दाल के बिना ज्‍यादातर लोगों का खाना अधूरा होता है और आसानी से उपलब्‍ध और टेस्‍टी दाल, चना, राजमा आदि को हम में से अधिकांश लोग खाना बेहद पसंद करते हैं। पकौड़े से लेकर पराठे तक, हम रोज कुछ न कुछ में दाल खाते हैं। यहां तक कि कुछ लोगों को दाल का हलवा भी बेहद पसंद होता है। प्रोटीन, फाइबर, अमीनो एसिड आदि का भंडार होने के कारण इन्‍हें सुपरफूड माना जाता है। इसके अलावा, दाल और फलियों रोजाना खाने से वेट लॉस में मदद मिलती है, इम्‍यूनिटी मजबूत होती है और छोटी मोटी बीमारियां हमें छू भी नहीं पाती हैं। 

जब आप भारतीय भोजन में दाल, राजमा, चना रेसिपीज की एक विस्तृत श्रृंखला पाते हैं, तो हर डिश आपको सही मात्रा में पोषक तत्‍व प्रदान नहीं करती है। ऐसे में मन में यही सवाल आता है, इन दालों को खाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट और बॉलीवुड एक्‍ट्रेस करीना कपूर की डायटीशियन के तौर पर जानी जाने वाली रुजुता दिवेकर ने हाल में अपने इंस्टाग्राम पोस्ट्स में एक वीडियो शेयर किया, जिसमें उन्‍होंने अपनी डाइट में दाल को शामिल करने के 3 रूल्‍स बताए हैं। इन्‍हें फॉलो करके आप दाल में मौजूद अधिक से अधिक पोषण पा सकती हैं। आइए इस बारे में विस्‍तार से इस आर्टिकल के माध्‍यम से जानें।

रूल नम्‍बर 1

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

खाना पकाने से पहले भिगोएं और अंकुरित करें।

दालें प्रोटीन, विटामिन्‍स और मिनरल्‍स का समृद्ध स्रोत हैं, लेकिन उनमें से अमीनो एसिड को निकाल पाना बेहद मुश्किल काम है। दालों में यह नेचुरली होते हैं जिन्हें एंटी-पोषक तत्व कहा जाता है जो पोषक तत्वों के रास्‍ते में आते हैं। यही कारण है कि इतने सारे लोगों को दाल खाने के बाद गैस, सूजन, अपच आदि की समस्‍याएं होने लगती हैं। इसलिए, आपकी दादी एंटी-पोषक तत्वों को कम करने और प्रोटीन, सूक्ष्म पोषक तत्व और दालों और फलियों की पाचनशक्ति को बढ़ाने के लिए दाल को भिगोकर या फिर अंकुरित करके पकाने के लिए कहती हैं।

इसे जरूर पढ़ें:Ladies के लिए किसी magic से कम नहीं है ये 5 तरह की दालें

Recommended Video

रूल नम्‍बर 2

rujuta diwekar tips for pulses inside

खाना पकाने में दालों और अनाज (1: 3) / दाल और बाजरा (1: 2) के सही अनुपात का उपयोग करें

दाल को सही अनुपात में खाना बेहद जरूरी होता है। कई प्रोटीन के चक्‍कर में दाल का जरूरत से ज्‍यादा सेवन और अनाज से दूरी बना लेते हैं। यह सेहत के लिए बिल्‍कुल भी सही नहीं है। जब आप दाल को चावल के साथ खाते हैं तो इसका अनुपात 1: 3 होना चाहिए। लेकिन जब आप इसे बाजराऔर अनाज के मिश्रण के साथ लेते हैं तो इसका अनुपात 1: 2 होना चाहिए।

इसके पीछे तर्क यह है कि दालों और फलियों में मेथियोनीन नामक अमिनो एसिड की कमी होती है और अनाज में लाइसिन की कमी होती है। लाइसिन दालों में बहुतायत से पाया जाता है लेकिन मेथिओनिन जैसे अन्य अमीनो एसिड के बिना यह पूरी तरह से अपने कार्यों को पूरा नहीं कर सकता है। यह इसमें एक भूमिका निभाता है -

  • एंटी-एजिंग - समय से पहले बालों को सफेद होने से रोकता है।
  • बोन मास - इसे संरक्षित और मजबूत करता है।
  • इम्‍यूनिटी - हमले के दौरान एंटीबॉडी बनाने में मदद करता है।

रूल नम्‍बर 3

rujuta diwekar tips for pulses inside

हर हफ्ते कम से कम 5 प्रकार की दालों/फलियां और हर महीने 5 अलग-अलग रूपों में लें

सभी पोषक तत्वों के सेवन का अनुकूलन करने के लिए विभिन्न प्रकार की दालों और उन्हें विभिन्न रूपों का सेवन करना बेहद जरूरी होता है। भारत में दालों और फलियों की 65000 से अधिक किस्में हैं। दालों की एक विस्तृत विविधता (एक सप्ताह में कम से कम 5 अलग-अलग प्रकार) जब अलग-अलग तरीकों से खाई जाती है (जैसे कि दाल, पापड़, अचार, इडली, डोसा, लड्डू, हलवा, आदि) यह सुनिश्चित करता है कि हमें स्वस्थ आंत बैक्टीरिया के लिए आवश्यक आहार विविधता प्राप्त हो। 

अगर दाल भी आपके खाने का अहम हिस्‍सा है तो इन रूल्‍स को फॉलो करके आप भी भरपूर मात्रा में पोषण पा सकती हैं। आहार व पोषण से जुड़ी और जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com & Instagram.com