• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Shilpa
  • Editorial

प्रेग्नेंसी के दौरान क्या आपका भी मन ललचाता है? तो इन फूड्स से करें क्रेविंग कंट्रोल

प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर महिलाओं को कुछ न कुछ खाने की इच्छ होती है। आइए जानते हैं फूड क्रेविंग क्या है?   
author-profile
  • Shilpa
  • Editorial
Published -13 Jun 2022, 18:56 ISTUpdated -13 Jun 2022, 19:11 IST
Next
Article
how to handle pregnancy cravings in hindi c

Verified By shikha aggarwal sharma dietician

प्रेग्नेंसी का पल किसी भी महिला के लिए बेहद खास पल होता है। 9 महीने तक महिलाएं अपने से ज्यादा गर्भ में पल रहे बच्चे का ध्यान रखती हैं। वहीं प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को अक्सर कुछ खाने की इच्छा होती है जिसे हम फूड क्रेविंग कहते हैं। कुछ महिलाओं के साथ ऐसा भी हो जो चीजें उन्हें पसंद नहीं होता है उन्हें वे चीजें भी प्रेग्नेंसी के दौरान खाने का मन करता है। वहीं कुछ चीजों तो बिल्कुल खाने का मन नहीं होता है। 

प्रेग्नेंसी के दौरान फूड क्रेविंग होना बहुत ही आम बात है। लेकिन फूड्स क्रेविंग की वजह से अनहेल्दी डाइट लेना बच्चे और आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर महिलाएं को चाइनीज, मीठा और तला हुआ भोजन खाने की अधिक क्रेविंग होती है। अगर आपके साथ भी ऐसा होता है, तो यह लेख आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित होगा। इस लेख हम आपको अनहेल्दी फूड्स क्रेविंग के बदले हेल्दी फूड्स के बारे में बताएंगे। 

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए हमने फैट टू स्लिम ग्रुप की सेलिब्रिटी इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट शिखा अग्रवाल शर्मा से बात की। उन्होंने बताया कि प्रेग्नेंसी में फूड क्रेविंग होना लाजमी है। लेकिन हमें इस दौरान हेल्दी फूड्स का सेवन करना चाहिए। आइए जानते हैं कैसे? 

फूड क्रेविंग क्या होती है? 

Tips to handle pregnancy cravings ()

किसी भी समस्या का इलाज करने से पहले उस परेशानी के बारे में पता होना चाहिए। वैसे फूड क्रेविंग कोई समस्या नहीं है लेकिन हां जरूरत से ज्यादा अन हेल्दी फूड्स क्रेविंग का नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।  एक्सपर्ट के अनुसार 80 फीसदी महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान खाने को लेकर क्रेविंग होती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस समय शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान हार्मोंस में बदलाव के कारण स्वाद और सूंघने पर भी काफी असर पड़ता है। 

कब होती है फूड क्रेविंग 

अधिकतर महिलाओं को प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महिनों में फूड क्रेविंग होती है। दूसरे मंथ में क्रेविंग बहुत ज्यादा हो जाती है। जबकि तीसरे मंथ के बाद से ही फूड्स क्रेविंग की कमी होने लगती हैं। 

आईसक्रीम की जगह खाएं दही स्मूदी 

बहुत सी महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान आईसक्रीम खाने की क्रेविंग होती है। आईसक्रीम में शुगर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। ऐसे में यह बच्चे और मां दोनों के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। आईसक्रीम की जगह आप दही स्मूदी का सेवन कर सकती हैं। दही स्मूदी बनाना बेहद आसान है। आप अपना मन पसंद फल लें आम या फिर जो भी आपको पसंद हो। आम लें इसे छीलकर काट लें। अब दही और आम डालकर मिक्सर में पीस लें। अब इसमें हल्की चीनी डालकर इसका सेवन करें। (स्मूदी रेसिपी )

क्रीम स्मूदी 

Tips to handle pregnancy cravings

अगर आपको दही का स्वाद नहीं पसंद है तो आप क्रीम स्मूदी का सेवन कर सकती हैं। इसके लिए दूध लें इसमें कोको क्रीम मिलाकर घर पर क्रीम बनाएं। इसके इसे फल के साथ खाएं। इससे आपके मीठे की क्रेविंग भी शांत होगी साथ ही यह आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है। 

इसे जरूर पढ़ेंः  प्रेग्नेंसी में जामुन खाने से फायदा होगा या नुकसान? जानें सच्चाई

ओट्स मसाला 

कुछ महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान नमकीन खाने की काफी ज्यादा क्रेविंग होती है। ऐसे में आप ओट्स मसाला खान सकती हैं। यह न केवल हेल्दी है बल्कि इससे आपकी क्रेविंग भी शांत होगी। ( प्रेग्नेंसी के लिए हेल्दी डाइट)

नमकीन पोहा 

अगर आपको नमकीन और मसालेदार खाने की क्रेविंग अधिक होती है, तो आप सूख पोहा बनाकर खा सकती हैं। इस पोहे में आप प्याज, टमाटर का जरूर उपयोग करें यह खाने में बेहद स्वादिष्ट लगेगा। 

इसे जरूर पढ़ेंः Expert Tips: हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए डाइट में शामिल न करें ये फूड्स

मॉर्निंग सिकनेस कैसे करें कंट्रोल ?

Tips to handle pregnancy cravings ()

अधिकतर महिलाओं को प्रेग्नेंसी के समय मॉर्निंग सिकनेस हो जाती है। अगर आपको भी यह समस्या है तो आप सुबह के समय ठंडा ऑरेंज जूस का सेवन करें। इससे मॉर्निंग सीकनेस काफी हद तक कम हो सकती है। 

Recommended Video

चाइनीज की क्रेविंग के लिए हेल्दी विकल्प क्या है?

आजकल की महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान चाइनीज खाने की अधिक क्रेविंग होती हैं। चाइनीज क्रेविंग को कंट्रोल करने के लिए आप ओट्स मैगी का सेवन कर सकती हैं। ओट्स मैगी मैदा के मुकाबले ठीक होती है। लेकिन मंथ में एक या दो बार ही  ओट्स मैगी का सेवन करना चाहिए। 

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।  

Image Credit: freepik 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।