यूरिनरी ट्रैक्‍ट इन्‍फेक्‍शन (यूटीआई) तब होता है जब यूरिनरी सिस्‍टम का कोई भी भाग जैसे किडनी, ब्‍लैडर या यूरेथ्रा बैक्टीरिया से इन्फेक्टेड हो जाते हैं और यह प्रेग्‍नेंसी के दौरान आम होता है। जी हां प्रेग्‍नेंसी के दौरान महिलाओं को बहुत सारी समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है और यूटीआई की समस्‍या उनमें से एक है। इस समस्‍या का सामना प्रेग्‍नेंसी के दौरान ज्‍यादातर महिलाओं को करना पड़ता है। आइए इस आर्टिकल के माध्‍यम से प्रेग्‍नेंसी के दौरान होने वाले यूटीआई इन्‍फेक्‍शन के लक्षण और बचाव के तरीकों के बारे में एक्‍सपर्ट से जानते हैं। 

प्रेग्‍नेंसी के दौरान यूटीआई होना इतना आम क्‍यों है?

  • प्रेग्‍नेंसी के दौरान हार्मोंस के कारण यूरिनरी ट्रैक्‍ट में परिवर्तन होता है और इससे महिलाओं में इन्‍फेक्‍शन होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। 
  • जैसे-जैसे यूट्रस बढ़ता है, वैसे-वैसे उसका बढ़ा हुआ वजन ब्‍लैडर पर प्रेशर डालता है। ऐसे में ब्‍लैडर से एक साथ सारा यूरिन निकाल पाना कठिन हो जाता है। बचा हुआ यूरिन ही इन्‍फेक्‍शन का स्रोत हो सकता है।

प्रेग्‍नेंसी के दौरान यूटीआई के लक्षण

अगर आपको यूटीआई है तो आप अनुभव कर सकती हैं:

  • तेज यूरिन आना या बार-बार यूरिन आना। 
  • यूरिन के दौरान दर्द और जलन होना। 
  • पेट के निचले हिस्‍से में ऐंठन और दर्द होना।
  • पीले रंग का, बदबूदार और सामान्‍य से स्‍ट्रॉन्‍ग यूरिन होना। 
  • यूरिन में ब्‍लड या बलगम आना। 
  • सेक्‍शुअल इंटरकोर्स के दौरान दर्द होना। 
  • यूरिन करने के लिए नींद से जागना।
  • अधिक या कम, यूरिन की मात्रा में बदलाव।
  • ब्‍लैडर के एरिया में दर्द, प्रेशर या टेंडरनेस। 

अगर बैक्‍टीरिया किडनी में फैल जाता है तो पीठ दर्द, सर्दी, बुखार, मतली और उल्टी जैसी दिक्‍कतों का सामना करना पड़ सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: लिनिया नाइग्रा- प्रेग्‍नेंसी के दौरान पेट पर क्‍यों दिखाई देती है काली रेखा

uti during pregnancy inside

डायग्नोसिस और ट्रीटमेंट

  • बैक्‍टीरिया और रेड एवं व्‍हाइट ब्‍लड सेल्‍स को जांचने के लिए यूरिन टेस्‍ट करवाया जाता है। यूरिन में किस तरह के बैक्‍टीरिया हैं यह देखने के लिए यूरिन कलचर टेस्‍ट भी करवाया जा सकता है। 
  • यूटीआईज में आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं द्वारा इलाज किया जाता है। डॉक्‍टर आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं का 3-7 दिन का कोर्स करवाते हैं जो आपके और बच्‍चे दोनों के लिए सुरक्षित होता है।
  • इनमें से अधिकांश इन्‍फेक्‍शन्‍स ब्‍लैडर और यूरेथ्रा तक सीमित होते हैं। हालांकि अगर यूटीआई का ट्रीटमेंट न करवाया जाए तो कुछ समय बाद यह किडनी इंफेक्‍शन का कारण बन सकता है। यूटीआई से किडनी इन्‍फेक्‍शन की स्थिति में प्रीटर्म लेबर और जन्‍म के वक्‍त बच्‍चे का कम वजन का होना जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं।

Recommended Video

यूटीआईज से कैसे बचें?

  • दिन-भर में कम से कम 8 ग्‍लास पानी या फ्लूइड्स जरूर पीएं। 
  • जैसे ही आपको यूरिन जाने की जरूरत महसूस हो आपको यूरिन करने की आदत विकसित करें और अपना पूरा ब्‍लैडर खाली कर देना चाहिए। 
  • यूरिन करने के बाद वेजाइना को पोछ कर सुखा लें और जेनिटेल एरिया को साफ रखें। इस बात का ध्‍यान रखें कि आपको फ्रंट से बैक की ओर पोछना है।
  • सेक्सुअल एक्‍टिव होने से पहले और बाद में अपने ब्‍लैडर को खाली करें।
  • जब आप बाहर हों और पब्लिक टॉयलेट्स का उपयोग करने की आवश्यकता हो तो बैक्टीरिया से बचने के लिए टॉयलेट सीट कवर, या टॉयलेट सीट कवर पर कीटाणुनाशक स्प्रे का उपयोग करना उचित होता है।
  • टीनएज अवस्‍था से ही मेंस्ट्रुअल हाइजीन बनाए रखने की आवश्‍यकता है।
  • यूरिनरी ट्रैक्‍ट में फैलने वाले बैक्‍टीरिया से बचने के लिए महिलाओं को हर 6 घंटे में एक बार अपना सैनिटरी नैपकिन जरूर बदलना चाहिए। 
  • अगर आपको सेक्‍शुअली रिलेशन के दौरान लुब्रिकेंट की आवश्यकता होती है तो वॉटर-बेस्‍ड चुनें।
  • जलन पैदा करने वाले स्ट्रॉन्ग डियोड्रेंट्स और साबुन से बचें। 
  • कॉटन की अंडरवियर पहनें और उन्हें रोज़ाना बदलें।
  • नहाने के बजाय शॉवर लेना बेहतर रहता है।
  • टाइट पैंट्स पहनने से बचें। 
  • अपनी डाइट से रिफाइंड फूड्स, फलों के रस, कैफीन, शराब और चीनी को हटा दें।
  • यूटीआई के लिए इलाज के दौरान तो सेक्‍शुअली रिलेशन से बचें।

निष्‍कर्ष

प्रेग्नेंसी के दौरान यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स आम हैं। सभी यूटीआईज में लक्षण नहीं दिखते हैं लेकिन प्रेग्नेंसी के समय बिना लक्षणों वाले यूटीआईज का इलाज करना बहुत जरूरी है ताकि आगे चलकर कोई समस्या न आए। इसका मतलब है सभी प्रेग्नेंट महिलाओं को प्रेग्नेंसी की शुरुआत में ही यूटीआई का टेस्ट करवा लेना चाहिए। अगर सही समय पर इलाज हो गया तो आप और आपका बच्चा दोनों ही किसी भी तरह की कॉमप्लिकेशन्स से बच सकते हैं। 

एक्‍सपर्ट सलाह के लिए डॉक्‍टर संपत कुमारी (एमडी, डीजीओ, एफआईसीओजी, एफसी डायब, एफआईएमई) का विशेष धन्‍यवाद। 

References

https://www.healthnavigator.org.nz/health-a-z/u/uti-in-pregnancy/

https://americanpregnancy.org/pregnancy-complications/urinary-tract-infections-during-pregnancy/

https://emedicine.medscape.com/article/452604-overview