हमारा शरीर किसी भी तरह की बीमारी के शुरू होने से पहले हमें कुछ संकेत देता है जो ये बताते हैं कि कहीं कोई बीमारी तो शुरू नहीं हो रही है। दरअसल, कई बार हम गंभीर लक्षणों को भी नजरअंदाज़ कर देते हैं और ये सोचते हैं कि ये लक्षण आम हैं। पर हमें ये ध्यान रखना चाहिए कि शरीर के बहुत जरूरी अंग जैसे दिल, किडनी, लिवर आदि हमें बीमारी से पहले कुछ न कुछ संकेत जरूर देते हैं। 

कुछ समय पहले हमनें आपको दिल की बीमारी के संकेतों के बारे में बताया था और अब हम आपको दिल की बीमारी के कुछ संकेतों के बारे में बताने जा रहे हैं। हमने इसके लिए फिटनेस कोच, मिनिस्ट्री ऑफ आयुष में योगा इंस्ट्रक्टर, न्यूट्रिशनिस्ट और योगाप्लानेट न्यूट्रिनेचुरल्स की फाउंडर ज्योति गर्ग से बात की उनके अनुसार दिल की बीमारी शुरू होने से पहले हमारा शरीर हमें कई तरह के लक्षण दिखाता है। 

heart disease symptoms

1. इनडायजेशन या पेट का दर्द-

कई बार अचानक इनडायजेशन या पेट का दर्द शुरू होता है और ये लगातार बना रहता है। ऐसा भी हो सकता है कि किसी-किसी दिन एक-दो बार आपका पेट खराब रहे, लेकिन ये भी हो सकता है कि लगातार कई दिनों तक ये समस्या बनी रहे जबकि आपकी डाइट आदि में कोई बदलाव न आया हो। अगर ऐसा कुछ हुआ है तो आपको ये ध्यान रखना होगा कि आप डॉक्टर से चेकअप जरूर करवा लें। महिलाओं में ये समस्या पुरुषों की तुलना में ज्यादा होती है। ये लक्षण उन्हें पहले दिखता है।

indigestion heart

इसे जरूर पढ़ें-  शुरू हो रही है लिवर की बीमारी तो आपका शरीर आपको देता है ये संकेत

2. बार-बार चक्कर आना-

आपको ऐसा अगर बार-बार लग रहा है कि आपको चक्कर आ रहा है। माइंड कंट्रोल नहीं है और बार-बार ये लगे कि आप बस अब बेहोश हो जाएंगे तो ये चिंता का विषय है और दिल की बीमारी का एक लक्षण भी। कुछ मामलों में ये नर्वस सिस्टम की खराबी या बैकबोन या ब्रेन क्लॉटिंग को भी दर्शाता है, लेकिन अगर दिल की बीमारी शुरू होने वाली है तो उसका एक लक्षण ये हो सकता है। चाहें कोई भी कारण हो ये बिलकुल सही नहीं होता और इसे इग्नोर करना सेहत के साथ खेलने जैसा है। अगर आपको ऐसा कोई लक्षण दिख रहा है तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें। 

ध्यान रहे कि एक आध बार चक्कर किसी खाने-पीने की समस्या के कारण हो रहा है या बीपी की वजह से हो, लेकिन अगर ये लगातार बना हुआ है तो चिंता का विषय है।  

dizziness heart

3. बहुत ज्यादा थकान बनी रहना- 

अगला लक्षण थकान का होता है। थकान ऐसी नहीं कि बहुत काम कर लिया तो थक गए बल्कि थकान ऐसी की आप ये भी न समझ पाएं कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। दिन भर का काम करना भी मुश्किल रहे और ज़रा सा उठने-बैठने पर आप हांफने लगें। ऐसे में आपका दिल आपको इशारा कर रहा है कि अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दें और डॉक्टर से संपर्क करें।  

fatigue heart

4. अचानक खर्राटे लेकर सोना- 

कई बार लोगों को साइनस की वजह से या फिर नाक के आकार की वजह से खर्राटे आते हैं, लेकिन अगर आपको इनमें से कोई समस्या नहीं है और अचानक खर्राटे शुरू हो गए हैं तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें।  

जब हम खर्राटे लेते हैं तो हमारी सांस स्टॉप हो जाती है और अगर आपके खर्राटे अचानक शुरू हुए हैं तो डॉक्टर की सलाह लें।  

5. पैर, एड़ियों और तलवों का सूझ जाना- 

पैरों में लगातार सूजन का बना रहना किडनी और दिल दोनों की बीमारी का संकेत माना जा सकता है। जब हमारा दिल अच्छे से ब्लड पंप नहीं कर पाता है तो इन अंगों तक सही तरह से खून भी नहीं पहुंच पाता है। ऐसे में सूजा-सूजा महसूस होता है और आपके पैरों के तलवों और एड़ियों, पैरों और तलवों पर ब्लोटिंग होने लगती है। ऐसे में अगर आपको लगता है कि पैरों में लगातार सूजन बनी हुई है तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।  

swollen feet heart

इसे जरूर पढ़ें- सोते या आराम करते समय घटाएं वजन, एक्सपर्ट के ये टिप्स आएंगे काम 

6. दिल की धड़कन और पल्स रेट का बढ़ना और गिरना- 

आपके दिल की धड़कन आपको ये बता सकती है कि दिल की बीमारी शुरू हो रही है या नहीं। पल्स रेट का अचानक बढ़ना, गिरना ये भी इस बात का अंदेशा दे सकता है। आपको अचानक घबराहट होना और दिल का तेज़ी से धड़कना। अगर किसी चीज़ से डर गए हैं, बहुत ज्यादा दौड़ लिए हों, बहुत एक्साइटेड हों तो ये नॉर्मल है, लेकिन अगर आप सामान्यत: जैसे बैठते हैं वैसे बैठे हैं और अचानक घबराहट, पसीना और दिल की धड़कन का असमान्य हो जाना दिखता है तो ये लक्षण सही नहीं है। 

unusual heart beat

कुछ अन्य लक्षण- 

इनके अलावा दिल की बीमारी के कुछ अन्य लक्षण भी दिखते हैं जैसे- 

  • सीने में दर्द
  • बार-बार सांस फूलना
  • बार-बार हाथ या पैर का सुन्न हो जाना या वीक हो जाना 
  • लेफ्ट आर्म में दर्द और उसका सुन्न होना
  • अपर एब्डॉमिन या बैक में दर्द होना 

ऐसा कोई भी असामान्य लक्षण अगर आपको दिख रहा है तो बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से सलाह लेने में देरी न करें। ध्यान रखें कि कभी-कभी कुछ खाने-पीने, दौड़ने-भागने, डरने या फिर बीपी के ऊपर-नीचे होने की वजह से भी ऐसे लक्षण होते हैं, लेकिन आपको अगर ऐसे लक्षण लगातार बने हुए हैं तो डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।