बच्‍चों से लेकर बड़ों तक आजकल हर कोई जंक फूड का दिवाना है। बर्गर, पिज्‍जा, पास्‍ता और चाउमीन आदि को देखते ही मुंह में पानी आने लगता है। हालांकि, बाजार में मौजूद तरह-तरह के जंक फूड से मन और पेट दोनों भर जाते हैं लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि यह आपकी सेहत के लिए कितने नुकसानदायक होते हैं। यह पेट के साथ-साथ आपके हार्ट और किडनी के लिए भी अच्‍छा नहीं है। जंक फूड में चीनी, कार्बोहाइड्रेट, सोडियम, फैट और कई तरह के ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जिससे न केवल आपका वजन तेजी से बढ़ता है बल्कि इससे आपको कई तरह की बीमारियां भी घेर सकती हैं। आयुर्वेद में तो जंक फूड को जहर के समान माना जाता है। आज नेशनल जंक फूड डे है और इस दिन को लोग जंक फ़ूड खाकर मनाते हैं लेकिन यह हमारी हेल्‍थ के लिए कितना खतरनाक है? शायद वह इस बात से अनजान हैं। आइए आज इस खास दिन के मौके पर जंक फूड खाने से हेल्‍थ को होने वाले नुकसानों के बारे में आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट वाजपेयी जी से जानते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार वात, पित्त और कफ हमारे शरीर का आधार हैं, ये तीनों ही शरीर के साथ-साथ रोगों का भी मूल होते हैं। शरीर को स्वस्थ रखने में इन तीनों का बैलेंस होना बेहद जरूरी है और इस बैलेंस को बनाए रखने के लिए हमें हमेशा उचित आहार और विहार का सेवन करना चाहिए। इन तीनों का असंतुलन ही रोगों को जन्म देता है और जंक फूड खाने से इनका बैलेंस बिगड़ जाता है। इसलिए आयुर्वेद में जंक फूड को हेल्‍थ के लिए जहर के समान माना जाता है।

fast food bad for health inside

इसे जरूर पढ़ें: जंक फूड क्रेविंग को रोकने के आसान उपाय

एक्‍सपर्ट की राय

आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट वाजपेयी जी का कहना है कि ''जंक फूड हमारे शरीर से मेल नहीं खाता है। इसका परिणाम यह होता है कि यह पचता नहीं है और सबसे पहले शरीर में वायु विकार बढ़ता है। इसके बाद यह सड़ता है और वायु बढ़ जाने के बाद ही एसिडिटी बनने लगती है और जलन पैदा होती है। चिकनाई ज्‍यादा होने पर कफ की वृद्धि हो जाती है यानी यह जंक फूड वायु, कफ और पित्त तीनों दोषों को बढ़ता है। इसका संबंध हार्ट और हाई बीपी से भी है। यह कब्‍ज, गैस और एसिडिटी के साथ हमारी किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है। लिहाजा जंक फूड किसी भी मामले में अच्‍छा नहीं है। लेकिन यह बनता है और लोग इसे खाना पसंद भी करते हैं तो ऐसे में हमें कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए जैसे इसकी मात्रा कम से कम लें। इसे सिर्फ स्‍वाद के लिए ही खाएं और दूसरे खाने को साथ में बिल्‍कुल न खाएं। ऐसा करने से यह आसानी से पच जाएगा और आगे परेशानी पैदा नहीं होगी। लेकिन अगर हम जंक फूड के साथ अपना खाना भी पेट भरकर खाते हैं तो इससे आपके शरीर को कई तरह से नुकसान हो सकते हैं।''     

आयुर्वेद के अनुसार जंक फूड के नुकसान

fast food bad for health inside

आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट वाजपेयी जी का कहना है कि ''आज के समय में हर कोई जंक फूड का दीवाना होता जा रहा है। आजकल लोग पौष्टिक आहार को कम अहमियत देने लगे हैं। बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को जंक फूड खाने का बहाना चाहिए। जंक फूड से होने वाले नुकसान के बारे में सब अच्छे से जानते हैं, लेकिन बावजूद इसके इस चीज के सेवन में कमी नहीं आ रही है। कई अध्ययनों से पता चला है कि जंक फूड में मौजूद एक्‍स्‍ट्रा कैलोरी बच्‍चों में मोटापे, हार्ट डिजीज और डायबिटीज और अन्य बीमारियों में इजाफा करता है। अस्थमा और सांस लेने में तकलीफ सहित, यह कई प्रकार की सांस संबंधी समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है। विशेष रूप से बच्चों के लिए, सांस से जुड़ी समस्याओं का खतरा अधिक बढ़ जाता है। एक अध्ययन में यह भी पाया गया है कि जो बच्चे हफ्ते में कम से कम तीन बार फास्ट फूड खाते हैं उन्हें अस्थमा होने की अधिक संभावना होती है।'' 

  • जंक फूड में मौजूद चीनी का हाई लेवलब्लड शुगर बढ़ने का कारण बन सकता है। यह शरीर की प्राकृतिक इंसुलिन प्रतिक्रिया को भी बदल सकता है। अधिकांश फास्ट फूड कार्बोहाइड्रेट अधिक और फाइबर की मात्रा बिल्‍कुल नहीं होती है। जब आपका डाइजेशन इन फूड्स को तोड़ता है तो यह आपके ब्‍लड सर्कुलेशन में ग्लूकोज के रूप में रिलीज़ होते हैं। नतीजतन, आपका ब्‍लड शुगर बढ़ता है, आपका पैंक्रियाज इंसुलिन को रिलीज़ करके ग्लूकोज को बढ़ा देता है। 
fast food bad for health inside
  • हाई कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्‍लड प्रेशर हार्ट और स्ट्रोक के जोखिम बढ़ाने वाले दो मुख्य कारण हैं। फास्ट फूड आमतौर पर सोडियम से भरपूर होते हैं जो ब्‍लड प्रेशर को बढ़ा सकते हैं जो हार्ट हेल्‍थ के लिए अच्‍छा नहीं होता है।  
  • सोडियम से भरपूर जंक फूड का सेवन सिरदर्द और डिप्रेशन के जोखिम को बढ़ा सकता है। डिप्रेशन इसलिए होता है क्‍योंकि जंक फूड के अधिक सेवन से शरीर के हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है। ऐसे में आपको जंक फूड का अधिक सेवन न करके अधिक से अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए।  
 
  • जंक फूड में मौजूद चीजों से फर्टिलिटी पर असर पड़ सकता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इसका अधिक सेवन शरीर में हार्मोन के कार्यों को बाधित करता है।
  • जंक फूड का अधिक सेवन हेल्‍थ के साथ-साथ आपकी त्वचा को प्रभावित करता है। इसमें मौजूद कार्ब्स मुंहासे पैदा कर सकते हैं। 
  • इस तरह के फूड में मौजूद कार्ब्स और चीनी एसिड का उत्पादन करते हैं जो टूथ इनैमल को नुकसान पहुंचाता है। इसके अलावा यह कैविटीज का कारण भी बन सकता है। 

जंक फूड आपकी भूख को संतुष्ट कर सकता है, लेकिन इसके परिणाम सकारात्मक नहीं होते हैं। इसलिए इसे खाने से बचना चाहिए। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।   

Image Credit: Freepik.com