डिसमेनोरिया या मेंस्ट्रुअल क्रैम्प्स निचले पेट के निचले हिस्‍से में होने वाला तेज दर्द या ऐंठन है जो कई लड़कियों को अपने मेंस्ट्रुअल पीरियड्स से पहले या उसके दौरान अनुभव होता है। हालांकि यह आम है लेकिन कुछ लड़कियों के लिए दर्द के कारण होने वाली असुविधा केवल कष्टप्रद होती है जबकि अन्य के लिए मेंस्ट्रुअल क्रैम्प्स हर महीने कुछ दिनों के लिए रोजमर्रा की एक्टिविटी में हस्तक्षेप पैदा करके गंभीर हो सकता है। कई लड़कियों को यह क्रैम्‍प्‍स नियमित रूप से होते हैं लेकिन उम्र के साथ यह आमतौर पर कम दर्दनाक हो जाते हैं और बच्चे के जन्म के बाद पूरी तरह से बंद हो सकते हैं।

डिसमेनोरिया के कुछ लक्षणों में शामिल हैं:

  • पेट और पेट के निचले हिस्‍से में ऐंठन और दर्द जो गंभीर और तीव्र हो सकते हैं।
  • पेट में दबाव महसूस होना।
  • दर्द जो पीठ के निचले हिस्से, थाइज और पैरों तक फैलता है।
  • जब ऐंठन गंभीर होती है तो यह लक्षण शामिल हो सकते हैं-
  • ढीला मल
  • मतली और उल्टी
  • सिरदर्द
  • चक्कर आना
  • दर्द आमतौर पर पीरियड से 1 से 3 दिन पहले शुरू होता है और पीरियड की शुरुआत के 24 घंटे बाद और 2 से 3 दिनों में शांत हो जाता है।
 
  dysmenorrhea health insi

मेंस्ट्रुअल ऐंठन के क्या कारण होते हैं?

मेंस्ट्रुअल पीरियड के दौरान यूट्रस अपने अस्तर को बाहर निकालने में मदद करने के लिए मजबूती से सिकुड़ता है। यह एक हार्मोन जैसे पदार्थ, प्रोस्टाग्लैंडिंस के कारण होता है, जिसके कारण यूट्रस की दीवारें सिकुड़ जाती हैं और फिर अपने अस्तर को छोड़ देती हैं, जिसके परिणामस्वरूप पीरियड होते हैं। अगर प्रोस्टाग्लैंडीन के हाई लेवल के कारण यूट्रस बहुत मजबूती से सिकुड़ता है तो यह पास की रक्त वाहिकाओं के खिलाफ दबाव बनाता है, जिसके परिणामस्वरूप यूट्रस में ब्‍लड का फ्लो  कम हो जाता है जिससे अत्यधिक दर्द होता है। डिसमेनोरिया के साथ बहुत ज्‍यादा ब्‍लीडिंग भी हो सकती है।

डिसमेनोरिया के प्रकार

प्राथमिक डिसमेनोरिया मेंस्ट्रुअल पेन है जो एक अंतर्निहित गायनेकोलॉजिकल डिसऑर्डर का लक्षण नहीं है लेकिन मेंस्ट्रुएशन की सामान्य प्रक्रिया से संबंधित है। प्राथमिक डिसमेनोरिया सबसे आम प्रकार का डिसमेनोरिया है जो 50% से अधिक महिलाओं को प्रभावित करता है और लगभग 10% में काफी गंभीर हो सकता है। टीनएज के बाद और 20 के शुरुआती दशक में प्राथमिक डिसमेनोरिया सबसे आम होता है। सौभाग्य से कई महिलाओं के लिए उम्र के साथ समस्या कम हो जाती है, खासकर बच्चे के जन्म के बाद। हालांकि यह दर्दनाक और कभी-कभी थोड़े समय के लिए दुर्बल हो सकता है लेकिन यह हानिकारक नहीं है।

माध्यमिक डिसमेनोरिया मेंस्ट्रुअल पेन है जो आमतौर पर एंडोमेट्रियोसिस, यूटेरिन फाइब्रॉएड, एडेनोमायोसिस और पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज जैसे गायनेकोलॉजिकल  डिसऑर्डर संबंधी किसी प्रकार का होता है। बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं में माध्यमिक डिसमेनोरिया अधिक होता है।

Recommended Video

डिसमेनोरिया का इलाज

  • अधिकांश लड़कियों के लिए दर्दनाक मेंस्ट्रुअल क्रैम्प्स से राहत पाने के लिए जीवनशैली विकल्प और घरेलू उपचार सहायक हो सकते हैं। इसके लिए कुछ चीजों को किया जा सकता है- 
  • पीठ के निचले हिस्से या पेट पर गर्म पैड या गर्म पानी की बोतल रखें।
  • पीठ के निचले हिस्से और पेट की मालिश करें।
  • गर्म पानी से नहाएं।
  • जरूरत पड़ने पर आराम करें और भरपूर नींद लें।
  • ऐसे फूड्स खाने से बचें जिनमें कैफीन और नमक होता है।
  • स्‍मोकिंग और शराब से बचें।
  • रेगुलर एक्‍सरसाइज करें
  • हल्का और पौष्टिक भोजन लें।
  • अगर आवश्यक हो तो हल्के मेंस्ट्रुअल क्रैम्प्स के लिए दर्द निवारक दवा भी ली जा सकती है।

अगर मेंस्ट्रुअल पेन नियमित रूप से बहुत गंभीर है और रोजाना की एक्टिविटी में बाधा और स्कूल स्किप करने का कारण बनता है तो यह जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करता है और गायनेकोलॉजिस्‍ट से परामर्श किया जा सकता है। डॉक्टर मेडिकल हिस्‍ट्री की समीक्षा करेंगे और एक शारीरिक परीक्षण करेंगे। अगर आवश्यक हो तो अन्य टेस्‍ट को किसी अन्य कंडीशन्‍स को निर्धारित करने की भी सिफारिश करेंगे।

गंभीर मेंस्ट्रुअल क्रैम्प्स के लिए डॉक्टर प्रिसक्रिप्शन पेन रिलिवर्स दे सकते हैं या ओरल कॉट्रासेप्टिव्स की भी सिफारिश कर सकते हैं जो मेंस्ट्रुअल पेन को कम करते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: टीनएजर्स में HIV and AIDS होने के कारण, लक्षण, उपचार और रोकथाम

निष्कर्ष

टीनएज लड़कियों में डिसमेनोरिया एक आम समस्या है, और वह डिसमेनोरिया से जुड़े शारीरिक और भावनात्मक लक्षणों का अनुभव करती हैं। मेंस्ट्रुएशन के दौरान मॉडरेट पेन और कैम्‍प्‍स नेचुरल हैं और हानिकारक नहीं हैं और उम्र के साथ कम होने की संभावना है। हालांकि बहुत ज्‍यादा और गंभीर दर्द जो लगातार होता है और रोजाना की एक्टिविटी में हस्तक्षेप करता है, वह सामान्य नहीं है और किसी एक्‍सपर्ट के परामर्श से स्थिति को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने के लिए कदम उठाए जा सकते हैं।

एक्‍सपर्ट सलाह के लिए डॉक्‍टर डी.किरनमी (एमडी, एफआईसीओजी, सीनियल कंसल्‍टेंट ओबीजी, एसोसिएट प्रोफेसर उस्मानिया मेडिकल कॉलेज हैदराबाद) का विशेष धन्यवाद

References

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/menstrual-cramps/symptoms-causes/syc-20374938

https://www.webmd.com/women/menstrual-cramps#1

https://www.healthline.com/health/painful-menstrual-periods