प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादातर महिलाएं घरेलू तरीके अपनाती हैं क्योंकि इनमें कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते है। वेट लॉस, स्ट्रेच मार्क्स या फिर अन्य तरह की परेशानियों से निपटने के लिए घरेलू तरीका बेस्ट माना जाता है। यही नहीं कई नेचुरल तरीके हैं जिसकी मदद से लेबर पेन समय से पहले शुरू किया जा सकता है। कई बार ऐसा देखा गया है जब महिलाएं निर्धारित समय से दो हफ्ते पहले बच्चे को जन्म दे देती हैं। साथ ही, बच्चा पूरी तरह से हेल्दी भी होता है। हालांकि डॉक्टर्स अक्सर महिलाओं को प्रेग्नेंसी में 39 सप्ताह तक इंतजार करने की सलाह देते हैं। 

कंल्सटेंट ओब्स्ट्रेशियन एंड गायनाकोलीजिस्ट डॉ, शीतल भारद्वाज ने बताया कि ये घरेलू तरीके उन्हीं महिलाओं के लिए है जो हाई रिस्क में नहीं है और नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं। अगर आपके डॉक्टर आपकी प्रेग्नेंसी में किसी भी तरह की कॉम्प्लिकेशन बताते हैं तो इस तरह के घेरलू उपाय बिल्कुल न आजमाएं। हालांकि बहुत से ऐसी महिलाएं हैं जो लेबर पेन शुरू हो इसके लिए आसान तरीके आजमाती है। लेकिन अगर आप डिलीवरी से पहले 40 की हैं तो आप आगे की प्रक्रिया के लिए ऑप्शनल कोर्सेस के लिए जा सकती हैं।

योगा या फिर नॉर्मल एक्सरसाइज

yoga and excersice

प्रेग्नेंसी के दौरान डॉक्टर्स भी महिलाओं को नॉर्मल एक्सरसाइज के लिए सलाह देते हैं। लेकिन अगर आपकी प्रेग्नेंसी में कोई कॉम्प्लिकेशन है तो डॉक्टर से इस बारे में जरूर सलाह लें। वहीं नॉर्मल एक्सरसाइज या फिर योगा आपके और आपके होने वाले बच्चे दोनों के लिए अच्छा माना जाता है। यह एक तरीका है जो आपके मन को शांत करेगा और आगे की प्रक्रिया के लिए तैयार रखेगा। 

एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर

डॉक्टर्स के मुताबिक एक्यूपंक्चर हार्मोनल और तंत्रिका तंत्र में बदलाव के लिए ट्रिगर कर सकता है। यह एक ट्रेडिशनल तरीका है जिसे कई बार आजमाया जा चुका है। लेकिन ऐसा करने से पहले एक्यूपंक्चर को एक लाइसेंस प्राप्त डॉक्टर द्वारा देखा जाना चाहिए। साथ ही किसी प्रोफेशनल सुपरविजन की निगरानी में एक्यूप्रेशर के लिए प्रैक्टिस की जानी चाहिए। वहीं अपने आप पर एक्यूप्रेशर लगाने से पहले डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। अगर यह आपके दर्द में तीव्रता नहीं लाता है तो लेबर पेन के दौरान दर्द को कम करने मदद कर सकता है।

खजूर

dates for health

कुछ रिसर्च में बताया गया है कि प्रेग्नेंसी के आखिरी हफ्ते में खजूर खाना चाहिए। यह सेरविकल राइपनिंग और फैलने में मदद करता है जो लेबर पेन के दौरान आवश्यक है। इसके अलावा, खजूर खाने से लेबर पेन के दौरान पिटोसिन की जरूरत भी कम हो सकती है। यह आपको और आपके बच्चे को स्वस्थ और पोषित करेगा। हालांकि अपनी डाइट में शामिल करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

इसे जरूर पढ़ें: Menstrual Hygiene Day: इन 5 ऐप्स से पीरियड्स की तारीख याद रखने के साथ अपनी प्रेग्नेंसी भी प्लान करें

Recommended Video

इंटरकोर्स

फिजिकल इंटरकोर्स लेबर पेन शुरू करने के लिए नेचुरल तरीके में से एक है। सेक्सुअल इंटरकोर्स और ऑर्गेज्म रिलीज करने से ऑक्सीटोसिन निकलता है जो गर्भाशय के संकुचन में मदद करता है। हालांकि ऐसा करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

कैस्टर ऑयल

oil castor

थोड़ा सा कैस्टर ऑयल पीने से लेबर में तीव्रता आ सकती है। कैस्टर ऑयल के फायदे के बारे में बात करें तो यह प्रोस्टाग्लैंडीन छोड़ने में भी मदद करता है, जिससे गर्भाशय ग्रीवा सिकुड़ जाती है और लेबर पेन शुरू हो जाता है। लेकिन यह आपके डॉक्टर की देखरेख में होना चाहिए औऱ ध्यान रहें कि इसे सिर्फ थोड़ा ही पीना है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।