Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    टॉयलेट करने के नियमों के बारे में क्या कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें

    चलिए इस लेख में जानते हैं कि आयुर्वेद, टॉयलेट के नियमों के बारे में क्या-क्या सुझाव देता है और क्या गलतियां नहीं करना चाहिए। 
    author-profile
    Published -27 Sep 2021, 11:09 ISTUpdated -27 Sep 2021, 11:33 IST
    Next
    Article
    toilet rules as per ayurveda tips

    अच्छा! अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि सुबह उठते ही सबसे पहले आप क्या करते हैं, तो फिर आपका जवाब क्या हो सकता है? शायद, आप बिना अधिक समय लिए ये ज़रूर बोले कि सबसे पहले बाथरूम, फिर ब्रश और नहाने के बाद अन्य काम। लेकिन, अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि आयुर्वेद में भी टॉयलेट को लेकर भी कुछ नियम है, तो फिर आपका जवाब क्या हो सकता है? खैर, सवाल-जवाब को पूर्ण विराम देते हैं। आयुर्वेद के अनुसार सुबह की दिनचर्या में कुछ आदतों को हमेशा शामिल रखना चाहिए और कुछ गलतियां करने से हमेशा बचना चाहिए। जी हां, टॉयलेट के नियमों में आयुर्वेद की डॉक्टर रेखा राधामोनी कुछ विशेष जानकारी बताने जा रही हैं, तो आइए जानते हैं।

    सुबह में टॉयलेट जाने का सही समय?

    toilet rules as per ayurveda inside

    लगभग ये सभी लोग जानते हैं कि सुबह-सुबह बेड से उठते ही सबसे पहले टॉयलेट जाने के बाद ही चाय का सेवन आदि कामों को करना चाहिए। लेकिन, सुबह-सुबह भी कब टॉयलेट जाना चाहिए ये बहुत कम लोग ही जानते हैं। ऐसे में डॉक्टर रेखा राधामोनी के अनुसार टॉयलेट जाने का उचित समय सूर्योदय से पहले का होना चाहिए। इससे भविष्य में हेल्थ दुरुस्त रहता रह सकता है और टॉयलेट की किसी भी परेशानी से बचा भी जा सकता है।

    इसे भी पढ़ें: गट हेल्थ का ख्याल रखने के लिए एक्सपर्ट के बताए यह टिप्स अपनाएं

    इंडियन या वेस्टर्न टॉयलेट?

    toilet rules as per ayurveda inside

    आज के समय में लगभग हर कोई वेस्टर्न टॉयलेट को बाथरूम में लगाना पसंद करता है लेकिन, डॉक्टर रेखा राधामोनी के अनुसार वेस्टर्न बाथरूम के मुकाबले इंडियन टॉयलेट सबसे बेहतरीन है। इंडियन टॉयलेट के इस्तेमाल से बाथरूम अच्छे से होती है। इसके अलावा पेट और पैर की समस्या से बचने के लिए भी इंडियन टॉयलेट का इस्तेमाल करना फायदेमंद साबित हो सकता है। (घंटों टॉयलेट बाद पेट साफ नहीं हो रहा है आजमाएं ये नुस्‍खे)

    Recommended Video

    टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल? 

    toilet rules as per ayurveda inside

    आजकल लगभग हर बड़े ऑफिस और घर में टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल होता है लेकिन, आयुर्वेद के अनुसार टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। इससे mucosal tissue यानि श्लेष्मल झिल्ली को नुकसान पहुंचने का डर रहता है। ऐसे में डॉक्टर रेखा राधामोनी के अनुसार टॉयलेट पेपर की जगह पानी का इस्तेमाल करना फायदेमंद साबित हो सकता है।

    इसे भी पढ़ें: सुबह जल्दी उठने में होती है परेशानी तो ये 5 तरीके कर सकते हैं आपकी मुश्किल को आसान

    इन बातों का भी रखें ध्यान 

     toilet rules as per ayurveda inside

    ऐसे बहुत से लोग है, जो गर्म पानी या फिर चाय पीने के बाद ही टॉयलेट जाना पसंद करते हैं। ऐसे में रेखा राधामोनी के अनुसार का कहना है कि इस आदत को एक दिन के लिए नहीं बल्कि हमेशा के लिए फॉलो करना चाहिए। इसके अलावा कई आयुर्वेद जानकार का यह भी मानना है कि सुबह में मल त्याग करने के बाद नहाने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करना चाहिए। सुबह में फ्रेश होने के बाद एक्सरसाइज करना भी सही माना जाता है।

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

    Image Credit:(@images.folksy.com,cdn.xsd.cz)

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।