प्रेग्‍नेंसी के दौरान खाने का एक हेल्‍दी पैटर्न होना बेहद जरूरी होता है। अच्छा पोषण मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और प्रेग्‍नेंसी के दौरान पोषण को आमतौर पर बढ़ाने की आवश्यकता होती है। फीटस की ग्रोथ के लिए प्रेग्‍नेंसी के दौरान अतिरिक्त पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है और साथ ही मैटरनल टिशू के विकास के लिए जो फीटस की ग्रोथ का समर्थन करते हैं।

हेल्‍दी डाइट में सीमित मात्रा में डेयरी फूड्स और प्रोटीन युक्त फूड्स जैसे लीन मीट, मछली, अंडे और दालें (बीन्स और दाल), और सीमित मात्रा में फैट या चीनी से भरपूर फूड्स शामिल हैं। भ्रूण, प्लेसेंटा, यूट्रस और स्तनों की वृद्धि और रीमॉडेलिंग और मैटरनल ब्‍लड की मात्रा में वृद्धि की मांगों को पूरा करने के लिए प्रेग्‍नेंसी के दौरान प्रोटीन की आवश्यकताएं बढ़ती हैं।

प्रोटीन के स्रोत

प्रोटीन स्रोत एनिमल और प्‍लांट दोनों में पाया जा सकता है। इन दोनों स्रोतों में से कुछ डाइट विकल्प नीचे दिए गए हैं:

एनिमल स्रोत:

  • मीट, दूध, अंडे, पनीर, मछली। इन प्रोटीनों में सभी EAA (आवश्यक अमीनो एसिड) पर्याप्त मात्रा में होते हैं जो कि इष्टतम स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं।
  • अंडा प्रोटीन अपने हाई बायोलॉजिकल मूल्य और पाचनशक्ति के कारण फूड प्रोटीन के बीच सबसे अच्छा माना जाता है।

वेजिटेबल स्रोत:

  • दालें, फलियां, अनाज, बीन्स, नट्स, तिलहन।
  • ईएए के संदर्भ में ये सबसे अच्छा नहीं हो सकता है, हालांकि, विकासशील देशों में अनाज और दालें आहार प्रोटीन के मुख्य स्रोत हैं क्योंकि वे सस्ते, आसानी से उपलब्ध हैं और इसकी खपत थोक में होती हैं।
nutrition during pregnancy inside

प्रोटीन के लिए अनुशंसित (आरडीए) आहार

डीआरआई (आहार संदर्भ सेवन) शरीर के वजन के अनुसार प्रति किलोग्राम 0.8 ग्राम प्रोटीन, या 0.36 ग्राम प्रति पाउंड है। यह राशि:

  • गतिहीन आदमी के लिए प्रति दिन 56 ग्राम
  • औसत गतिहीन महिला के लिए प्रति दिन 46 ग्राम

हालांकि प्रोटीन की आवश्‍यकता प्रेग्‍नेंट महिला या हाल ही में बच्‍चे को जन्म देने वाली महिला में अधिक होती है और इसके लिए आरडीए दिशानिर्देश नीचे दिए गए हैं:

  • गतिहीन महिला: प्रति दिन 55 ग्राम प्रोटीन
  • गर्भवती महिला: प्रति दिन 78 ग्राम प्रोटीन
  • ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिला (0-6 महीने): प्रति दिन 74 ग्राम प्रोटीन
  • ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिला (6-12 महीने): प्रति दिन 68 ग्राम प्रोटीन

प्रेग्‍नेंट महिलाओं के लिए प्रोटीन सेवन के लिए अनुशंसित आरडीए दिशानिर्देशों को प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार के भोजन को आहार में शामिल किया जा सकता है। जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, प्रोटीन एनिमल और वेजिटेबल दोनों स्रोतों में पाया जा सकता है। नीचे विभिन्न फूड्स में प्रोटीन की मात्रा पाई गई है:

एमिनल फूड्स:

  • दूध (फुल क्रीम 100 मिली): 3.2-3.5 ग्राम
  • मीट- 26 ग्राम
  • अंडे (एक बड़ा अंडा): 6-7 ग्राम (3 ग्राम जर्दी, 4 ग्राम सफेद)
  • मछली: 23 - 26

प्‍लांट और अन्य फूड्स:

  • अनाज: 6-13
  • दालें : 21-28
  • सब्जियां: 1-4
  • फल: 1-3
  • नट्स: 4.5- 29
  • सोयाबीन: 43.2

नट्स प्रोटीन से भरपूर होते है और भोजन के बीच आप स्‍नैक्‍स के रूप में खा सकती हैं और यह प्रोटीन के सेवन के लिए एक बहुत अच्छा आहार विकल्प हो सकता है। विभिन्न प्रकार के नट्स में 28 ग्राम प्रोटीन की मात्रा नीचे दी गई है:

  • बादाम (छोटी मुट्ठी): 6 ग्राम
  • पिस्ता (छोटी मुट्ठी): 6 ग्राम
  • अखरोट (मुट्ठी): 4 ग्राम
  • काजू (छोटी मुट्ठी): 5 ग्राम
  • मूंगफली (मुट्ठी भर): 4 ग्राम
 

Recommended Video

फैट के लिए अनुशंसित आहार (आरडीए)

फैट हाई एनर्जी फूड्स हैं जो फैट के प्रति ग्राम 9 किलो कैलोरी सेवारत हैं। प्रेग्‍नेंट महिलाओं और प्रेग्‍नेंसी की योजना बनाने वाली महिलाओं को आवश्यक फैटी एसिड के पर्याप्त आहार सेवन की आवश्यकता होती है। फैट के लिए अनुशंसित आरडीए नीचे दिया गया है:

  • गतिहीन महिला: प्रति दिन 20 ग्राम प्रोटीन
  • प्रेग्‍नेंट महिला: प्रति दिन 30 ग्राम प्रोटीन
  • बेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिला (0-6 महीने): प्रति दिन 30 ग्राम प्रोटीन
  • बेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिला (6-12 महीने): प्रति दिन 30 ग्राम प्रोटीन

कार्बोहाइड्रेट

प्रोटीन और फैट के अलावा, कुछ गैर-आवश्यक अमीनो एसिड के संश्लेषण के लिए शरीर को कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता होती है और यह एनर्जी का एक प्रमुख स्रोत है। सेल्युलोज, जो कार्बोहाइड्रेट का एक रूप है आहार फाइबर में योगदान देता है जो पानी के पर्याप्त सेवन के साथ मल त्याग को विनियमित करने में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान डाइट को कैसे बनाएं न्यूट्रिशन से भरपूर, एक्सपर्ट से जानिए

निष्कर्ष

मां बनने वाली महिलाओं के लिए भोजन बच्चे के पोषण का मुख्य स्रोत है, इसलिए पोषक तत्वों से भरपूर फूड्स का सेवन करना महत्वपूर्ण होता है। उचित पोषण से बच्चे की ग्रोथ को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। इसलिए प्रेग्‍नेंसी के दौरान मैटरनल डाइट होने वाले शिशु और डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करती है।

एक्‍सपर्ट की सलाह के लिए डॉक्‍टर अतुल गनात्रा (एमडी, डीजीओ, एफआईसीओजी) का विशेष धन्यवाद। इस तरह के और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।