आपके स्वास्थ्य और खानपान का सीधा संबंध है। आप जो भी खाते हैं, वह ना केवल आपको ताकतवर बनाता है, बल्कि अगर आपका खानपान सही ना हो तो इससे आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। ऐसी ही एक स्वास्थ्य समस्या है कब्ज। जो आपके खानपान से काफी हद तक प्रभावित होती है।

कब्ज एक आम स्वास्थ्य समस्या है जहां लोगों को मल त्याग करने में कठिनाई होती है। अगर कोई व्यक्ति को सप्ताह में तीन बार से कम बार मल त्याग करता है, तो इसका अर्थ है कि वह कब्ज की समस्या से जूझ रहा है। वहीं, अगर किसी व्यक्ति को प्रति सप्ताह एक से कम मल त्याग होता है, तो उसे गंभीर कब्ज माना जाता है। ऐसे में व्यक्ति को चिकित्सीय मदद की जरूरत होती है। जहां कुछ खाद्य पदार्थ कब्ज के जोखिम को कम करने या कम करने में मदद कर सकते हैं, जबकि अन्य इसे बदतर बना सकते हैं। तो चलिए आज इस लेख में सेंट्रल गवर्नमेंट हॉस्पिटल के ईएसआईसी अस्पताल की डायटीशियन रितु पुरी आपको ऐसे कुछ फूड्स के बारे में बता रही हैं, जो कब्ज की समस्या को जन्म दे सकते हैं या उसे बदतर बना सकते हैं-

अल्कोहल

bear

अगर आप चाहते हैं कि आपको कब्ज की समस्या ना हो तो ऐसे में आपको अल्कोहल का सेवन नहीं करना चाहिए। अल्कोहल स्वभाव से डाइयुरेटिक होता है और जिसके कारण वह यूरिनेशन के जरिए बॉडी को डिहाइड्रेट कर देता है। जब हमारे शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो ऐसे में मल त्याग करना मुश्किल हो जाता है और उसे कब्ज की समस्या हो सकती है।

प्रोसेस्ड आइटम्स

Dt.ritu raj

अगर आप मैदा बेस्ड आइटम्स, सफेद चावल, व्हाइट ब्रेड, व्हाइट पास्ता आदि का सेवन करते हैं तो इससे भी आपको भी कब्ज की समस्या हो सकती है। दरअसल, यह रिफाइंड प्रॉडक्ट होते हैं, जिनमें फाइबर कंटेंट बेहद कम होता है या फिर फाइबर होता ही नहीं है। जिसके कारण कब्ज की परेशानी हो सकती है या फिर यह समस्या बढ़ सकती है।

लो फाइबर डाइट

low fiber diet

अगर आपकी डाइट ऐसी है, जिसमें फाइबर कंटेंट कम है, तो भी आपको कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, फाइबर आपके स्टूल पर बल्क एड करता है, लेकिन अगर स्टूल पर बल्क नहीं होगा तो इससे आपको मलत्याग करने में समस्या होगी। यहां आपको यह भी ध्यान रखना है कि फाइबर आमतौर पर दो तरह के होते हैं- सॉल्यूबल और इनसॉल्यूबल। आपकी डाइट में दोनों ही तरह के फाइबर का सेवन करें। अपनी डाइट में फाइबर की मात्रा को बढ़ाने के लिए आप छिलके वाली दाल, सीड्स या छिलके वाले फल व सब्जी को अपनी डाइट में शामिल करें।

इसे ज़रूर पढ़ें- प्रेग्नेंसी में उल्टी और चक्कर ने कर दिया है परेशान तो अपनाएं यह आयुर्वेदिक उपाय

कम पानी का सेवन करना

पानी शरीर के लिए अमृत से कम नहीं है। अगर आप पानी का सेवन कम करती हैं तो इससे भी आपको कब्ज की समस्या हो सकती है। दरअसल, जब आप कम पानी पीती हैं तो इससे स्टूल फारमेशन ही सही तरह से नहीं होगा। जिसके कारण आपको बाद में मल त्याग करने में परेशानी होगी।

Recommended Video

रूट्स वेजिटेबल

diet

कुछ लोग जिमीकंद सब्जियों जैसे आलू, अरबी आदि का सेवन बहुत अधिक करते हैं, लेकिन कभी-कभी यह भी कब्ज की वजह बन जाता है। दरअसल, इस तरह की सब्जियों में फाइबर कंटेंट काफी कम होता है। इसलिए, जब आप इनका सेवन करें तो इस बात का ख्याल रखें कि इसके साथ आप होल ग्रेन फूड्स या फिर फाइबर रिच फूड्स को अवश्य खाएं। ताकि आपका आहार बैलेंस हो सके।

इसे ज़रूर पढ़ें- 50 की उम्र के बाद महिलाओं को हड्डियों की देखभाल कैसे करनी चाहिए? जानें

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Freepik and Google)