प्रेग्‍नेंसी महिलाओं के लिए खास और नया अनुभव होता है, लेकिन डिलीवरी के बाद महिलाओं में कई तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं। ऐसा बॉडी में आए बदलाव के कारण होता है। दूसरा महिला शिशु की देखभाल में इतना खो जाती है कि उसे अपना ध्‍यान रखने का होश ही नहीं रहता है। लेकिन शायद वह यह बात नहीं जानती है कि वह अपनी देखभाल तभी कर सकती है जब खुद फिट रहेगी। इसलिए घर की बुजुर्ग महिलाएं डिलीवरी के बाद मसाज करने की सलाह देती हैं। हालांकि आजकल की महिलाएं डिलीवरी के बाद मसाज करवाना पसंद नहीं करती हैं। लेकिन क्‍या आप जानती है कि मसाज करवाने से महिलाएं केवल फिजीकल ही नहीं बल्कि मेंटली फिट रहती हैं।

आयुर्वेदिक डॉक्‍टर दुर्गा का कहना है कि डिलीवरी के बाद मसाज करवाने से जल्‍दी रिकवरी में हेल्‍प मिलती है, लेकिन इस बात का ध्‍यान रखें कि नार्मल डिलीवरी के बाद मालिश जल्‍दी शुरू हो जानी चाहिए जबकि सिजेरियन डिलीवरी के बाद मालिश बहुत जल्‍दी शुरू नहीं करनी चाहिए। डिलीवरी के कम से कम बीस से पच्‍चीस दिन के बाद ही करना चाहिए।' आइए डॉक्‍टर दुर्गा से जानें कि डिलीवरी के बाद मसाज करवाने के क्‍या-क्‍या फायदे एक महिला को हो सकते हैं

वजन हो सकता है कम 

डिलीवरी के बाद ज्‍यादातर महिलाओं का वजन बढ़ जाता है, और खूबसूरती कम होने के कारण वजन बढ़ना किसी भी महिला को पसंद नहीं होता है। लेकिन अगर डिलीवरी के बाद आप रेगुलर मसाज करवाती हैं, तो इससे आपकी बॉडी का फैट बर्न होता है, बढ़ा हुआ पेट कम होता है, और फिगर मेन्टेन रहती है।

weight loss massage in


रिलैक्‍स महसूस होता है

डिलीवरी के बाद महिलाओं को फिजीकली ही नहीं बल्कि मेंटली भी थकावट होती है। जी हां डिलीवरी के बाद बॉडी में आए बदलाव, और पूरा दिन शिशु की देखभाल के कारण महिला बहुत ज्‍यादा थक जाती है, और यदि वो मसाज करवाती हैं तो इससे आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से राहत महसूस होती है।

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: प्रेग्नेंसी में शरीर में होने वाली खुजली से ऐसे पाएं छुटकारा

ब्‍लड सर्कुलेशन होता है बेहतर

बॉडी को फिट रखने के लिए बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन सही तरीके से होना बेहद जरूरी होता है और डिलीवरी के बाद मालिश करवाने से आपक बॉडी में ऑक्सीजन का फ्लो भी अच्छे से होता है, जिससे आपका ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर होता है।

स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं कम 

डिलीवरी के बाद पेट, हिप्‍स और थाई के आस पास स्ट्रेच मार्क्स पड़ जाते है, और अगर आप किसी नेचुरल ऑयल से स्ट्रेच मार्क्स पर रेगुलर मसाज करती हैं, तो आपको इस समस्या से निजात पाने और अपनी स्किन से हर तरह के दाग धब्बे हटाने में हेल्‍प मिलती है।

body massage benefits in

स्किन में आ सकता है कसाव

प्रेग्‍नेंसी के दौरान महिला का पेट फूल जाता है जिससे स्किन डिलीवरी के बाद ढीली पड़ने लग जाती है और अगर आप मालिश करवाती है तो इससे स्किन में कसाव आने लगता है। जिससे बॉडी शेप पहले जैसे होने लगती है।

 

दर्द से राहत दिलाए 

डिलीवरी के बाद बॉडी में कमजोरी आने लगती है और बॉडी पार्ट्स में दर्द रहता है। लेकिन मसाज करवाने खासतौर पर तिल का तेल लगाने से आराम मिलता है। उसके बॉडी पार्ट्स रिलैक्‍स महसूस करते है और अगर आप रात के समय मसाज करके सोती हैं, तो आपको ज्यादा राहत मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें:Expert: कोविड-19 संक्रमण के बीच डिलीवरी के बाद बरतें ये सावधानियां

तो अब तो आप जान ही गई हैं कि मसाज करवाने से आपको क्‍या-क्‍या फायदे होते हैं तो अगर आपकी भी अभी-अभी डिलीवरी हुई है तो आप भी ऑयल मसाज करवा सकती हैं। लेकिन यदि आपकी डिलीवरी यदि सिजेरियन है तो मसाज से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें और नॉर्मल डिलीवरी के बाद भी एक्सपर्ट की सलाह से ही मसाज कराएं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Courtesy: Pxhere.com