कोविड-19 पैंडामिक का दौर चल रहा है और हमारे हेल्थ केयर सिस्टम्स बहुत दबाव में काम कर रहे हैं। जहां एक ओर कोरोना के सिम्पटमैटिक और एसिम्टोमैटिक मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है वहीं दूसरी ओर आम बीमारियां भी हैं जिन्हें ध्यान और देखभाल की जरूरत है। हालांकि, प्रेग्नेंट जोड़ों को सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है। उन्हें न सिर्फ प्रेग्नेंसी से जुड़ी आम स्वास्थ्य चिंताएं सता रही हैं बल्कि वो इस बात से भी परेशान हैं कि इस महामारी के बीच बच्चे को सुरक्षित इस दुनिया में कैसे लाएं। जहां वायरस को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाए जा रहे हैं वहीं इससे डिलीवरी के पहले की टेस्टिंग और फैक्टर्स पर असर पड़ रहा है। 

कोविड-19 के लॉकडाउन के दौरान एंटीनेटल केयर 

मैटरनल, प्रजनन, मैटरनल नवजात शिशु और बच्चे के स्वास्थ्य सहित रोग और मत्यु दर कम करने के लिए जरूरी हेल्थ केयर सर्विसेज एक आवश्यक पहलू है। अगर आप प्रीनेटल टेस्टिंग और डिलीवरी के लिए अस्पताल जाएं तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और रिस्पाइरेटर जरूर पहनें। ज्यादातर मेडिकल संस्थानों ने आगंतुकों और अतिरिक्त कर्मियों को परिसर में बैन कर दिया है। जहां एक ओर बच्चे को मां का इन्फेक्शन जन्म के पहले नहीं होगा वहीं जन्म के बाद किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते ही वो वायरस की चपेट में आ सकता है। आपको अपने गायनेकोलॉजिस्ट के संपर्क में रहना चाहिए और खुद को लेटेस्ट हॉस्पिटल और एंटीनल केयर नीतियों से अपडेट रखना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान टेस्टिंग और काउंसलिंग कितना जरूरी है? एक्‍सपर्ट से जानें 

pre natal testing

होने वाली माताओं के लिए दिशा-निर्देश

जहां प्रेग्नेंट महिलाएं आमतौर पर सामान्य व्यक्तियों की तुलना में ज्यादा अतिसंवेदनशील नहीं होती हैं वहीं उन्हें सांस से जुड़े इन्फेक्शन होने का खतरा ज्यादा होता है। ये इन्फेक्शन नाल के जरिए यात्रा करता है या नहीं ये जानकारी नहीं है। हालांकि, ये जरूरी है कि अपने और शिशु दोनों के लिए खुद को एक्सपोजर के खतरे में न डालें। सभी प्रेग्नेंट महिलाओं को घर पर रहना चाहिए, सुरक्षित, शांत और वायरस और वर्तमान परिदृश्य को लेकर चिंता नहीं करनी चाहिए। स्वस्थ और सुरक्षित रहने के कुछ जरूरी दिशा-निर्देश 

- स्वस्थ खाएं, डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें

- घबराएं नहीं

- उन व्यक्तियों से दूर रहें जिनपर वायरस से संक्रमित होने का शक है

- जब जरूरत न हो तो बाहर न जाएं

- सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, घर के उन लोगों से भी जो काम के सिलसिले में बाहर जाते रहते हैं

- किसी अनजानी चीज़ या सतहों को छूने के बाद हाथों को अच्छे से धोएं

- घर पर डिलीवर हुई किसी भी चीज़ को अच्छे से सैनिटाइज करें

- हाथों को बार-बार सैनिटाइज करें/ धोएं

- गंदे हाथों से चेहरे को छूने से बचें

prenatal testing importance

इसे जरूर पढ़ें- प्रेग्‍नेंसी के दौरान यूरिनरी ट्रैक्‍ट इन्फेक्शन क्‍यों होता है? लक्षण और उपचार जानें  

एंटीनेटल केयर (प्रेग्नेंसी के दौरान देखभाल) 

- चेकअप के लिए कम जाएं, जैसा आपके डॉक्टर ने एडवाइस किया हो। ये प्रेग्नेंसी के 12, 20, 28 या 36वें हफ्ते में कम एक्सपोजर के साथ नियमित देखभाल के लिए हो सकता है।

- अगर आपको कफ, बुखार या सांस फूलने की समस्या हो रही है तो इन लक्षणों के खत्म होने के 7 दिन बाद तक रूटीन चेकअप के लिए न जाएं।

- अगर घर के किसी सदस्य को कोविड-19 संक्रमित होने का शक है तो अगले 14 दिनों के लिए रूटीन चेकअप के लिए न जाएं। 

- अधिकतर समस्याएं फोन के जरिए हल की जा सकती हैं स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 

- अपने विटामिन और आयरन सप्लिमेंट्स को लेना न भूलें। बहुत सारे फ्लूएड्स और पोषण वाला खाना खाएं। 

- किसी गैरजरूरी जांच या सोनोग्राफी (यूएसजीस) से बचें। 

- अगर आप कोविड-19 संक्रमित हैं तो सबसे पहले तनाव न लें। किसी कोविड अस्पताल का पता लगाएं और मुमकिन हो तो पहले से उन्हें इसकी जानकारी दे दें ताकि आपको ठीक से देखा जाए। 

- कोविड-19 संक्रमित प्रेग्नेंट महिलाओं को X-Ray और सीटी स्कैन करने की सलाह दी जा सकती है, ये सुनिश्चित करें कि आप जांचों से पहले उचित भ्रूण संरक्षण के बारे में जान लें।  

Recommended Video

अंत में हम यही कहेंगे कि हाइजीन का पालन, उपयुक्त पोषण और स्वस्थ जीवनशैली से ये सुनिश्चित किया जा सकता है कि आपको हेल्थ केयर सेंटर बार-बार जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। एतिहातन जितने उपाय आप करेंगे मां और बच्चे दोनों के लिए नुकसान की संभावना उतनी ही कम होगी।  

डॉक्टर मीना सांत (एमबीबीएस, एमडी, डीएनबी, एमआरसीओजी) को उनकी एक्सपर्ट सलाह के लिए धन्यवाद।  

Reference:

https://www.mohfw.gov.in/pdf/EssentialservicesduringCOVID19updated0411201.pdf

https://theprint.in/india/pregnancy-in-a-pandemic-lockdown-triggers-anxiety-doctors-advise-patience-and-caution/402942/

http://www.samawomenshealth.in/access-to-maternal-health-care-challenges-with-lockdown/

https://www.narayanahealth.org/blog/general-guideline-for-pregnant-women-during-lockdown/

Royal College of Obstetricians & Gynaecologists. Educational and support resources for coronavirus (COVID-19) 2020 [Available from: https://www.rcog.org.uk/en/guidelines-research-services/ coronavir us-covid-19-pregnancy-and-womens-health/educational-and-suppor t-resources-for- coronavirus-covid-19/ accessed 01 June 2020.