मानसून का सीजन कई मायनों में खास होता है। ये हमें तपती धूप से थोड़ा छुटकारा दिलाता है और साथ ही साथ मौसम को खुशगवार बनाता है, लेकिन मानसून के साथ ही आती हैं इस सीजन से जुड़ी कई सारी बीमारियां। अगर देखा जाए तो मानसून की बीमारियां हमें बहुत परेशान कर सकती हैं और कोरोना वायरस के दौर में तो ये और भी ज्यादा खतरनाक साबित हो सकती हैं। 

कॉमन कोल्ड जिसे फ्लू भी कहा जाता है वो मानसून में सबसे ज्यादा होता है और इतना ही नहीं डायरिया, पीलिया, हेपिटाइटिस A, टाइफाइड, मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, इन्फ्लूएंजा आदि रोग इस सीजन में बहुतायत में होते हैं। इनके कारण पेट और हाइजीन से जुड़ी समस्याएं यहां सबसे ज्यादा होती हैं। 

ऐसे में हमने डायटीशियन और होलिस्टिक न्यूट्रिशनिस्ट और डाइट पोडियम की फाउंडर शिखा महाजन से बात की और ये जानने की कोशिश की कि आखिर कैसे मानसून की बीमारियों को कम किया जा सकता है। शिखा जी ने हमें कई तरह की बातें बताईं जो कॉमन कोल्ड जैसी समस्याओं को बहुत आसानी से आपसे दूर रख सकती हैं। 

monsoon and disease prevention

इसे जरूर पढ़ें- कैसा दूध पीना आपके लिए होगा बेहतर? एक्सपर्ट से जानें किस बीमारी के लिए सही है कैसा दूध

सबसे पहले तो ये जानना जरूरी है कि इस तरह की बीमारी में अगर घर का एक इंसान बीमार होता है तो पूरा घर बीमार हो सकता है। इससे पहले हमने आपको मानसून से जुड़ी पेट की बीमारियों के हल के बारे में बताया था और अब कामन फ्लू यानी सर्दी, खांसी और बुखार पर ही फोकस कर रहे हैं। जानिए शिखा महाजन द्वारा बताई गईं बातें-

1. हाइजीन का ख्याल जरूर रखना है-

शिखा जी के मुताबिक सबसे बड़ी समस्या हाइजीन के कारण होती है। वायरल बीमारियां हाइजीन के कारण ही शुरू होती हैं और मानसून में ये काफी बढ़ जाती हैं। अगर आप मानसून के समय सही तरह से हाइजीन मेनटेन कर रहे हैं तो वायरल बीमारियां काफी कम हो जाएंगी। 

  • जिस तरह कोरोना के लिए हाइजीन मेनटेन की जा रही है वो जारी रखें। खांसने, छींकने, पेट्स को घुमाने, गार्डनिंग करने या बाथरूम जाने के बाद भी हाथ धोएं। 
  • अगर कहीं चोट लग गई है तो उस जगह को डिसइन्फेक्ट करने के बाद कवर कर दें। मेडिकल बैंडेज का ही इस्तेमाल करें। उसे बार-बार छूने से वायरल इन्फेक्शन हो सकता है। 
  • बाहर से आने के बाद हाथों का धोना बहुत जरूरी है, साथ ही आप बाहर जाते समय भी अपने साथ एंटीबैक्टीरियल वाइप्स ले जा सकते हैं। 
  • अगर घर के आस-पास पानी इकट्ठा हो रहा है तो उसे साफ करवाएं।  
monsoon and hygines

2. मानसून में ऐसा खाना खाएं-  

जरूरत से ज्यादा बाहर का खाना अवॉइड करें। अनहाइजीनिक जगह का खाना न खाएं। मानसून सीजन में वायरल फैलने का खतरा बहुत बढ़ जाता है।  

  • घर का खाना खाएं।
  • ज्यादा देर तक रखा पानी न पिएं और सीधे फ्रिज का पानी पीने की जगह उसे मिक्स करने की कोशिश करें। 
  • खाना, फल, सब्जियां कुछ भी खुले में ऐसे ही न छोड़ें। 
  • कच्चे खाने के साथ पका हुआ खाना न छोड़ें।
  • आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए विटामिन-सी युक्त सिट्रस फ्रूट्स ज्यादा बेहतर साबित हो सकते हैं। इसलिए इन्हें अपनी डाइट में जरूर शामिल करें।  
monsoon fever

3.  मानसून में इस तरह से पिएं पानी- 

मानसून सीजन में टेम्प्रेचर थोड़ा कम हो जाता है और उसके बाद कई लोग पानी पीना कम कर देते हैं, लेकिन इसके कारण वो डिहाइड्रेशन का शिकार भी हो सकते हैं। ऐसे में आप ये काम जरूर करें- 

  • सिप-सिप कर पूरे दिन पानी पीते रहें। 
  • अपने पानी में खीरा, पुदीना आदि डाल सकते हैं जिससे हाइड्रेशन बेहतर हो। याद रहे कि पीने के पानी को एक बोतल में निकाल कर उसमें ये सारी चीज़ें अच्छी तरह से साफ करने के बाद ही डालें। 
  • नींबू पानी और नारियल पानी आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है, लेकिन उन्हें ज्यादा शाम को पीने से बचें क्योंकि इनकी तासीर ठंडी होती है।  

4. नींद से न करें कॉम्प्रोमाइज- 

नींद न लेना कई लोगों की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक होता है। ये बीमारी का कारण भी बन सकता है। हेल्दी इम्यून सिस्टम के लिए 7-8 घंटे की नींद जरूरी होती है।  

  • जब हम सोते हैं तो शरीर से cytokines नाम का प्रोटीन रिलीज होता है जो शरीर को कई तरह के इन्फेक्शन्स से लड़ने में मदद करता है। 
  • हमारे इम्यून सिस्टम के ठीक काम करने के लिए नींद बहुत जरूरी है और इसे नज़रअंदाज़ न करें।  

इसे जरूर पढ़ें- दिल से जुड़ी 10 Common समस्याओं का हल एक्सपर्ट से जानें 

5. कच्चे और पके हुए खाने का ध्यान रखें- 

ये टिप वैसे तो हाइजीन की है, लेकिन इसे हम कई बार भूल जाते हैं। आजकल कच्चे खाने का महत्व बढ़ता जा रहा है और लोगों को लगता है कि जो भी कच्चा और कम प्रोसेस्ड है वो अच्छा है, लेकिन यहां अपनी विवेकशीलता का ध्यान भी रखना चाहिए।  

  • फल, सब्जियां आदि जो डस्ट, मिट्टी और जर्म्स के संपर्क में आते हैं वो ज्यादा हानिकारक होते हैं। 
  • खाने को स्टोर करते समय पके हुए खाने को अलग और कच्चे को अलग स्टोर करें। 
  • अगर एक ही फ्रिज में सब रखना है तो आप अलग-अलग रैक में रखने की कोशिश करें और पके हुए खाने को हमेशा कवर करके रखें। 
  • मीट, मछली या मांसाहार कुछ भी अगर कच्चा स्टोर किया जा रहा है तो ध्यान रहे कि इसमें सबसे ज्यादा जर्म्स होते हैं इसलिए इन्हें अलग से ही स्टोर करें।  

6. बीमारियों से बचने के लिए ये टिप्स जरूर आजमाएं- 

  • इम्यूनिटी को बढ़ाने वाले फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करें। 
  • सूप इस सीजन में आपकी इम्यूनिटी बढ़ा सकते हैं, घर के बने सूप पिएं।
  • ड्राई फ्रूट्स और नट्स को अपनी डाइट में शामिल करें। 
  • बारिश में भीगना बहुत पसंद है तो भी इस समय इससे बचें। वायरल लोड बढ़ाने का काम ये कर सकता है। 
  • अगर आप बारिश में भीग भी गए हैं तो घर आकर एक बार और शावर लें और फिर खुद को पूरी तरह से सुखाकर ही सोएं।  

ये सारे टिप्स आपके बहुत काम आ सकते हैं और ध्यान रहे कि आप जितना हो सके इन बीमारियों से बचने की कोशिश करें क्योंकि बचाव हमेशा इलाज से बेहतर होता है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।