नोज़ पियर्सिंग यानी कि नाक छिदवाने के बाद, कुछ हफ्तों तक सूजन, लालिमा, रक्तस्राव या चोट की तरह दर्द होना एक सामान्य समस्या है। आमतौर पर ये समस्या कुछ ही दिनों में पूरी तरह से ठीक होने लगती है और नाक सामान्य अवस्था में आ जाती है। लेकिन कई बार नोज़  पियर्सिंग के बाद उस जगह पर पस पड़ने लगता है और असहनीय दर्द का सामना करना पड़ता है।

अगर आपको भी ऐसी कोई समस्या है जैसी  पियर्सिंग के बाद दाना निकलना या उस पर पस पड़ना, तो कुछ घरेलू तरीकों से इसे ठीक किया जा सकता है। वैसे यदि यह समस्या जरूरत से ज्यादा बढ़ जाए तो डॉक्टर की सलाह लेना हो बेहतर है। लेकिन कुछ आसान तरीकों से इसे घर पर भी ठीक किया जा सकता है। आइए जानें उन तरीकों के बारे में। 

क्या है नोज़ पियर्सिंग एलर्जी

nose pearcing allergy

नाक छिदवाने के बाद, कुछ हफ्तों तक सूजन, लालिमा, रक्तस्राव या पस आना नोज़ पियर्सिंग एलर्जी हो सकता है। इस तरह की एलर्जी में नाक में छेदे गए भाग में और नोज़ रिंग या नोज़ पिन के चारों तरफ धीरे -धीरे एक हल्की पपड़ी पड़ने लगती है और ये जल्दी ही ठीक होने लगती है। नाक छिदवाने को पूरी तरह से ठीक होने में 3 से 6 महीने तक का समय भी लग सकता है। लेकिन अगर आप नोटिस करती हैं हैं कि आपके लक्षण बदल रहे हैं या दिन प्रतिदिन बदतर हो रहे हैं, या यदि आप एक गांठ विकसित होते हुए देखते हैं, तो यह एक समस्या का संकेत हो सकता है। ऐसी स्थिति में तुरंत चिकित्सकीय परामर्श लें। 

इसे जरूर पढ़ें: एथलीट फुट की समस्या से हैं परेशान, तो ये आसान घरेलू नुस्खे आजमाएं

नोज़ पियर्सिंग एलर्जी के कारण 

nose pearcing

इसका मुख्य कारण खराब भेदी तकनीक हो सकता है।अपने नाक में पियर्सिंग (नोज़ पियर्सिंग कराते समय ध्यान रखें ये बातें) वाले हिस्से को गंदे हाथों से छूना और पियर्सिंग को साफ करने के लिए गलत उत्पादों का उपयोग करना जैसे कई कारण इस समस्या का कारण हैं। यदि नाक में पपड़ी पद रही है तो उसे हटाना इस समस्या को बढ़ा सकता है। गलत ज्वेलरी का चुनाव भी इस एलर्जी का कारण हो सकता है।

नोज़ पियर्सिंग से ऐसे पाएं निजात 

आमतौर पर पियर्सिंग वाले भाग की उचित देखभाल करके इस एलर्जी की समस्या से निजात पाया जा सकता है। आइए जानें कैसे इस समस्या को कम किया जा सकता है। 

नमक पानी से सफाई 

salt water clean

सबसे पहले अपने हाथों को गर्म पानी और लिक्विड सोप से अच्छी तरह धोएं। एक टिश्यू का उपयोग करके नाक के पास के भाग को सुखाएं। इसके लिए एक कप गर्म पानी में 1 /4 चम्मच समुद्री नमक मिलाकर घोल बनाएं। नमक के घोल में कॉटन भिगोएं और प्रभावित हिस्से को इस कॉटन से अच्छी तरह साफ़ करें। इसे वार्म कंप्रेस कहा जाता है और यह आपके पियर्सिंग के आसपास के किसी भी क्रस्ट या डिस्चार्ज को नरम कर देगा। यह त्वचा पर थोड़ा चुभ सकता है। नाक छिदवाने के अंदर और बाहर से किसी भी नम पपड़ी या डिस्चार्ज को धीरे से हटाने के लिए नमक के घोल में डूबी एक साफ कॉटन पैड का उपयोग करें। क्षेत्र को धीरे से सूखने के लिए कागज़ के तौलिये के एक साफ टुकड़े का उपयोग करें। इस प्रक्रिया को दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

इसे जरूर पढ़ें:नाक छिदवाने से स्‍टाइलिश और फैशनलेबल दिखने के साथ सेहतमंद भी रहेंगी आप

कैमोमाइल कंप्रेस 

camomile tea

कैमोमाइल में यौगिक होते हैं जो घावों को तेजी से ठीक करने में मदद करते हैं और त्वचा की बाधा को खुद को बहाल करने के लिए उत्तेजित करते हैं। आप नमक के घोल या कैमोमाइल के घोल का उपयोग करने के बीच वैकल्पिक चुनाव कर सकती हैं। कैमोमाइल कंप्रेस के लिए कैमोमाइल टी बैग को एक कप में भिगो दें, जैसे कि आप एक कप चाय बनाने के लिए करती हैं। बैग को 3 से 5 मिनट के लिए  छोड़ दें। कैमोमाइल के घोल में एक कॉटन पैड को भिगोएं और अपने नोज़ पियर्सिंग वाले हिस्से पर 5 से 10 मिनट के लिए लगाएं। यदि आपको कोई अन्य एलर्जी है तो आपको कैमोमाइल का उपयोग विशेषज्ञ की सलाह से ही करना चाहिए।

टी ट्री एसेंशियल ऑयल 

tea tree oil

टी ट्री एक प्राकृतिक एंटिफंगल, एंटीसेप्टिक और रोगाणुरोधी एजेंट है। टी ट्री ऑयल विशेष रूप से नोज़ पियर्सिंग एलर्जी या गांठ को निर्जलित करने के लिए उपयोगी होता है। यह उपचार प्रक्रिया को बढ़ावा देने, संक्रमण को दूर करने और सूजन को कम करने में भी मदद करता है। इसके इस्तेमाल के लिए टी ट्री ऑयल (टी ट्री ऑयल के फायदे) की लगभग 12 बूंदों को जैतून तेल, नारियल तेल, या बादाम के तेल की दो से चार बूंदें के साथ मिलाएं। ऐसा करने से टी ट्री ऑयल पतला हो जाएगा जिससे यह आपकी त्वचा पर उपयोग करने के लिए सुरक्षित हो जाएगा। इस मिश्रण को सीधे प्रभावित हिस्से पर लगाएं। अगर आप पहली बार इसका इस्तेमाल कर रही हैं, तो इसे अपनी नाक छिदवाने जैसे खुले घाव पर लगाने से पहले पैच टेस्ट जरूर करें।

अपनी नोज़ रिंग या पिन बदलें 

nose ring change

यदि आपको नोज़ रिंग से एलर्जी हो रही है तो इसे तुरंत बदल लें। कई बार खराब मेटल की नोज़ रिंग भी नोज़ पियर्सिंग एलर्जी का कारण होती है। जहां तक हो सके सोने या चांदी से बनी रिंग का इस्तेमाल करें। यदि आपकी नाक छिदवाने को 6 महीने से कम समय हुआ है, तो आपको अपने गहनों की अदला-बदली नहीं करनी चाहिए। ऐसा करने से आपके नाक के टिश्यू फट सकते हैं। इसके बजाय, अपने भेदी के पास जाएँ ताकि वे आपके लिए गहनों की अदला-बदली कर सकें। एक बार जब आप 6 महीने के उपचार बिंदु को पार कर लेते हैं, तो यदि आप ऐसा करने में सहज महसूस करती हैं, तो आप स्वयं भी गहने बदल सकती हैं। 

Recommended Video

पियर्सिंग वाले हिस्से को साफ करें 

nose pearcing clean

नए पियर्सिंग को आमतौर पर दिन में दो से तीन बार साफ करना चाहिए। किसी भी कारण से अपनी नाक छिदवाने से पहले, आपको हमेशा अपने हाथों को गर्म पानी और तरल साबुन से अच्छी तरह धोना चाहिए। अपने हाथों को तौलिये से सुखाएं, फिर अपनी भेदी को साफ करने के लिए आगे बढ़ें। जब पियर्सिंग वाला हिस्सा सूखा हो तो नोज़ रिंग को घुमाते रहें जिससे ये ना में जाम न हो जाए। पहले 6 महीनों के लिए हर दिन पियर्सिंग को साफ करना महत्वपूर्ण है। यहां तक कि अगर आपकी भेदी बाहर से ठीक लगती है, तो भी इसे दिन में 2 से 3 बार साफ़ करें।

इसे जरूर पढ़ें:Expert Advice : कहीं मुंह से बदबू का कारण दांतों का प्लाक तो नहीं है, जानें इससे छुटकारा पाने के तरीके

इन आसान घरेलू नुस्खों से आप नोज़ पियर्सिंग एलर्जी से निजात पा सकती हैं ,लेकिन किसी भी उपाय को आजमाने से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें और ज्यादा समस्या होने पर घरेलू नुस्खों की जगह डॉक्टर से सलाह लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: free pik and unsplash