बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन से साइनस में सूजन आ सकती है, जो साइनसाइटिस की ओर ले जाती है। जिन महिलाओं का इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होता है, उनमें बैक्टीरिया या फंगल साइनस इंफेक्‍शन होने की संभावना अधिक होती है। एलर्जी से परेशान कुछ महिलाओं को भी एलर्जी साइनस इंफेक्‍शन होने का खतरा होता है। साइनसाइटिस का एक्‍यूट मामला तीन से आठ सप्ताह की अवधि तक रह सकता है और बहुत क्रोनिक साबित हो सकता है।

लक्ष्मण योगा एंड पिलाटे्स के फाउंडर और योग और पिलाटे्स के एक्‍सपर्ट भवानी पिनिसेटी का कहना है, "जबकि किसी को निश्चित रूप से साइनसिसिटिस निदान के लिए चिकित्सा मार्गदर्शन लेना चाहिए, लेकिन कुछ योग अभ्यास प्रभावी ढंग से राहत प्रदान करने में मदद कर सकते हैं और साथ ही कंडीशन के खिलाफ बेहतर इम्‍यूनिटी बनाने में मदद कर सकते हैं।"

जल नेति

jala neti

यह नासिका मार्ग को साफ करने का योगिक तरीका है। पिनिसेटी ने बताया कि "इसका मन, शरीर और आपके व्यक्तित्व पर बहुत बड़ा शारीरिक प्रभाव पड़ता है। शारीरिक रूप से, नाक के श्लेष्म की सिंचाई से नाक से संचित बलगम को हटाने में मदद मिलती है, जो साइनस और मार्ग से जुड़ा होता है। यह बिना किसी रुकावट के हवा को बहने की अनुमति देता है।''

"यदि आप नियमित रूप से जल नेति का अभ्यास करती हैं, तो यह पूरे कान, नाक और गले के क्षेत्र के स्वस्थ स्रावी और जल निकासी तंत्र को बनाए रखने में मदद करता है। यह खांसी और एलर्जीय राइनाइटिस को दूर करने में मदद करता है। नेति आपके चेहरे से मसल्‍स को राहत देने के लिए बहुत अच्छा है और यह चेहरे का यौवन बनाए रखने में मदद करता है।''  

"नेति का अभ्यास करके, आप उस संचित भावनात्मक तनाव को मुक्त कर सकते हैं और यह अवसाद, चिंता, मिर्गी और हिस्टीरिया के इलाज के लिए बहुत अच्छा है। नेति अभ्यास बाएं और दाएं नथुने को संतुलित करने में मदद करता है।"

इसे जरूर पढ़ें:आखिर क्यों बार-बार बढ़ता है साइनस, एक्सपर्ट से जानें इसे ठीक करने के उपाय

नेति कैसे करें?

jala neti

  • इसे करने के लिए बैठे या खड़ी हो जाएं। 
  • स्टेराइल गुनगुने पानी से भरे एक नेति बर्तन में एक चुटकी नमक डालें। 
  • अपने दाहिने हाथ में बर्तन को पकड़ लें।
  • फिर दाहिने नथुने में नोजल डालें और सांस लेने के लिए अपना मुंह खुला रखें।
  • अपने सिर को थोड़ा पीछे की ओर झुकाएं, फिर आगे की ओर और फिर बाई ओर बग़ल में, ताकि बर्तन से पानी दाहिनी नासिका में प्रवेश करें और बाईं ओर से बाहर आएं।
  • ऐसा तब तक करें जब तक कि बर्तन खाली न हो जाए और बाईं ओर भी ऐसा ही दोहराएं।

जल नेति के लिए याद रखने योग्य बातें

  • अगर आपको हाल ही में कान में इंफेक्‍शन या नाक के स्टेंट का ऑपरेशन हुआ है तो इससे बचें।
  • अगर आपको नाक से खून बह रहा है तो कुछ दिनों के लिए नेति करने से बचें।
  • शुरुआत में आप इसे रोजाना दो से तीन महीने तक अभ्यास कर सकती हैं और फिर इसे हफ्ते में तीन बार कर सकती हैं।
 

साइनस के लिए योग

yoga health benefits

साइनस के लिए उनके द्वारा सुझाए गए कुछ योग प्रबंधन सुझाव यहां दिए गए हैं-

  • आसन:पवनमुक्तासन का अभ्यास करें क्योंकि यह भुजंगासन, सेतुबंधासन, उष्ट्रासन के साथ सबसे अच्छी श्रृंखला है। व्यक्तिगत क्षमतानुसार इनका एक से तीन बार अभ्यास करें।
  • प्राणायाम: भस्त्रिका, 50 सांसों के 5 राउंड तक करें।
  • षट्कर्म: जलनेति
  • विश्राम: योग निद्रा का अभ्यास प्रतिदिन किया जाना चाहिए क्योंकि यह गहन आराम देने वाला और अत्यधिक चिकित्सीय है।

साइनस से परेशान महिलाएं इन योग टिप्‍स को अपना सकती हैं। इसलिए अपना ख्याल रखें और स्वास्थ्य और फिटनेस के बारे में अधिक जानकारी के लिए हर जिंदगी के साथ बने रहें।