दिवाली के बाद पॉल्‍यूशन खतरनाक स्‍तर तक पहुंच चुका है। आसमान में स्‍मॉग की एक परत बन गई है। जिससे लोगों को आंखों में जलन और घुटन से सांस के मरीजों की सांसें उखड़ने जैसी परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं। जी हां हर किसी ने दिवाली का त्‍योहार धूमधाम से मनाया गया। लेकिन मना करने के बावजूद भी लोगों ने खूब आतिशबाजी की। आतिशबाजी के बाद एयर पॉल्‍यूशन में एकाएक बहुत ज्‍यादा बढ़ गया। दिवाली के अगले दिन सुबह उठकर देखा तो आसमान में स्‍मॉग की एक परत बन गई थीं। 

जी हां दिवाली के बाद एयर पॉल्‍यूशन में हुए इजाफे के साथ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के हॉस्पिटल में मरीजों की संख्या बढ़ गई है। हॉस्पिटल पहुंचने वाले मरीजों में अधिकतर सांस की तकलीफ और आंखों की समस्याओं से घिरे लोग शामिल हैं। हवा की स्‍पीड में कमी के कारण दिवाली के बाद दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) तेजी से बिगड़ गया।

इसे जरूर पढ़ें: नए साल में बीमारियों से रहना है दूर, तो ये पौधे घर में जरूर लगाएं

effects of air pollution on human health

एक्‍सपर्ट की राय

श्री बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट में सीनियर कंसल्टेंट अरविंद अग्रवाल ने आईएएनएस को बताया, ''दिवाली के बाद दिल्ली में स्मॉग खासकर बच्चों में बहुत सारी चिकित्सा समस्याएं लेकर आता है। हमारे हॉस्पिटल में सांस और आंखों की समस्याओं वाले लोगों की संख्या और ओपीडी में 20-22 प्रतिशत की वृद्धि देखी है। इसलिए इस समय रोगियों, बुजुर्गों और बच्चों को घर के अंदर रहने की कोशिश करनी चाहिए।''

एयर पॉल्‍यूशन से होने वाली समस्‍याएं

  • आंखों और गले में जलन
  • ड्राई स्किन
  • त्वचा की एलर्जी
  • पुरानी खांसी 
  • सांस लेने में परेशानी आदि
  • तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें

धर्मशिला नारायण सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल में पल्मोनोलॉजी कंसल्टेंट नवनीत सूद के अनुसार, जब भी लोगों को सांस लेने में तकलीफ, बेचैनी, लगातार सिरदर्द और आंखों में लालिमा जैसे लक्षणों का अनुभव हो तो उन्हें तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। 

air pollution public health

नवनीत सूद का कहना है कि, ''दिवाली के बाद पहले दिन आने वाले मामले निश्चित रूप से पिछले वर्षों की तुलना में कम थे, लेकिन वे नॉर्मल ओपीडी के मुकाबले 25 प्रतिशत अधिक रहे।''

इसे जरूर पढ़ें: एयर पोल्यूशन से सांस लेने में दिक्कत के साथ आपकी त्‍वचा भी होती है खराब

बचाव के उपाय

  • चेहरे को अच्छी गुणवत्ता के मास्क से ढकें। 
  • घर के बाहर वॉक और एक्‍सरसाइज करने से बचें, इसकी जगह घर के अंदर ही एक्‍सरसाइज करें। 
  • इम्‍यूनिटी को स्‍ट्रॉग बनाने के लिए अदरक और तुलसी की चाय पीएं। 
  • अपने घर में एलोवेरा, लिली, स्नेक प्लांट, पाइन प्लांट (देवदार का पौधा) मनी प्लांट, अरीका पाम जैसे प्‍लांट लगाए। यह पौधे घर सकी हवा को शुद्ध करने में हेल्‍प करते हैं।
  • अपनी डाइट में विटामिन सी, ओमेगा 3 और मैग्नीशियम, हल्दी, गुड़, अखरोट आदि का सेवन करें। 
 Source: IANS