भारतीय राग थेरेपी या साउंड थेरेपी सदियों से चली आ रही है। वैदिक साहित्य का आत्मनिरीक्षण करने पर साउंड थेरेपी और मानव जाति के लिए इसके लाभों के कई उल्लेख मिल सकते हैं। यही कारण है कि श्लोक, भजन, गुरबानी, या धार्मिक मंत्रों के अन्य रूपों को तैयार किया गया था। विचार शारीरिक और मानसिक उपचार दोनों के लिए साउंड थेरेपी का प्रचार करना था।

तकनीकी रूप से कहें तो साउंड थेरेपी मानव शरीर पर शांति, सद्भाव और अच्छी हेल्‍थ की स्थिति विकसित करने के लिए विभिन्न साउंड आवृत्तियों का चिकित्सीय उपयोग है। साउंड थेरेपी एक आदिम अभ्यास है जिसे गायन, ऑनलाइन संगीत, समूह गायन या लाइव संगीत सुनना आदि जैसे कई तरीकों से किसी के जीवन में लागू किया जा सकता है।

जिन प्रमुख सिद्धांतों के इर्द-गिर्द साडंड थेरेपी काम करती है, वे प्रतिध्वनि, ध्वनि हीलिंग एनर्जी, हार्मोनिक्स, मंत्र, प्रवेश और इरादा, और ताल हैं। साडंड का हमारे शरीर की प्रत्येक कोशिका पर प्रतिध्वनि का प्रभाव होता है जिससे सकारात्मक उपचार प्रभाव पड़ता है। जब हम ऐसी साउंड्स सुनते हैं जिनमें अच्छे हार्मोनिक्स होते हैं, तो यह मानव मन को चेतना की एक परिवर्तित अवस्था में ले जाता है जो अधिक उन्नत और शांतिपूर्ण होती है। इस बारे में हमें न्यूमरोवाणी के संस्थापक सिद्धार्थ एस कुमार बता रहे हें। 

sound therapy inside

दवाओं के बिना दूर होती है बीमारियां

इसके अतिरिक्त, ढोल बजाने और लयबद्ध नामजप से व्यक्ति एक बेहतर मानसिक स्थिति प्राप्त कर सकता है जिससे वह हीलिंग के प्रति अधिक ग्रहणशील हो जाता है, जिससे बीमारियों से जल्दी ठीक हो जाती है। यंत्रों का उपयोग करने और दूसरों की आवाज सुनने के अलावा, हमारी आवाज में एक अनूठी हीलिंग शक्ति है, जो हमें दवाओं के उपयोग के बिना कई बीमारियों को दूर करने में मदद करती है। यह हमारे दर्द और तनाव को दूर करने में हमारी मदद करती है। 

इसे जरूर पढ़ें: क्या है क्रिस्टल थैरेपी? जानें इसके फायदे और प्रयोग करने का तरीका

Recommended Video

साउंड थेरेपी में क्या शामिल है?

  • आवाज के भाव जैसे गायन, जप, हंसना और टोनिंग। नवर्ण मंत्र को जपने या सुनने से भी अनेक प्रकार से सहायता मिलती है।
  • वाद्य यंत्रों, ढोल, तिब्बती बॉउल्‍स आदि से वाद्य लगता है।
  • चिंता और तनाव से राहत के लिए म्‍यूजिक थेरेपी या राग थेरेपी है जो दर्द को कम करने में मदद करती है।
  • साउंड हीलिंग थेरेपी में एक प्रशिक्षित साउंड चिकित्सक, साउंड हीलिंग ट्रीटमेंट प्रदान करता है।
  • सेल्फ-हीलिंग का अर्थ है अपने मोबाइल फोन जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के माध्यम से संगीत सुनना। संगीत द्वारा उत्सर्जित सकारात्मक स्पंदनों को महसूस करने के लिए इयरफ़ोन प्लग इन करके प्रतिदिन 528 मेगाहर्ट्ज संगीत सुनें।
sound therapy inside

साउंड थेरेपी और हीलिंग नंबर्स

गुंजन वाई त्रिवेदी और बंशी साबू द्वारा जर्नल ऑफ बिहेवियर थेरेपी एंड मेंटल हेल्थ में प्रकाशित शोध के अनुसार, इस तरह के संगीत सत्र हो सकता है कि 20 मिनट के भीतर एनर्जी को पानेऔर ट्रीटमेंट को सक्षम करने के लिए बेहतर पैरासिम्पेथेटिक टोन और कम चिंता के साथ अच्छी गुणवत्ता की छूट प्रतिक्रिया उत्पन्न करें। यह इंगित करता है कि साउंड थेरेपी के छोटे सत्र आपके मन और शरीर पर बड़े प्रभाव डाल सकते हैं।

हॉन्ग कॉन्ग के एक अन्य अंतरराष्ट्रीय अध्ययन के अनुसार, ''जिन वृद्ध लोगों ने एक महीने के लिए प्रतिदिन लगभग 25 मिनट सूदिंग संगीत सुना, उनमें सिस्टोलिक प्रेशर कम हुआ। इसमें लगभग 12 अंक की गिरावट आई और यहां तक कि उनका डायस्टोलिक प्रेशर यानी नीचे की संख्या 5 अंक कम हो गई। उसी अध्ययन में, यह भी रेखांकित किया गया था कि एक नियंत्रण समूह जो साउंड थेरेपी से नहीं गुजरा था, उनके ब्‍लडप्रेशर में कोई बदलाव नहीं आया था।''

sound therapy inside

हालांकि अनुसंधान सीमित है, साउंड थेरेपी धीरे-धीरे मन और शारीरिक शक्ति का लाभ उठाने के लिए वैकल्पिक चिकित्सा का एक प्रमुख तरीका बन रही है क्योंकि यह दवाओं के सेवन और अन्य तनावपूर्ण ट्रीटमेंट्स की आवश्यकता को समाप्त करती है।

इसे जरूर पढ़ें:माइंडफुलनेस के लिए आर्ट थेरेपी का सहारा!

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।

Image Credit: Freepik.com