेह रोगियों के लिए भी सुरक्षित है। इस फल में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जो ब्लड शुगर लेबल को स्टेबलाइज करने में मदद करता है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन (एडीए) द्वारा किए गए एक अध्ययन में भी यह बात सामने आई है। कई फल विटामिन, खनिज और फाइबर से भरे हुए हैं - एक शक्तिशाली पोषक तत्व जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने और टाइप 2 मधुमेह के विकास के आपके जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। केल में भी फाइबर, स्टार्च, विटामिन, खनिज, फाइटोकेमिकल्स और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं और इस तरह यह मधुमेह रोगियों के लिए लाभकारी होते हैं। 

मिथ 2- केले में शुगर कंटेंट होता है हाई

inside banana sugar

सच्चाई-इस बात में भी कोई सच्चाई नहीं है। वास्तविकता यह है कि केले में फ्रुक्टोज और विटामिन बी होता है। यह ऐसे पोषक तत्व हैं जो प्राकृतिक चीनी का एक स्रोत है और इसलिए यह किसी के लिए भी खाने के लिए सुरक्षित है।

इसे ज़रूर पढ़ें-Expert Tips: ब्लूबेरी की ही तरह काले जामुन के भी हैं सेहत से जुड़े कई फायदे,डाइट में जरूर करें शामिल

मिथ 3- केला पेट दर्द का कारण बनता है

inside pain after eating banana

सच्चाई- ना जाने लोग इस मिथ पर भरोसा क्यों करते हैं। केले के सेवन से कभी पेट में दर्द नहीं होता है। क्योंकि केला फाइबर और पेक्टिन से भरपूर होता है। यह सूजन को रोकता है और अच्छे बैक्टीरिया को आमंत्रित करता है। केले में मौजूद फाइबर के कारण यह बाउल मूवमेंट को बेहतर तरीके से काम करने में भी मदद करता है।

Recommended Video

मिथ 4- केला खाने से बढ़ता है वजन

inside banana increace weight

सच्चाई- अमूमन देखने में आता है कि कुछ लोग यह मानते हैं कि केला वजन बढ़ाता है और इसलिए वह इससे दूरी बनाकर रखते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। आप इसका सेवन किस तरह से करते हैं, यह उस पर निर्भर करता है। वजन कम करने के लिए डाइटिंग करते समय भी लोग केले का सेवन करते हैं। केले में अच्छी वसा होती है जो शरीर को स्वस्थ बनाती है और कोलेस्ट्रॉल को रोकती है। हालांकि, अगर आप बनाना शेक बनाने के लिए इसके साथ ढेर सारी चीनी व आईसक्रीम आदि का इस्तेमाल करेंगी तो फिर वजन बढ़ना तो लाजमी है। वैसे इसके लिए फिर भी केले को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।

इसे ज़रूर पढ़ें-Expert Tips: खाने की इन 10 चीज़ों से हो सकती है एलर्जी, डाइट में शामिल करते समय ध्यान रखें ये बातें

मिथ 5- हाइपरटेंशन रोगियों को भी केला नहीं खाना चाहिए

inside hp petient

सच्चाई- हाइपरटेंशन रोगी भी केला बेहद आसानी से खा सकते हैं। केला विटामिन बी 6, खनिज और फाइबर का एक समृद्ध स्रोत हैं और इसमें पोटेशियम भी उच्च मात्रा में होता है जो हाइपरटेंशन रोगियों को लाभ ही पहुंचाता है। इसके अलावा, केले में कोलेस्ट्रॉल और बैड फैट नहीं होता है, जो उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए हानिकारक होता है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik.com