माना जाता है कि अगर आपको अच्‍छी नींद आती है तो समझ जानिए कि आपके साथ सब कुछ ठीक हो रहा है। जी हां अच्‍छी नींद के कई फायदे हैं। यह बात कई वैज्ञानिक शोधों में प्रमाणित हो चुकी है। भरपूर नींद लेने से आप बीमारियों से दूर रहती हैं जिससे ज्यादा हेल्‍दी और सुंदर दिखती हैं। जहां एक ओर ज्‍यादा नींद को हेल्‍दी होने की निशानी माना जाता वहीं दूसरी ओर कम नींद से आपकी सेहत को नुकसान हो सकता है। यह बात तो हम सभी जानती हैं लेकिन एक अध्ययन के मुताबिक, कम सोना या बहुत ज्यादा सोना आपकी हेल्‍थ के लिए अच्‍छा नहीं होता है।

मेटाबॉलिक सिंड्रोम

सियोल नेशनल यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने पाया कि प्रति व्यक्ति 6 से सात घंटे सोते व्यक्तियों की तुलना में, जो छह घंटे से कम समय तक सोते हैं, उनमें मेटाबॉलिक सिंड्रोम और कमर पर ज्‍यादा फैट होने की अधिक संभावना होती है। 6 घंटे से कम समय तक सोने वाली महिलाओं में कमर के पास अधिक फैट की संभावना अधिक होती है।
प्रतिदिन दस घंटे से अधिक सोने वाले पुरुषों में मेटाबॉलिक सिेड्रोम और ट्राइग्लिसराइड्स के लेवल में वृद्धि पाई गई, और महिलाओं में मेटाबॉलिक सिंड्रोम, कमर के आस-पास फैट, ट्राइग्लिसराइड्स के हाई लेवल और ब्‍लड शुगर के साथ-साथ 'अच्छे' कोलेस्ट्रॉल के लो लेवल (एचडीएल- सी) पाया गया।

Read more: एक रात की नींद ना लेने पर भी बढ़ जाता है एल्जाइंमर डिजीज होने का जोखिम

लेखकों ने पाया कि लगभग 11 प्रतिशत पुरुष और 13 प्रतिशत महिलाएं छह घंटे से कम सोती हैं, जबकि 1.5 प्रतिशत पुरुष और 1.7 प्रतिशत महिलाएं दस घंटे से अधिक सोती हैं।

too much sleep inside

क्‍या कहती है रिसर्च

अध्ययन के मुख्य लेखक क्लेयर ई किम ने कहा, "यह सबसे बड़ा अध्ययन है जो नींद की अवधि और मेटाबॉ‍लिक सिंड्रोम और पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग घटकों के बीच खुराक प्रतिक्रिया की जांच करता है। क्योंकि हम अपने पिछले अध्‍ययन में सैंपल का विस्तार करने में सक्षम थे, इसलिए हम नींद और मेटाबॉलिक सिंड्रोम के बीच संबंधों का पता लगाने में सक्षम रहें जिन पर पहले कभी ध्यान नहीं दिया गया था। हमने लंबे समय तक सोने और मेटाबॉलिक सिंड्रोम के बीच एक संभावित लिंग अंतर देखा, मेटाबॉलिक सिंड्रोम और लंबी नींद महिलाओं में और मेटाबॉलिक सिंड्रोम में कम नींद पुरुषों बीच एक सहयोग के साथ। "

Read more: सोने से पहले करेंगी ये काम तो हो जाएंगी स्लिम

too much sleep inside

मेटाबॉलिक सिंड्रोम के लक्षण

सामान्य परिभाषाओं के आधार पर, प्रतिभागियों को मेटाबॉलिक सिंड्रोम माना जाता था, अगर उन्होंने निम्न में से कम से कम तीन चीजें दिखाई देती है जैसे

  • कमर के आस-पास फैट
  • हाई ट्राइग्लिसराइड लेवल
  • 'गुड' कोलेस्ट्रॉल का लो लेवल
  • हाइपरटेंशन, और हाई फास्टिंग ब्‍लड शुगर।
  • मेटाबॉलिक सिंड्रोम का प्रसार पुरुषों में 29 प्रतिशत और महिलाओं में 24.5 प्रतिशत था।

लेखकों का सुझाव है कि कोरिया में मेटाबॉलिक सिंड्रोम का प्रसार अधिक होता है, इसलिए नींद का समय जैसे संशोधित जोखिम कारकों की पहचान करना महत्वपूर्ण है। ये अध्ययन पत्रिका बीएमसी पब्लिक हेल्थ का है।

Recommended Video