जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे उनका वजन बढ़ने लगता है। जी हां मेरे पड़ोस में रहने वाली शीला की जैसे-जैसे उम्र बढ़ रही है उसका वजन भी बढ़ता जा रहा है। वह अपने बढ़ते वजन से बहुत परेशान हैं लेकिन अब तक नहीं समझ पाई कि उसके साथ ऐसा क्यों हो रहा है। शीला की तरह बहुत सी महिलाएं अपनी बढ़ती उम्र के साथ बढ़ते वजन से परेशान रहती हैं। अगर आप भी शीला की तरह बढ़ती उम्र के साथ बढ़ते वजन से परेशान हैं और इसका कारण जानना चाहती हैं तो यह आर्टिकल जरूर पढ़ें।
 
हालांकि महिलाओं का प्रेग्‍नेंसी के दौरान वजन बढ़ता है और बढ़ना भी चाहिए। लेकिन प्रेग्‍नेंसी के दौरान एक हेल्‍दी वजन बढ़ना नॉर्मल और जरूरी है, लेकिन अनेक महिलाएं अतिरिक्त पाउंड बढ़ा लेती हैं। डिलीवरी के बाद इस अतिरिक्त वजन को कम करना एक संघर्ष बन जाता है, क्योंकि शिशु की केयर महिलाओं के लिए सबसे बड़ी प्राथमिकता बन जाती है। इसका परिणाम यह होता है कि महिलाओं के लिए अपने फिटनेस की ओर ध्यान देने का समय ही नहीं बचता है। इसके अलावा जैसे ही एक महिला की उम्र बढ़ती है, तो उनमें नैचुरल रूप से होने वाले हार्मोनल बदलावों के कारण महिला को वजन घटाना बेहद मुश्किल लगता है। 40 की उम्र के बाद महिलाओं में वजन बढ़ने की प्रवृर्ति होती है या महिला एक हेल्दी वजन को बनाए रखने में खुद को असहाय समझती है। आइए जानें कि उम्र के साथ-साथ महिलाओं का वजन क्‍यों बढ़ना लगता है।

divyanka tripathi health inside
Image Courtesy: Instagram (@divyankatripathidahiya)

फिजिकली एक्टिविटी से बचना

जैसे ही महिला की उम्र बढ़ती हैं, उनका फिजिकली एक्टिव लाइफ गायब होती जाती है। बढ़ती उम्र अपने साथ-साथ जीवन के अनेक तनाव और दबाव लाती है। अपने घर और ऑफिस को एक साथ संभालते हुए महिला के पास अपने लिए एक फिटनेस प्रोग्राम को अपनाने का समय नहीं मिल पाता है। ऑफिस में लंबा समय बीत जाता है और अक्सर काम भी बैठ कर किया जाता है, जिससे कि वजन और भी बढ़ जाता है।

Read more: पीरियड्स के टाइम वजन बढ़ने की हैं ये 4 बड़ी वजह

स्‍ट्रेस का हाई लेवल

एक महिला की लाइफ में उम्र बढ़ने के साथ-साथ परिवार और ऑफिस के प्रति उसकी जिम्मेदारी और कर्तव्य भी बढ़ जाते हैं। इससे स्‍टेस का लेवल भी और अधिक बढ़ जाता है। ज्‍यादा स्‍ट्रेस से बॉडी में हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिससे कि इमोशनल लेवल के साथ-साथ वजन भी बढ़ता है।

divyanka tripathi health inside
Image Courtesy: Instagram (@divyankatripathidahiya)

अधिक कैलोरी लेना

जैसे ही उम्र बढ़ती है, शरीर कैलोरी का इस्‍तेमाल अलग तरीके से करता है। लेकिन नॉर्मली देखा गया है कि बहुत सालों बाद भी महिलाएं पहले जैसी ही डाइट लेती रहती हैं। जब कि एक उम्र के बाद पहले जैसी कैलोरी लेना ठीक नहीं है। जी हां अगर हम उम्र के साथ साथ अपने डाइट में तब्दीली नहीं लाती है, तो एक्‍सट्रा कैलोरी वजन बढाने में सहायक होगी।

Read more: उम्र हो चुकी हैं 40 के पार और बढ़ते वजन से हैं परेशान तो अपनाइए ये 5 टिप्‍स

मेटाबोलिज्म लेवल कम होना 

जैसे ही किसी की उम्र बढ़ती है, मूलभूत मेटाबोलिक लेवल नीचे गिर जाता है। उम्र बढ़़ने के साथ कैलोरी पहले की तरह नष्ट नहीं होती है, इसीलिए वजन बढता है।

हार्मोंन का असंतुलन

हर महिला अपने जीवनकाल में अनेकों बार हार्मोनल बदलाव से गुजरती है, विशेषकर मेनोपॉज के दौरान महिला का वजन एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेजॉन के असंतुलन के कारण बढ़ जाता है। जी हां एस्ट्रोजन का निर्माण प्रोजेस्टेरॉन के साथ बैलेंस नहीं बिठा पाता है और परिणामस्वरूप वजन बढ़ जाता हैं। तथा थायरॉयड ग्रंथि असामान्य तरीके से काम करने लगती है, जिससे कि फूला हुआ महसूस होता है और तरल पदार्थ का संचय किया जाता है।

divyanka tripathi health inside
Image Courtesy: Instagram (@divyankatripathidahiya)

फैट फ्री टिश्‍युओं कम होना

उम्र बढ़ने के साथ-साथ मसल्‍स के टिश्‍यु खत्‍म होने लगते है (जिनमें मसल्‍स और हड्डियां शामिल होती हैं) और जब एक महिला एक्‍सरसाइज करना बंद कर देती है, तो और अधिक मात्रा में फैट फ्री टिश्‍यु का नाश होता है। इसमें वह फैट शामिल नहीं है, जो महिला को थुलथुला बनाती है।
अब तो आपको समझ में आ ही गया होगा कि उम्र बढ़ने के साथ क्‍यों बढ़ने लगता है महिलाओं का वजन।

  • Pooja Sinha
  • Her Zindagi Editorial