मानसून यानी मौसमी बदलाव के साथ कई तरह की बीमारियां जैसे डेंगू, मलेरिया, बुखार आदि होने की संभावना बढ़ जाती है। वैसे ही, इस महामारी के दौर में लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोग अपनी सेहत को लेकर काफी परेशान हैं कि कैसे अपनी सेहत का ख्याल रखा जाए? इस विषय में हमने न्यूट्रिशनिस्ट और डाइट एक्सपर्ट स्वाति बथवाल से बात की। उन्होंने कहा कि मानसून के मौसम में खुद को सेहतमंद रखने की चुनौती और अधिक बढ़ जाती है। 

inside Graphic swati bathwal

सभी को कुछ ऐसे टिप्स अपनाने चाहिए जिससे कि वह बीमारियों से बचाव कर सकें। साथ ही, उन्होंने यह भी कहा कि अब लॉकडाउन खुल रहा है और लोगों को वैक्सीन भी लगाई जा रही हैं। इसका मतलब ये नहीं कि आप बेवजह घर से बाहर निकलें। जिन लोगों को कोविड -19 नहीं हुआ है या जो लोग कोविड -19 से रिकवर हो रहे हैं, उन सभी लोगों को भी मानसून में अपनी सेहत का बहुत ख्याल रखना है और अपनी इम्यूनिटी पर भी ध्यान देना है। इसके अलावा, उन्होंने कुछ टिप्स हमारे साथ साझा किए हैं जिन्हें आप भी जरूर फॉलो करें।

इम्यूनिटी का रखें ख्याल 

inside  strong

एक अच्छा इम्यूनिटी सिस्टम हमारे शरीर को स्वस्थ रखता है, लेकिन इस महामारी के दौर में यह संभव नहीं हो पा रहा है क्योंकि जिन लोगों को कोविड -19 हो चुका है या जिन लोगों को कोविड -19 होने का रिस्क है उन्हें भी इम्यूनिटी की दिक्कत है। ऐसे में ज़रूरी है अपनी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग बनाया जाए। स्वाति बथवाल इकहती हैं कि अपने आहार में विटामिन-सी या जो भी मौसमी फ्रूट्स हैं जैसे जामुन, करेला आदि शामिल करें। इसके साथ ही, अगर आपको विटामिन-सी की ज़्यादा ज़रूरत है तो करोंदा, लीची का नियमित रूप से सेवन करें।

प्रोबायोटिक्स खाद्य पदार्थ लें 

inside  diet tips

मौसम में बदलाव होने के कारण पेट से संबंधित कई समस्याएं भी होने लगती हैं, इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए ज़रूरी है आप अपने आहार में प्रोबायोटिक्स की मात्रा शामिल करें। आपको बता दें, कि प्रोबायोटिक्स एक तरह का अच्छा बैक्टीरिया होता है जो शरीर को स्वस्थ रखने का काम करता है। स्वाति बाथवाल के अनुसार आप लस्सी या छाछ का नियमित रूप से सेवन कर सकते हैं या पके हुए चावल में पानी डालकर कुछ देर छोड़ दें और उसका सेवन करें। यह सेहत और पेट के लिए बहुत फायदेमंद है। 

बाल झड़ने पर क्या करें 

inside  hair removal

बरसात के मौसम में बाल झड़ना बहुत आम समस्या है। लेकिन ज़रूरत से ज़्यादा बाल झड़ना भी ठीक नहीं है। इस मौसम में बालों का ख्याल रखने के लिए आप प्रोटीन और विटामिन-सी की मात्रा थोड़ी बढ़ा सकती हैं, क्योंकि ये पदार्थ बालों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। अगर आप अंडा या चिकन खा रहे हैं तो ध्यान रखें कि यह अच्छी तरह से धुले और पके हुए हो। स्वाति बाथवाल के अनुसार इस मौसम में आप जानवरों से प्राप्त या उससे बनी हुई तमाम चीजों जैसे अंडा, मांस आदि से थोड़ा परहेज करें। अगर आप ये खाद्य पदार्थ ले रहे हैं जैसे चिकन या अंडा आदि, तो इन्हें  पहले अच्छी तरह से पका लें फिर उसका इस्तेमाल करें क्योंकि ऐसा करने से उसमें मौजूद बैक्टीरिया मर जाते हैं। 

पत्तेदार सब्जियों से करें परहेज

inside  Avoid green vegitable

मानसून में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन ज्यादा नहीं करना चाहिए क्योंकि इस मौसम में इनमें कीड़े लगने का खतरा अधिक बढ़ जाता है, जो सेहत के लिए ठीक नहीं है। इसलिए इस मौसम में पालक, फूल गोभी आदि सब्जियां ना खाएं। अगर आप पालक या कोई दूसरा साग लेना चाहती हैं और वह आपको ताजा न मिले तो इसके substitute ले सकती हैं -जैसे पालक के पाउडर या सूखी मेथी का इस्तेमाल आसानी से कर सकती हैं। इसके साथ ही आप चाहें तो घर में भी मेथी उगाकर इसका इस्तेमाल खाने में कर सकती हैं। 

बाहर की चीजें करें अवॉइड 

inside  avoid fast food

इस मौसम में आप बाहर की चीज़े बिल्कुल न खाएं क्योंकि ये सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक हैं। स्वाति ने बताया कि आप मानसून के मौसम में इसे पूरी तरह अवॉइड करें। बाहर की चीज़ों का सेवन आपकी सेहत खराब कर सकता है,  क्योंकि आपको नहीं पता कि दुकान वाले ने इसे किस तरह बनाया है और यह कितना हेल्दी है। कोशिश करें घर की बनी हुई चीज़े ही खाएं और बाहर की चीज़ें जैसे फ़ास्ट फ़ूड आदि बिल्कुल भी नहीं लें। 

इसे ज़रूर पढ़ें-एक्टिवेटेड चारकोल के ये 7 अद्भुत इस्‍तेमाल आप भी जानें

नहाते समय नीम के पत्तों का सेवन 

inside  neem bath

मानसून में स्किन इन्फेक्शन या खुजली की परेशानी ज़्यादा बढ़ जाती है कई लोगों को फंगल इन्फेक्शन भी हो जाता है। तो आप परेशान ना हो क्योंकि इससे बचने के लिए आप रोजाना नीम के पानी से नाहा सकते हैं।  नीम का पानी अपने प्राकृतिक एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-फंगल गुणों के लिए जाना जाता है। यह त्वचा और बालों से जुड़ी समस्याओं के लिए रामबाण है। इसके आलावा, आप आहार में कड़वी चीज़े जैसे करेला, नीम के पत्ते आदि भी शामिल कर सकते हैं। इससे आपका पेट भी साफ रहेगा।

Recommended Video

पानी जमा न होने दें

inside  monsoon water

अक्सर घर या छत पर बरसात का पानी जमा हो जाता है जिससे कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। डेंगू, मलेरिया के मच्छर इसी पानी में पैदा होते हैं, इसलिए इस बात का ज़रूर ध्यान रखें कि कहीं पानी इकठ्ठा ना हो। 

इसके साथ ही बच्चों की सेहत का भी खास ध्यान रखें और उन्हें ज़्यादा बाहर की चीज़े न खाने दें, क्योंकि यह मौसम बच्चों को ज्यादा प्रभावित करता है। कोरोना वायरस के साथ-साथ मानसून में होने वाली बीमारियों से भी अपने आपको सुरक्षित रखें। 

इसे ज़रूर पढ़ें-जूही परमार से जानें पान खाने के अद्भुत फायदे

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik