इमली को देखकर बच्‍चों के ही नहीं बल्कि बड़ों के मुंह में भी पानी आ जाता है। मीठे और चटपटे स्वाद वाली इमली का इस्तेमाल दुनिया भर में चटनी, सॉस और यहां तक कि मिठाइयों के लिए किया जाता है। लेकिन आपके भोजन को स्वाद देने के अलावा इमली से कई स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं। इम्यूनिटी को बढ़ाने से लेकर लिवर और दिल को बीमारियों से सुरक्षित रखने तक इमली आपके स्वास्थ्य को अच्छा करती है। विटामिन सी, ई और बी के अलावा इमली में कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, पोटेशियम, मैंगनीज और फाइबर भी भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी शामिल हैं। क्‍या इमली सच में हमारी हेल्‍थ के लिए इतनी अच्‍छी हो सकती है? यह जानने के लिए हमने शालीमार स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल की डाइटीशियन सिमरन सैनी से बात की, तब उन्‍होंने हमें इसके फायदों के बारे में विस्‍तार से बताया।

इसे जरूर पढ़ें: इमली के बीज के ये 5 फायदे जानकर आप भी तुरंत करेंगे इसका सेवन

एक्‍सपर्ट की राय

tamarind for health inside

''इमली एक मसाला है जो टार्टरिक एसिड से भरपूर होता है, यह एक शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है जो फ्री-रेडिकल्‍स की ग्रोथ को रोकता है और हमारी इम्‍यूनिटी में सुधार करता है। विटामिन-ए से भरपूर यह त्वचा, बालों और आंखों की रोशनी के लिए भी अच्छा है। विटामिन सी इमली का समृद्ध स्रोत एक अच्छे एंटी-ऑक्सीडेंट की तरह काम करके हमारी इम्‍यूनिटी को बढ़ाता है। इमली हमारे पित्त रस पर अच्छा प्रभाव डालती है और डाइजेशन को आसान बनाने में मदद करती है। यह एक रेचक की तरह भी काम करती है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो जोड़ों में दर्द और मामूली शरीर की सूजन से राहत देने में इसे उपयोगी बनाते हैं। यह आयरन से भी भरपूर होती है और विटामिन सी की मौजूदगी के साथ इसका कॉम्‍बिनेशन हीमोग्लोबिन के लेवल को सपोर्ट करने में मदद करता है।''

डायबिटीज मैनेज करने में प्रभावी

इमली के बीज के अर्क की प्रकृति एंटी-इंफ्लेमेटरी होती है और इसे ब्‍लड शुगर लेवल को स्थिर करने और डायबिटीज से पीड़ित लोगों में अग्नाशय के टिश्‍यु की क्षति को रोकने के लिए जाना जाता है। इमली में पाया जाने वाला एंजाइम अल्फा-एमिलेज ब्लड शुगर के लेवल को कम करने में मदद करता है।

वेट लॉस में मददगार

tamarind for weight loss inside

इमली फाइबर से भरपूर होती है और इसमें फैट की मात्रा बिल्‍कुल नहीं होती है। अध्ययन बताते हैं कि इमली को खाने से वजन कम करने में मदद मिलती है क्योंकि इसमें फ्लेवोनोइड्स और पॉलीफेनोल्स होते हैं। इसके अलावा, इमली हाइड्रॉक्सीसिट्रिक एसिड से भरपूर होती है जो एमिलेज को रोककर आपकी भूख को कम करती है। यह एक एंजाइम हैै जो कार्बोहाइड्रेट को फैट में परिवर्तित करने के लिए जिम्मेदार है।

पेप्टिक अल्सर को रोकता है

पेप्टिक अल्सर बहुत दर्दनाक होता है। ये मूल रूप से घाव है जो पेट और छोटी आंतों के अंदरूनी अस्तर में दिखाई देते हैं। इमली में पाए जाने वाले पॉलीफेनोलिक तत्‍वों के कारण यह अल्सर को रोकने में मदद करती है।

डाइजेशन में मददगार

tamarind for digestion inside

इमली का उपयोग प्राचीन काल से एक रेचक के रूप में किया जाता रहा है क्योंकि इसमें टार्टरिक एसिड, मैलिक एसिड और पोटेशियम पाया जाता है। पेट की मसल्‍स को आराम देने की क्षमता के कारण इसका उपयोग दस्त के उपचार के रूप में भी किया जाता है। जबकि फल का उपयोग कब्ज को दूर करने के लिए किया जाता है, पत्तियां दस्‍त के उपचार में मदद करती हैं और जड़ और छाल का सेवन पेट दर्द को कम करने के लिए किया जा सकता है।

एलर्जी से बचाव 

इसमें मौजूद एंटी-हिस्टामिनिक गुणों के कारण यह एलर्जिक अस्थमा और खांसी से निपटने का एक प्रभावी तरीका है। यह विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत है और सर्दी और खांसी को रोकने के लिए इम्‍यून सिस्‍टम को बढ़ावा देता है।

Recommended Video

हेल्‍दी हार्ट

tamarind for heart inside

इमली दिल के लिए एक अच्‍छा फल है। इसमें मौजूद फ्लेवोनोइड्स एलडीएल या "बैड" कोलेस्ट्रॉल को कम करने और एचडीएल या "गुड" कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बढ़ाते हैं। इस प्रकार ब्‍लड में ट्राइग्लिसराइड्स (फैट का एक प्रकार) के निर्माण को रोकते हैं। इसमें पोटेशियम भरपूर मात्रा में होता है जो आपके ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें: वेट लॉस से लेकर एनर्जी बढ़ाने तक ये 6 मसाले जरूर खाएं, थकान भी होती है दूर

लिवर की देखभाल

इमली आपके लिवर की भी देखभाल कर सकती है। कैलोरी से भरपूर आहार से फैटी लिवर होता है और अध्ययनों से पता चला है कि इमली के अर्क का रोजाना सेवन इस स्थिति को उलट सकता है।

इस तरह इमली का इस्‍तेमाल करने से आपकी हेल्‍थ से जुड़ी 7 समस्‍याओं को दूर करने में हेल्‍प मिलती है। आहार व पोषण से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।