सिर दर्द या कमर का दर्द या फिर जोड़ों का दर्द या दांत का दर्द परेशान करने पर कोई भी काम करना मुश्‍किल हो जाता है। ऐसे में हममें से ज्‍यादातर महिलाएं दर्द को दूर करने के लिए बिना सोचे समझे पेनकिलर खा लेती हैं। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि दर्द को दूर करने के लिए बिना डॉक्‍टर से पूछे पे‍नकिलर खा लेना आपकी हेल्‍थ के लिए खतरनाक हो सकता है। इन मेडिसिन में सोडियम की मात्रा बहुत अधिक होती है जिसका विपरीत असर अंगों पर पड़ता है। लेकिन अगर आप चाहे तो बिना मेडिसिन के भी अपने पेन को कंट्रोल में कर सकती हैं। जी हां आपकी किचन में कई ऐसी चीजें मौजूद हैं जिनके इस्‍तेमाल से आप बिना साइड इफेक्‍ट अपने पेन को छूमंतर कर सकती है। आइए आपकी किचन में मौजूद बेस्‍ट 10 नेचुरल पेनकिलर के बारे में जानें। जो दर्द से तुरंत आराम के लिए आपका किचन भी प्राकृतिक पेनकिलर के खजाने से कम नहीं है। 

लहसुन
natural painkiller garlic

लहसुन में मौजूद सेलेनियम जैसा तत्व कान के दर्द में राहत पहुंचाते हैं। आयुर्वेद में लहसुन को तेल के साथ उबालकर कानों पर लगाने की सलाह दी जाती है। इससे कानों के पकने या सूजन से होने वाले पेन में भी तुरंत आराम मिलता है। किसी भी तरह के दर्द खासतौर पर पेट दर्द और जोडों के दर्द से बचने के लिए आप रोजाना लहसुन की एक या दो कली का सेवन कर सकती हैं।

इसे जरूर पढ़़ें: लहसुन की चाय सर्दी-ज़ुकाम से लेकर करेगी आपका मोटापे को कम

अजवायन

अगर आपको पेट दर्द की शिकायत है या फिर ठंड लगने की वजह से आपके पेट में मरोड़ है तो अजवायन आपके लिए फायदेमंद रहेगी। दर्द होने पर थोड़ी सी अजवायन में काला नमक मिलाकर पानी के साथ लें। आपको दर्द से राहत मिलेगी।

हींग

हींग दर्द निवारक और पित्तवर्द्धक होती है। छाती और पेट दर्द में हींग का सेवन लाभकारी होता है। छोटे बच्चों के पेट में दर्द होने पर हींग को पानी में घोलकर पकाने और उसे बच्चो की नाभि के चारो ओर उसका लेप करने से दर्द में राहत मिलती है।

नमक

गले में खराश या दर्द से तुरंत आराम के लिए नमक बहुत काम की चीज है। गर्म पानी में नमक मिलाकर कुल्ला करने से गले में होने वाले दर्द से तुरंत आराम मिलता है और इंफेक्‍शन दूर होता है। इसके अलावा पानी में नमक डालकर नहाने से शरीर की थकान दूर हो जाती है। इसके अलावा नमक के पानी में पैर डालकर बैठने से पैरों का दर्द दूर हो जाता है और सूजन भी कम हो जाती है।

लौंग
natural painkiller clove

दांतों का दर्द हो या मसूड़े में सूजन, लौंग के सेवन से पेन से तुरंत राहत मिलती है। इसमें मौजूद यूजेनॉल नामक तत्व नेचुरल पेनकिलर का काम करता है, यही वजह है कि डेन्टिस्ट में दांतों के दर्द में लौंग का तेल लगाने की सलाह देते हैं।

पुदीना

शरीर के दर्द और ऐंठन में आराम पहुंचाने के लिए पुदीना बहुत फायदेमंद है। गर्म पानी में पेपरमिंट तेल की कुछ बूंदे डालकर सेंकाई करने से शरीर की जकड़न खुल जाती है और दर्द में तुरंत आराम होता है। इसके अलावा दांत दर्द, सिर दर्द में आप इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। यह पाचन से जुड़ी परेशानियों को भी दूर करने का काम करता है। साथ ही यह ब्रेन को शांत भी करता है।

सोडा

पेट में दर्द होने पर कप पानी में एक चुटकी खाने वाला सोडा डालकर पीने से पेट दर्द में राहत मिलती है। एसिडिटी होने पर एक चुटकी सोडा, आधा चम्मच भुना और पिसा हुआ जीरा, 8 बूंदे नींबू का रस और स्वादानुसार नमक पानी में मिलाकर पीने से एसिडिटी में राहत मिलती है।

इसे जरूर पढ़़ें: घर पर ही ये आसान थेरेपी करें और जोड़ों के दर्द से हमेशा के लिए छुटकारा पाएं

हल्दी

चोट पर एंटीसेप्टिक से लेकर जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए हल्दी से बढ़िया कुछ और नहीं। हल्दी से ना सिर्फ पेन दूर होता है बल्कि सूजन भी कम होती है। खासतौर पर अर्थराइटिस के दर्द में यह बहुत फायदेमंद है। इसमें मौजूद कुरक्यूमिन नामक तत्व नेचुरल पेनकिलर है। मैं भी अपने जोड़ों के दर्द से बचने के लिए रोजाना हल्‍दी वाला दूध पीती हूं।

Recommended Video

अदरक
natural painkiller ginger

मसल्‍स पेन, जोड़ों में अकड़न और बॉडी जकड़ने पर अदरक का सेवन बहुत फायदेमंद है। इसमें मौजूद जिन्जेरॉल नामक तत्व में मसल्‍स और जोड़ों से दर्द में आराम दिलाने की शक्ति होती है। इसके अलावा पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत के लिए भी आप इसका प्रयोग कर सकती हैं। दर्द से बचने के लिए आप अदरक की चाय या छोटा सा अदरक का टुकड़ा खा सकती हैं।

मेथी

एक चम्मच मेथी दाना में चुटकी भर पिसी हुई हींग मिलाकर पानी के साथ फांकने से पेट दर्द में आराम मिलता है। मेथी डायबिटीज में भी लाभदायक होती है। मेथी के लड्डू खाने से जोडों के दर्द में लाभ मिलता है। आप चाहे तो दर्द से राहत पाने के लिए रोजाना मेथी को भिगोकर इसके पानी को पी और मेथी को चबाकर खा सकती हैं।

तो इस तरह दर्द को दूर करने के लिए अब आपको मेडिसिन की नहीं बल्कि अपनी किचन में मौजूद नेचुरल चीजों का सेवन करना चाहिए। लेकिन दर्द बहुत ज्‍यादा होने पर डॉक्‍टर से परामर्श जरूर लें।